कांसुलर सर्विसेज कांसुलर सर्विसेज

कांसुलर सेवाओं से संबंधित मार्गदर्शिका

यह मार्गदर्शिका विदेश में स्थित भारतीय दूतावासों व वाणिज्य दूतावासों सहित विदेश मंत्रालय के महावाणिज्य दूतावास, पासपोर्ट और वीज़ा (सी.पी.वी.) प्रभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली कांसुलर सेवाओं एवं सहायता की रूपरेखा को दर्शाती है। कभी-कभी ऐसी परिस्थितियाँ हो सकती हैं जिनमें कांसुलर सहायता प्रदान करने की क्षमता सीमित हो। अन्य जानकारी के साथ-साथ, इन परिस्थितियों को, भारत का यात्रा करने वालों और विदेश जाने वाले प्रवासियों को सलाह के साथ, इस दस्तावेज़ में उल्लिखित किया गया है।

मान्यताएं

हम विदेशों में रहने वाले भारतीयों को हमारी क्षमता के अनुसार, और स्थानीय नियमों के साथ सामंजस्य स्थापित करते हेतु कुशल व लागत प्रभावी सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

हम किसकी सहायता कर सकते हैंt

  • प्रवासी भारतीयों (भारतीय पासपोर्ट धारकों) सहित विदेशों में गए सभी भारतीय नागरिकों
  • पीआईओ / ओसीआई कार्ड धारकों (विशेष परिस्थितियों में)

हम भारतीय नागरिकों को विदेश यात्रा से पहले / दौरान निम्न कार्य करने की हम सलाह देते हैं

  • उन देशों के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लें, जहाँ आप जा रहे हैं।
  • हाल की यात्रा सलाह की जाँच करें और उसका पालन करें।
  • आप जिस देश में जा रहे हैं, उसके कानूनों का पालन करने समेत अपनी यात्रा के विकल्पों, अपनी सुरक्षा, पैसे तथा विदेश में व्यवहार की जिम्मेदारी व्यक्तिगत तौर पर लें।
  • सुनिश्चित करें कि आपके पास उन देशों का सही वीजा है जहाँ आप जा रहे हैं या गुज़र रहे हैं और किसी अन्य प्रविष्टि या निकास आवश्यकताओं की जांच करें।
  • अपनी नियोजित यात्रा को कवर करने हेतु अपने पैसों का इस्तेमाल व्यवस्थित रुप से करें।
  • आप जिस देश में जा रहे हैं, वहां के कानूनों का पालन करें, भले ही ये भारतीय मानकों की तुलना में कठोर या अनुचित प्रतीत हों। स्थानीय लोग आपके साथ किसी तरह का अलग व्यवहार करेंगे, इसकी अपेक्षा न करें।
  • उचित यात्रा तथा व्यापक चिकित्सा बीमा कराएं जो आपके किसी भी अप्रत्याशित लागत को कवर करता हो; सुनिश्चित करें कि आपने अपनी स्वास्थ्य संबंधी चिकित्सा सलाह ली है, टीकाकरण तय तारीख पर हो चुका है और, यदि आप भारत से किसी प्रकार का फार्मास्युटिकल उत्पाद या दवाएं ले जा रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि उन्हें उस देश में ले जाने की अनुमति है जहाँ आप जा रहे हैं।
  • अपने पासपोर्ट को सुरक्षित रखें और खो जाने, चोरी या क्षतिग्रस्त हो जाने पर तुरंत इसकी रिपोर्ट करें।
  • सुनिश्चित करें कि आपका पासपोर्ट वैध है (भारत लौटने की अपनी नियोजित तारीख से कम से कम छह महीने की वैधता के साथ) और आपके विदेश में रहने के दौरान इसकी वैधता अवधि समाप्त नहीं होगी।
  • आपका पासपोर्ट खो जाने या चोरी हो जाने की स्थिति में पासपोर्ट के लिए अतिरिक्त फ़ोटो ले जाएं और दूर रहने के दौरान आपको इसे बदलना आवश्यक है।
  • अपने पासपोर्ट (वीजा के पेजों सहित), बीमा पॉलिसी, ट्रैवलर के चेक, वीजा तथा क्रेडिट कार्ड नंबर की कॉपी बना लें। इसकी कॉपी को मूल दस्तावेजों से किसी दूसरी जगह पर रखें और घर पर किसी के पास एक प्रतिलिपि भी रख दें।
  • अपने दोस्तों और घर पर मौजूद अपने परिवार के संपर्क में रहें और अपने बीमा पॉलिसी का विवरण तथा अपनी विदेश की यात्रा के विवरण की कॉपी उन्हें दें।
  • यदि आपका विदेश में उचित समय तक रहने वाले हैं, तो भारत छोड़ने से पहले या आने के तुरंत बाद स्थानीय भारतीय दूतावास में पंजीकरण / कांसुलेट करें, ताकि आपको बेहतक कांसुलर सहायता और अपडेट मिल सकें। (छात्र, छात्रों के मदद (एम.ए.डी.ए.डी. मॉड्यूल पर पंजीकरण कर सकते हैं - अभी तैयार किया जा रहा है)
  • हमारी सहायता मांगते समय कांसुलर स्टाफ का सम्मान करें और दूतावास / कांसुलेट को सभी संबंधित जानकारी प्रदान करने में ईमानदारी बरतें।
  • यदि आपको किसी कारण से गिरफ्तार या हिरासत में लिया गया है, तो निकटतम भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास के प्रतिनिधि तक कांसुलर एक्सेस (विएना कन्वेंशन के तहत) प्रदान करने पर जोर दें।

