मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

भारत-यूरोपीय संघ के नेताओं की बैठक पर संयुक्त वक्तव्य (मई 08, 2021)

मई 08, 2021

भारत-यूरोपीय संघ में रणनीतिक साझेदारी प्रदान करना

1.यूरोपीय संघ (ईयू) तथा उसके सदस्य देशों तथा भारत के नेताओं ने पोर्टो में 8 मई 2021 को हाइब्रिड प्रारूप में मुलाकात की। आज बैठक में लोकतंत्र के हमारे साझा हितों, सिद्धांतों तथा मूल्यों, स्वतंत्रता, विधि द्वारा शासन तथा मानवाधिकारों के सम्मान पर प्रकाश डाला गया, जो हमारी रणनीतिक साझेदारी को रेखांकित करते हैं।

2. हमने ध्यान दिया कि आज की बैठक, 2000 में पहले भारत-यूरोपीय संघ शिखर सम्मेलन के बाद से एक निर्णायक क्षण को दर्शाती है तथा हमारे लोगों के लिए बेहतर भविष्य के प्रति हमारे संबंधों को और मजबूत करती है। हमने हाल के दिनों में अपनी साझेदारी में की गई प्रगति तथा जुलाई 2020 में पिछले शिखर सम्मेलन द्वारा प्रदान की गई मजबूत गति की सराहना की। इस संबंध में, हम भारत-यूरोपीय संघ रोडमैप 2025 में निर्धारित कार्यों के कार्यान्वयन के साथ-साथ आज लिए गए नए निर्णयों को आगे बढ़ाने पर सहमत हुए।

3. हम इस बात पर सहमत हुए कि, विश्व के दो सबसे बड़े लोकतंत्रों के रूप में, भारत तथा यूरोपीय संघ का बहु-ध्रुवीय विश्व में सुरक्षा, समृद्धि तथा सतत विकास सुनिश्चित करने में समान हित है। हम इन अभिसरणों पर निर्माण करने और सतत विकास और पेरिस समझौते के लिए 2030 एजेंडा के अनुरूप एक सुरक्षित, हरित, स्वच्छ, अधिक डिजिटल, लचीला तथा स्थिर विश्व में संयुक्त रूप से योगदान करने के लिए नए तालमेल को बढ़ावा देने पर सहमत हुए।

4. हमने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के मूल में, और इसके केंद्र में विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के साथ एक स्थिर व्यापार वातावरण सुनिश्चित करने के लिए वर्तमान तथा भविष्य की वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए प्रभावी तथा समावेशी नियम आधारित बहुपक्षीयता के महत्व को रेखांकित किया, । इस संदर्भ में हमने एक सुधार, नवीनीकृत तथा प्रभावी बहुपक्षीय प्रणाली की आवश्यकता पर चर्चा की, जो इस उद्देश्य के लिए उपयुक्त है तथा समकालीन वास्तविकताओं को दर्शाती है। 2021-2022 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में और 2019-2021 में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत की सदस्यता, तथा 2023 में इसके आगामी जी-20 अध्यक्षता के लिए अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में हमारे सहयोग को और बढ़ावा देने, अंतरराष्ट्रीय कानून की रक्षा करने और मजबूत करने, पेरिस समझौते के लक्ष्यों और सतत विकास लक्ष्यों की उपलब्धि को आगे बढ़ाने तथा बहुपक्षीय संगठनों के आवश्यक सुधारों का समर्थन करने के लिए महत्वपूर्ण अवसर हैं।

वैश्विक स्वास्थ्य तैयारी तथा बीमारी से लड़ने की क्षमता का निर्माण – कोविड-19 और उससे आगे