हम किस प्रकार की सहायता प्रदान कर सकते हैं

प्रत्येक मामला अलग होता है और उपयुक्त भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास के माध्यम से हमारी सहायता, परिस्थितियों और कांसुलर संसाधनों की उपलब्धता पर निर्भर करेगी। हम निम्न कार्यों को करने में सक्षम हो सकते हैं:

  • संबंधित भारतीय कानूनों के अनुसार, भारतीय नागरिकों के जन्म और मृत्यु को पंजीकृत करने।
  • संबंधित भारतीय कानूनों के अनुसार, भारतीय नागरिकों के विवाह को पंजीकृत करने।
  • पासपोर्ट, आपातकालीन प्रमाण-पत्र और अन्य दस्तावेज का प्रतिस्थापन (शुल्क लागू)
  • संकट में फंसे हुए भारतीयों को राहत / प्रत्यावर्तन तथा वित्तीय सहायता प्रदान करना, लागू नियमों के अधीन।
  • विदेशी सरकारों द्वारा भारतीयों के निर्वासन में सहायता करना।
  • संधि / व्यवस्था के तहत लोगों का प्रत्यर्पण।
  • कुछ आकस्मिकताओं में, भारतीयों के धन तथा व्यक्तिगत प्रभावों की निगरानी रखना।
  • यदि आपको गिरफ्तार किया जाता है, तो दूतावास / वाणिज्य दूतावास का प्रतिनिधि आपके कल्याण की जांच करने हेतु आपसे मिल या संपर्क कर सकता है, अपने परिवार को सूचित कर सकता है, कांसुलर सहायता (आपकी सहमति के अनुसार) प्रदान कर सकता है और उस देश के कानून के अनुसार आपके साथ अच्छा व्यवहार हो इसके लिए हम जो कर सकते हैं, करेंगे।
  • विदेशों में रिश्तेदारों की मौत, लापता व्यक्तियों और अपहरण सहित अन्य मामलों में सलाह और समर्थन प्रदान करना।
  • यदि आप सहमति देते हैं, तो हम आपकी ओर से आपके मित्रों या परिवार से संपर्क करेंगे। (कुछ आकस्मिकताओं में, हम आपके मित्रों या परिवार से संपर्क कर सकते हैं, भले ही हमें आपकी सहमति नहीं मिल सकी हो)।
  • किसी आपात स्थिति के मामले में सहायता प्रदान करना, जिसमें चिकित्सा की आपात स्थिति भी शामिल है।
  • नियमानुसार कुछ आपात स्थितियों में या असाधारण स्थितियों में वित्तीय सहायता (साधन की जांच के आधार पर) प्रदान करना।
  • यदि आप किसी गंभीर हमले या अन्य अपराध के शिकार हुए हैं, तो स्थानीय कानूनों के तहत सहायता प्रदान करना।
  • अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद, उपद्रव और प्राकृतिक आपदाओं (शुल्क लागू हो सकती है) के मामलों में विशेष व्यवस्था करना।
  • कुछ नोटरी सेवाएं प्रदान कराना, जिसमें संबंधित नियमों के अनुसार दस्तावेजों की जांच और प्रमाणित करना और शपथ तथा पुष्टि (शुल्क लागू) शामिल हैं।
  • संबंधित नियमों के अनुसार विदेशों में प्रमाण तथा सेवा दस्तावेज (शुल्क लागू) लेना।