5. हमने महामारी के कारण विश्व स्तर पर कठिन परिस्थितियों को स्वीकार किया। हमने जनहानि पर गहरा शोक व्यक्त किया तथा भारत, यूरोप और शेष विश्व में इस महामारी के पीड़ितों के परिवारों के साथ गहरी सहानुभूति व्यक्त की। हम इस बात पर सहमत हुए कि वैश्विक सहयोग तथा एकजुटता के माध्यम से कोविड-19 महामारी को हराना हमारी प्राथमिकता बनी हुई है तथा रोम में इस वर्ष के जी-20 शिखर सम्मेलन के संदर्भ में एक बेहतर, सुरक्षित, सतत और समावेशी पुनः प्राप्ति सुनिश्चित करने के लिए मिलकर कार्य करने की हमारी प्रतिबद्धता को रेखांकित किया। हमने कोविड-19 टीकों, निदान तथा उपचारों और स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत करने के लिए सार्वभौमिक, सुरक्षित, न्यायसंगत तथा सस्ती पहुंच का समर्थन किया और इस संबंध में कोविड-19 टूल्स एक्सीलरेटर (अधिनियम-ए) तक पहुंच की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार किया। व्यापक प्रतिरक्षण की भूमिका को एक वैश्विक सार्वजनिक भलाई के रूप में स्वीकार करते हुए तथा यह सहमति व्यक्त की कि टीकाकरण प्रक्रिया देशों के बीच एक दौड़ नहीं है बल्कि समय के विरुद्ध एक दौड़ है, हमने यूरोपीय संघ तथा उसके सदस्य देशों के टीकों के उत्पादन में उनके योगदान तथा कोवैक्स सुविधा के लिए उनके पर्याप्त समर्थन का स्वागत किया, साथ ही भारत के अपने ' वैक्सीन मैत्री ' के माध्यम से 90 से अधिक देशों को कोविड-19 टीकों का उत्पादन और वितरण करने के प्रयासों का स्वागत किया। भारत ने यूरोपीय संघ के नागरिक सुरक्षा तंत्र के माध्यम से समन्वित यूरोपीय संघ तथा उसके सदस्य देशों के त्वरित समर्थन और सहायता की सराहना की, इस प्रकार एकजुटता और सहयोग की भावना को ध्यान में रखते हुए जो भारत-यूरोपीय संघ के संबंधों की पहचान रही है।

6. हम बेहतर के लिए तैयार करने तथा वैश्विक स्वास्थ्य आपात स्थिति का जवाब देने के लिए एक साथ कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध है। हम लचीला चिकित्सा आपूर्ति श्रृंखला, टीके तथा सक्रिय फार्मास्यूटिकल सामग्री (एपीआई) पर सहयोग करने पर सहमत हुए, तथा उच्च गुणवत्ता और उत्पादों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय अच्छे विनिर्माण मानकों के आधार पर।

7. हम विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की तैयारी और स्वास्थ्य आपात स्थिति के प्रति प्रतिक्रिया को मजबूत करने तथा डब्ल्यूएचओ में सुधार करके वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यूरोपीय संघ ने भारत को डब्ल्यूएचओ के ढांचे के भीतर महामारी पर एक अंतरराष्ट्रीय संधि की दिशा में कार्य करने के लिए आमंत्रित किया। इस संदर्भ में, हम 21 मई 2021 को रोम में एक सफल वैश्विक स्वास्थ्य शिखर सम्मेलन के लिए तत्पर हैं, जिसे जी-20 के ढांचे में यूरोपीय संघ तथा इटली द्वारा सह-मेजबानी की गई है। हमने डब्ल्यूएचओ, खाद्य तथा कृषि संगठन, विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन तथा संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम द्वारा प्रचारित "एक स्वास्थ्य" दृष्टिकोण के महत्व पर प्रकाश डाला, विशेष रूप से पोषण तथा खाद्य सुरक्षा, मानव-पशु संक्रामक रोगों तथा एंटीबायोटिक प्रतिरोध तथा प्रासंगिक प्रक्रियाओं में नीति-निर्माण प्रक्रियाओं में इसके एकीकरण के संबंध में।

धरती का संरक्षण तथा हरित विकास को बढ़ावा देने में

8.हमने जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता का नुकसान तथा प्रदूषण पर निर्भर चुनौतियों का तत्काल समाधान करने और आगामी जैव विविधता कॉप-15, जलवायु कॉप-26 तथा दूसरे संयुक्त राष्ट्र महासागर सम्मेलन की सफलता में योगदान देने के लिए अपनी प्रतिबद्धता की पुन पुष्टि की। जैव विविधता के संबंध में, हमने प्रकृति और लोगों के लिए उच्च महत्वाकांक्षा गठबंधन को मान्यता दी तथा स्वागत किया और हम स्पष्ट और मजबूत लक्ष्यों तथा संकेतकों और कॉप-15 में एक कार्यान्वयन तंत्र के साथ 2020 के महत्वाकांक्षी और परिवर्तन के बाद वैश्विक जैव विविधता ढांचे के विकास और पूर्ण कार्यान्वयन के लिए संयुक्त रूप से कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमने महासागरीय पर्यावरण की रक्षा तथा प्लास्टिक प्रदूषण को कम करने में सहयोग तीव्र करने के महत्व पर बल दिया। इस संदर्भ में, यूरोपीय संघ ने भारत को प्रकृति के लिए नेताओं के वचन के समर्थन और वैश्विक प्लास्टिक समझौते पर बातचीत पर समान विचारधारा वाले देशों के साथ प्रभावी जुड़ाव पर विचार करने के लिए आमंत्रित किया।

9. जलवायु परिवर्तन के संबंध में, हमने पेरिस समझौते के लक्ष्यों को प्राप्त करने के महत्व पर बल दिया, जिसमें जलवायु परिवर्तन मे कमी को मजबूत करना और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के लिए अनुकूलन तथा लचीलापन, वित्त सहित कार्यान्वयन के साधन उपलब्ध कराना और बिना किसी देरी के उन्हें पूरी तरह से लागू करना शामिल है। कॉप-26 हमारे राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान के महत्वाकांक्षी कार्यान्वयन के माध्यम से पेरिस समझौते के लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में प्रगति प्रदर्शित करने का अवसर है। इस संदर्भ में, हमने प्रत्येक पक्ष के नेतृत्व और प्रगति का स्वागत किया है, क्योंकि पेरिस समझौते को अपनाया गया था, नीतियों और योजनाओं की घोषणा करने में, जैसा कि वे लागू कर रहे हैं, महत्वपूर्ण अतिरिक्त उत्सर्जन में कटौती करने के लिए नेतृत्व करेंगे। हम पेरिस समझौते को लागू करने में हम जो प्रगति कर रहे हैं, उसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ साझा करना जारी रखेंगे और दूसरों को भी ऐसा ही करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। हमने कोएलिशन फॉर डिजास्टर रेसिलिएंट इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए गठबंधन की यूरोपीय संघ की सदस्यता तथा अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन को इसके समर्थन के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन के अंतर्गत सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने में भारत के नेतृत्व का स्वागत किया।

।10. हमने नेताओं की बैठक की तैयारी में 28 अप्रैल 2021 को आयोजित जलवायु परिवर्तन पर भारत-यूरोपीय संघ की उच्चस्तरीय वार्ता की पहली बैठक का स्वागत किया। इस वार्ता ने भारत-यूरोपीय संघ की स्वच्छ ऊर्जा तथा जलवायु भागीदारी के अंतर्गत हमारे मजबूत सहयोग को चिह्नित करने का अवसर प्रदान किया। हम भारत-यूरोपीय संघ ऊर्जा पैनल द्वारा साझेदारी के लिए एक नए कार्य कार्यक्रम को अपनाने और नवीकरणीय ऊर्जा की तैनाती में तेजी लाने, ऊर्जा दक्षता को बढ़ावा देने, स्मार्ट ग्रिड तथा भंडारण प्रौद्योगिकी पर सहयोग करने और बिजली बाजार को आधुनिक बनाने के लिए अपने सहयोग को मजबूत करने के लिए तत्पर हैं। साझेदारी के नए कार्य कार्यक्रम के माध्यम से, हम अपतटीय पवन जैसी नवीन नवीकरणीय प्रौद्योगिकियों को तैनात करने के साथ-साथ विशेष रूप से नवीकरणीय स्रोतों और बिजली के अंतर-कनेक्शनों से हाइड्रोजन की क्षमता का दोहन करने के लिए सहयोग बढ़ाएंगे ताकि नवीकरणीय बिजली के बड़े शेयरों का लागत प्रभावी एकीकरण हो सके। हम औद्योगिक क्षेत्र को डीकार्बोनेट करने, परिवहन क्षेत्र के विद्युतीकरण की प्रक्रिया में और तेजी लाने, शीतलन तथा कोल्ड चेन क्षेत्रों की दक्षता में सुधार करने, जलवायु परिवर्तन के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने तथा सतत वित्त और निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए मिलकर कार्य करने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं। हम अनुकूलन तथा लचीलापन पर सबक साझा करने के लिए जारी रखने पर सहमत हुए। हमने माना कि हम यह सुनिश्चित करने के लिए गहरी प्रतिबद्धता साझा करते हैं कि कम कार्बन भविष्य के प्रति परिवर्तन हमारे समाजों के भीतर न्यायसंगत तथा समान है और साथ ही इस संबंध में सबक साझा करना है।

11. उपरोक्त के आलोक में, हम भारत-यूरोपीय संघ ऊर्जा पैनल की अगली बैठक यथाशीघ्र आयोजित करने पर सहमत हुए। हम जलवायु परिवर्तन पर भारत-यूरोपीय संघ की उच्चस्तरीय वार्ता को नियमित आधार पर फिर से बुलाने और संबंधित घटनाओं की व्यवस्था करने पर सहमत हुए जो हमें दोनों पक्षों के प्रासंगिक प्राधिकरणों के साथ अपनी साझेदारी में भागीदारी को व्यापक बनाने, सर्वोत्तम उपलब्ध प्रौद्योगिकियों पर बातचीत बढ़ाने के साथ-साथ यूरोपीय संघ के सभी सदस्य देशों के साथ जुड़ाव के लिए एक मंच प्रदान करने में सक्षम बनाते हैं।

12. हमने ऋण तथा इक्विटी निवेश के साथ-साथ यूरोपीय संघ के सदस्य देशों के विकास बैंकों के माध्यम से यूरोपीय निवेश बैंक (एआईबी) के भारत में बढ़ती गतिविधि का स्वागत किया, जिसमें नवीकरणीय ऊर्जा और हरित शहरी गतिशीलता, अर्थव्यवस्था का डिजिटलीकरण, छोटे तथा मध्यम उद्यम और स्वास्थ्य क्षेत्र शामिल हैं। हमने पर्यावरण की दृष्टि से सतत निवेशों की दिशा में निजी पूंजी की लामबंदी को बढ़ाने के लिए सतत वित्त पर अंतरराष्ट्रीय मंच के चल रहे महत्वपूर्ण कार्य को मान्यता दी।

13. हम अपनी अर्थव्यवस्थाओं के सतत आधुनिकीकरण के समर्थन में अपनी साझेदारी को और बढ़ाने पर सहमत हुए। हम प्रासंगिक नियामक दृष्टिकोणों, बाजार आधारित उपकरणों तथा व्यापार मॉडलों पर द्विपक्षीय आदान-प्रदान को तेज करने के लिए नई परिपत्र अर्थव्यवस्था तथा संसाधन दक्षता साझेदारी के कार्यान्वयन में तेजी लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यूरोपीय संघ ने भारत को सर्कुलर इकोनॉमी एंड रिसोर्स एफिशिएंसी पर ग्लोबल एलायंस में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया।

14. हम भारत-यूरोपीय संघ जल भागीदारी के ढांचे में जल प्रबंधन पर अपने सहयोग को बढ़ाने पर सहमत हुए, विशेष रूप से जल प्रदूषण से निपटने के लिए, जल से संबंधित सतत विकास लक्ष्यों के अनुरूप तथा जलवायु परिवर्तन के संदर्भ में जल चुनौतियों से निपटने के महत्व को रेखांकित किया। हम वायु प्रदूषण को दूर करने के लिए सहयोग को भी बढ़ावा देंगे।

15. हम आगामी संयुक्त राष्ट्र खाद्य प्रणाली शिखर सम्मेलन तथा शिखर सम्मेलन पूर्व परामर्ंोा को ध्यान में रखते हुए सतत खाद्य प्रणालियों सहित खाद्य, पोषण तथा कृषि पर बारीकी से सहयोग करेंगे। हम स्मार्ट तथा सतत शहरीकरण पर अपनी साझेदारी को आगे बढ़ाने पर सहमत हुए तथा भारत में स्मार्ट तथा सतत शहरों के विकास सहित पहचाने गए प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने, सतत गतिशीलता, नवाचार तथा शहरी ई-गवर्नेंस पर ध्यान केंद्रित करने, क्लाइमेट स्मार्ट सिटीज एलायंस के अंतर्गत शहरों में जलवायु कार्रवाई के साथ-साथ शहरी जल संघ की स्थापना पर विचार करने के उद्देश्य से नई समर्पित संयुक्त कार्य योजना का स्वागत किया।

व्यापार, संपर्क तथा प्रौद्योगिकी के माध्यम से समावेशी विकास को बढ़ावा देना

16. हम अपने व्यापार और निवेश संबंधों को बढ़ाने के लिए अपनी अप्रयुक्त क्षमता को साकार करने पर सहमत हुए इस प्रकार समावेशी और टिकाऊ आर्थिक विकास और COVID-19 महामारी से वसूली में योगदान । हम बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली के सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने सहित इस संबंध को गहरा करने की अपनी संयुक्त जिम्मेदारी के प्रति सचेत हैं। हमने व्यापार तथा निवेश पर उच्चस्तरीय वार्ता की पहली दो बैठकों के आयोजन का स्वागत करते हुए कहा कि हमारे आर्थिक सहयोग को मजबूत करने के लिए अग्रसर आदान-प्रदान के लिए एक मंच है।

17. हम एक संतुलित, महत्वाकांक्षी, व्यापक तथा पारस्परिक रूप से लाभप्रद व्यापार समझौते के लिए बातचीत फिर से शुरू करने पर सहमत हुए जो वर्तमान चुनौतियों का जवाब देगा। हम इस बात पर सहमत हुए कि वार्ताओं के लिए आवश्यक सकारात्मक गतिशील बनाने के लिए लंबे समय से चले आ रहे बाजार पहुंच के मुद्दों का समाधान ढूंढना अनिवार्य है। हम एक स्टैंड-अलोन निवेश संरक्षण समझौते पर बातचीत शुरू करने पर भी सहमत हुए। हम भौगोलिक संकेतों पर एक अलग समझौते पर बातचीत शुरू करने पर भी सहमत हुए, जिसे बातचीत की गति के आधार पर व्यापार समझौते में अलग से या एकीकृत किया जा सकता है।

हमने उन क्षेत्रों में तेजी से जुड़ाव की क्षमता और जरूरत की पुष्टि की जहां दोनों पक्षों ने आर्थिक सहयोग को गहरा करने के लिए रुचि साझा की। इस उद्देश्य के लिए, हम वस्तुओं और सेवाओं पर नियामक सहयोग को तीव्र करने के लिए एक संयुक्त कार्य समूह बनाने पर सहमत हुए, जो हरित तथा डिजिटल प्रौद्योगिकियों तक सीमित नहीं है। अन्य बातों के साथ-साथ, जो अनुभव हमने कोविड-19 महामारी से प्राप्त किया है उसके आधार पर हमनें लचीला आपूर्ति श्रृंखलाओं पर एक संयुक्त कार्य दल स्थापित करने पर भी सहमत हुए।

व्यापार तथा निवेश पर उच्चस्तरीय वार्ता को बाजार पहुंच के मुद्दों पर प्रगति सुनिश्चित करने और बातचीत की निगरानी करने के साथ-साथ नियामक पहलुओं तथा लचीला मूल्य श्रृंखलाओं पर सहयोग पर प्रगति को समीक्षा के अंतर्गत रखने का कार्य सौंपा गया है।

18. हम वैश्विक आर्थिक शासन पर समन्वय में वृद्धि करेंगे, विशेष रूप से विश्व व्यापार संगठन में और जी-20 में। विशेष रूप से, हम व्यापार तथा निवेश पर उच्चस्तरीय वार्ता की देखरेख में विश्व व्यापार संगठन में मुद्दों पर द्विपक्षीय सहयोग को गहरा करने के लिए भारत-यूरोपीय संघ के वरिष्ठ अधिकारियों की वार्ता स्थापित करने पर सहमत हुए। इस वार्ता का उद्देश्य विशेष रूप से नवंबर 2021 में विश्व व्यापार संगठन के 12वें मंत्रिस्तरीय सम्मेलन (एमसी12) में सकारात्मक तथा ठोस परिणामों में योगदान देना होगा। एमसी12 से परे, यह विश्व व्यापार संगठन के बहुत जरूरी सुधार पर चर्चा के लिए एक महत्वपूर्ण मंच होगा ताकि इसकी निरंतर प्रासंगिकता सुनिश्चित की जा सके।

19. हमने यूरोपीय संघ और भारतीय व्यवसायों के बीच बातचीत को प्रोत्साहित किया, जैसे कि बिजनेस गोलमेज सम्मेलन के माध्यम से, और कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व, व्यापार और मानवाधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र के मार्गदर्शक सिद्धांतों और पेरिस समझौते के लक्ष्यों और सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में व्यापार और नवाचार के अवसरों के महत्व पर बल दिया ।

20. हमने आज एक टिकाऊ और व्यापक कनेक्टिविटी साझेदारी शुरू की जो अंतरराष्ट्रीय कानून को बरकरार रखती है, अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुरूप है और लोकतंत्र, स्वतंत्रता, कानून के शासन और अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं के सम्मान के साझा मूल्यों की पुष्टि करती है। हमारी साझेदारी एक पारदर्शी, व्यवहार्य, समावेशी, सतत, व्यापक तथा नियम आधारित संपर्क को बढ़ावा देगी। यह सामाजिक, आर्थिक, राजकोषीय, जलवायु तथा पर्यावरणीय स्थिरता के सिद्धांतों और आर्थिक परिचालकों के लिए समान अवसर पर आधारित है। सतत संपर्क में बड़े पैमाने पर निजी निवेश को सुगम बनाने के संदर्भ में, हमने प्रासंगिक अंतरराष्ट्रीय मानकों को लागू करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की, जिसमें बाजारों तक पारस्परिक पहुंच सुनिश्चित करना शामिल है। हमने गुणवत्तापूर्ण बुनियादी ढांचे के निवेश के लिए जी-20 सिद्धांतों से संबंधित कार्य को आगे बढ़ाने के महत्व को पहचाना तथा सतत वित्तपोषण के लिए जी-20 परिचालन दिशानिर्देशों के कार्यान्वयन के दूसरे स्वैच्छिक स्व-मूल्यांकन के शुभारंभ का स्वागत किया। हमारा उद्देश्य डिजिटल, ऊर्जा, परिवहन और लोगों से लोगों के बीच संपर्क बनाने के लिए तीसरे देशों तथा क्षेत्रों, विशेष रूप से अफ्रीका, मध्य एशिया तथा हिंद-प्रशांत क्षेत्र सहित परियोजनाओं के माध्यम से हमारे बीच सहयोग को बढ़ावा देना है। इस संबंध में, हमने निजी क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका तथा अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए निजी वित्तपोषण को सक्षम करने के महत्व को स्वीकार किया। यह साझेदारी सतत बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को बढ़ावा देने के लिए एआईबी तथा यूरोपीय संघ के सदस्य देशों तथा भारत के सार्वजनिक और निजी वित्तीय संस्थानों सहित बहुपक्षीय विकास बैंकों के कार्य के साथ हमारे प्रयासों में तालमेल करेगी।

21. हम अंतरिक्ष तथा परिवहन पर अपना सहयोग जारी रखेंगे तथा प्रतिबंधों और दोहराव को समाप्त करने सहित उचित तथा न्यायसंगत तरीके से हवाई संपर्क बढ़ाने के लिए भारत-यूरोपीय संघ विमानन शिखर सम्मेलन के लिए तत्पर हैं। हम रेलवे, बंदरगाहों तथा नौवहन क्षेत्रों की हरियाली तथा नागरिक उड्डयन के विकार्बनीकरण जैसे साझा हित के मामलों पर और ठोस सहयोग की खोज करने के लिए तत्पर हैं।

22. हम गुणवत्तापूर्ण नौकरियां पैदा करने तथा नागरिकों के जीवन में सुधार करने के लिए डिजिटल परिवर्तन को आगे बढ़ाने के लिए कृतसंकल्प हैं। हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर संयुक्त टास्क फोर्स के शीघ्र परिचालन के लिए तत्पर हैं। हमने वैश्विक डिजिटल मानकों तथा नेटवर्क सुरक्षा पर घनिष्ठ सहयोग का स्वागत किया तथा इसे 5G प्रौद्योगिकी के संबंध में और 5G से आगे बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की। हम क्वांटम तथा उच्च प्रदर्शन कंप्यूटिंग पर तकनीकी सहयोग को गहरा करने पर सहमत हुए तथा इस वर्ष के अंत में एक परिणाम उन्मुख उच्च स्तरीय भारत-यूरोपीय संघ डिजिटल निवेश मंच के लिए तत्पर हैं। हम अपने नियामक ढांचे के बीच अभिसरण को बढ़ाने तथा हमारे बीच सुरक्षित सीमा पार डेटा प्रवाह को सुगम बनाने की दृष्टि से संभावित डेटा पर्याप्तता निर्णयों सहित व्यक्तिगत डेटा तथा गोपनीयता की उच्च स्तरीय सुरक्षा सुनिश्चित करने पर सहमत हुए। हमने सार्वजनिक क्षेत्र के डिजिटलीकरण के महत्व तथा मानव केंद्रित मंच सेवाओं सहित ई-गवर्नेंस समाधानों को तेज करने में सहायता करने के लिए सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने पर जोर दिया।

23. हमने भौगोलिक संकेतों की रक्षा करने में अपने पारस्परिक हित को मान्यता दी । इस संबंध में हमने भौगोलिक संकेतों की सुरक्षा पर संतुलित द्विपक्षीय समझौते के फायदों को रेखांकित किया । हम यूरोपीय संघ के बौद्धिक संपदा कार्यालय और उद्योग और आंतरिक व्यापार को बढ़ावा देने के विभाग के बीच समझौता ज्ञापन के शीघ्र समापन के लिए तत्पर हैं ।

24. हमने शिक्षा, अनुसंधान, विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी, सूचना प्रौद्योगिकी, पर्यावरण, जलवायु, स्वास्थ्य देखभाल, व्यापार तथा पर्यटन जैसे क्षेत्रों सहित व्यावसायिक गतिविधियों में लोगों के बीच आदान-प्रदान को प्रोत्साहित किया। हम प्रवासन तथा गतिशीलता पर साझा एजेंडे के सभी स्तंभों पर घनिष्ठ तथा व्यापक सहयोग के लिए प्रतिबद्ध हैं, तथा हम प्रवासन और गतिशीलता पर उच्च स्तरीय वार्ता के अंतर्गत अपने संबंधों को जारी रखेंगे।

25. हमने इरासमस + के अंतर्गत तथा सांस्कृतिक आदान-प्रदान की प्रासंगिकता सहित उच्च शिक्षा पर सकारात्मक सहयोग पर भी प्रकाश डाला। हम शोधकर्ताओं की संतुलित दोनों तरफ से गतिशीलता हासिल करने पर भी सहमत हुए।

26. भारत-यूरोपीय संघ विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी समझौते के अंतर्गत हासिल की गई अच्छी प्रगति पर निर्माण, हम विशेष रूप से हरित संक्रमण, डिजिटल एजेंडा तथा वैश्विक स्वास्थ्य चुनौतियों पर अनुसंधान तथा नवाचार पर बढ़े हुए प्रयासों के माध्यम से समग्र भारत-यूरोपीय संघ रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने के उद्देश्य से पारस्परिक हित के क्षेत्रों में अनुसंधान तथा नवाचार पर सहयोग और गतिशीलता को आगे बढ़ाएंगे। हम एक-दूसरे के नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र में जुड़ाव तथा सह-निर्माण के माध्यम से नवाचार पर सहयोग को बढ़ावा देने पर भी सहमत हुए।

सुरक्षित, समृद्ध तथा अधिक लोकतांत्रिक विश्व के लिए प्रयासरत

27. हमने भारत और यूरोपीय संघ के बीच अधिक आपसी समझ तथा प्रशंसा को बढ़ावा देने के लिए बढ़ा हुआ तथा संरचित संसदीय आदान-प्रदान के महत्व को रेखांकित किया।

28. हमने जीवन के सभी क्षेत्रों में लैंगिक समानता तथा महिला सशक्तिकरण सहित सभी मानवाधिकारों की रक्षा और संवर्धन के लिए अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की और हम अपने सहयोग को महत्व देते हैं। हमने मानवाधिकारों को बढ़ावा देने के लिए विशिष्ट तंत्रों को मजबूत करने और राष्ट्रीय मानवाधिकार संस्थाओं, नागरिक समाज के कार्यकर्ताओं तथा पत्रकारों की भूमिका के महत्व को मान्यता दी। हमने मानवाधिकार वार्ता की बहाली का स्वागत किया, जिसने दोनों पक्षों के बीच रचनात्मक संबंधों को पोषित किया तथा 2022 में अगली बैठक के लिए तत्पर हैं। हम विशेष रूप से संयुक्त राष्ट्र महासभा तथा संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के लिए अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकारों में सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए।

29. हमने ईरान परमाणु समझौते (जेसीपीओए) तथा अफगानिस्तान में सुरक्षा जैसे पारस्परिक हित के क्षेत्रीय मुद्दों पर अपने घनिष्ठ समन्वय को महत्व दिया तथा हमने अपने संबंधित क्षेत्रों, तथा अन्य बातों के अलावा म्यांमार, बेलारूस और यूक्रेन के घटनाक्रमों पर चर्चा की। इस संदर्भ में, हमने 4 मई, 2021 को अपनाए गए अफगानिस्तान पर संयुक्त प्रेस वक्तव्य का स्वागत किया।

30. एक समृद्ध, शांतिपूर्ण, लोकतांत्रिक तथा लचीला अफ्रीका में एक समान हित साझा करते हुए, हम अफ्रीकी भागीदारों के साथ अपने सहयोग में तालमेल बढ़ाएंगे।

31. हमने अपने नियमित परामर्शों के माध्यम से अप्रसार तथा निरस्त्रीकरण, आतंकवाद, कट्टरता तथा हिंसक उग्रवाद, नौवहन सुरक्षा के साथ-साथ साइबर तथा अन्य खतरों का मुकाबला करने सहित अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा पर अपने सहयोग को हाल ही में मजबूत करने का स्वागत किया। हमने एक खुले, स्वतंत्र, स्थिर तथा सुरक्षित साइबर स्पेस को बढ़ावा देने तथा संयुक्त राष्ट्र के अंतर्गत तंत्र सहित साइबर स्पेस में सभी भागीदारों के जिम्मेदार व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए अपना पूरा सहयोग दोहराया। हमने आतंकवाद के सभी रूपों और अभिव्यक्तियों की कड़ी निंदा की और इस बात को रेखांकित किया कि यह महत्वपूर्ण है कि हिंसा तथा आतंकवाद के दोषियों को सजा दिलाई जाए।हमने आतंकवाद और आतंकवाद के वित्तपोषण से व्यापक और सतत तरीके से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने की जरूरत पर भी जोर दिया। इस संदर्भ में, हमने यूरोपोल तथा भारत के केंद्रीय जांच ब्यूरो के बीच कार्य व्यवस्था के आसन्न निष्कर्ष का स्वागत किया, जो आतंकवाद तथा संगठित अपराध को रोकने और उससे लड़ने में समन्वय तथा तालमेल का समर्थन करेगा। हमने समुद्री सुरक्षा पर अपनी उद्घाटन वार्ता के आयोजन का स्वागत किया तथा हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारतीय नौसेना तथा यूनावीफॉर अटलांटा के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए तत्पर हैं। हमने संयुक्त पहलों के माध्यम से तथा एक ढांचागत भागीदारी समझौते के लिए बातचीत की खोज सहित सुरक्षा और रक्षा के क्षेत्र में बातचीत को और बढ़ाने की अपनी इच्छा व्यक्त की।

32. हमने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में व्यापक सुधार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर प्रकाश डाला, ताकि इसे और अधिक प्रभावी, पारदर्शी, प्रतिनिधिी स्तर पर और जवाबदेह बनाया जा सके, समकालीन वास्तविकताओं को प्रतिबिंबित किया जा सके। हमने उन देशों में संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना की भूमिका को भी स्वीकार किया जो संघर्ष से शांति में परिवर्तित होते हैं तथा शांति अभियानों पर साझा प्रतिबद्धताओं की घोषणा के लिए हमारे समर्थन को दोहराते हैं-शांति स्थापना के लिए कार्रवाई।

33. हमने एक स्वतंत्र, खुले, समावेशी तथा नियम आधारित हिंद-प्रशांत क्षेत्र के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर जोर दिया, जो क्षेत्रीय अखंडता तथा संप्रभुता, लोकतंत्र तथा विधि द्वारा शासन, पारदर्शिता, नौवहन की स्वतंत्रता तथा ओवरफ्लाइट, बेरोकटोक वैध वाणिज्य तथा विवादों के शांतिपूर्ण समाधान के संबंध में, संयुक्त राष्ट्र कन्वेंशन ऑन द लॉ ऑफ द सी (यूएनसीएलओएस) अंतर्गत संबंध में टिकी है। इस संदर्भ में, हमने यूरोपीय संघ द्वारा हिंद-प्रशांत क्षेत्र के साथ सहयोग के लिए अपनी रणनीति के विकास का स्वागत किया तथा एशिया-यूरोप बैठक (एएसईएम) तथा प्रासंगिक क्षेत्रीय सहित हिंद-प्रशांत क्षेत्र में हमारे सहयोग को मजबूत करने पर सहमति व्यक्त की। हमने दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संघ (आसियान) एकता तथा केंद्रीयता को मान्यता दी तथा आसियान क्षेत्रीय मंच जैसे आसियान के नेतृत्व वाले ढांचे में सहयोग तथा आदान-प्रदान बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यूरोपीय संघ ने भारत की हिंद-प्रशांत क्षेत्र पहल की भी सराहना की, जो हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय समन्वय और सहयोग को बढ़ावा देना चाहती है।

Comments
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code