कुछ परिस्थितियों में हमारी सहायता सीमित हो सकती है

हालांकि, सरकार ऊपर सूचीबद्ध सभी कांसुलर सहायता प्रदान करने का पूरा प्रयास करेगी, लेकिन यह नहीं माना जाना चाहिए कि ये सभी सहायता किसी भी परिस्थितियों में प्रदान की जाएगी। यदि लगता है कि ऐसी कोई परिस्थिति है, तो सरकार आपको दी जाने वाली सहायता को सीमित करने पर विवश हो सकती है, उदाहरण के लिए, जहां आपने कोई अवैध कार्य किया हो, या आपने जानबूझकर या बार-बार लापरवाही या लापरवाही का काम किया हो और खुद को या दूसरों को जोखिम में डाला हो, या आपने कोई ऐसा व्यवहार किया हो जिस संबंध में पहले कांसुलर सहायता के कई उदाहरण मौजूद हो।

संकट के दौरान प्रतिक्रिया

विदेशों में मौजूद भारतीयों से संबंधित कुछ अंतरराष्ट्रीय संकटों और आपात स्थितियों में विशेष प्रतिक्रिया की आवश्यकता होगी, जैसे:

  • ऐसी परिस्थिति जिनमें बड़ी संख्या में भारतीय मारे गए हैं या घायल हुए हैं या जहां भारतीयों को गंभीर खतरा हो, उदाहरण के लिए युद्ध जैसी स्थितियाँ, दंगे, आतंकवादी हमले, बड़ी दुर्घटनाएँ, महामारी तथा प्राकृतिक आपदाएँ।
  • राजनीतिक अशांति जिसके कारण हमें आपको देश छोड़ने की सलाह दिया गया हो और यदि कोई वाणिज्यिक विकल्प उपलब्ध नहीं है, तो भारतीयों की सहायता हेतु प्रस्थान या निकासी की आवश्यकता हो।
  • ऐसी घटनाएं जिससे बड़ी संख्या में भारतीय लोगों को बाधा तथा कठिनाई का सामना करना पड़ रहा हो। ऐसे संकटों और घटनाओं के मामले में हम भारतीयों को विशेष सहायता प्रदान करेंगे। हमारी सहायता की प्रकृति कई घटकों पर आधारित होगी, लेकिन हम निम्नलिखित कार्य कर सकते हैं:
  • प्रभावित भारतीयों की सहायता हेतु विशेषज्ञ टीमों की तैनाती।
  • मारे गए या घायल किसी भी भारतीय के परिवारों से संपर्क करें और मृतक के प्रत्यावर्तन में मदद करने।
  • प्रभावित भारतीयों को सलाह देने तथा सहायता करने हेतु स्वयंसेवकों का स्थानीय नेटवर्क स्थापित करने।
  • प्रभावित भारतीयों का समर्थन करने हेतु स्थानीय अधिकारियों के साथ काम करना।
  • क्षेत्र से निकलने की कोशिश करने और उन्हें अपने परिवारों से संपर्क करने में भारतीयों की सहायता करने।
  • यात्रा सलाह और संकट पर अद्यतन प्रदान करना।
  • व्यवस्थित करना, जहां आवश्यक तथा संभव हो, भारतीय नागरिकों की निकासी हेतु विशेष परिवहन व्यवस्था, हम भारतीयों से इस तरह के संकट या आपात स्थिति से प्रभावित होने पर निम्न कार्य करने का अनुरोध करते हैं:
  • संबंधित भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास से संपर्क करें और जल्द से जल्द इससे पंजीकरण करें।
  • यात्रा की सभी सलाह को पढ़ें और उनका पालन करें।
  • भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास द्वारा मान्यता प्राप्त किसी भी क्षेत्र समन्वयकों से संपर्क में रहें।
  • खतरनाक स्थितियों से बचने में भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास के साथ सहयोग करें। यह ध्यान रखा जाना चाहिए कि संकट या बड़ी आपात स्थिति में हमारे द्वारा जो सहायता दी जा सकती है, उसकी कुछ सीमाएं हो सकती हैं, हालांकि हमारी कोशिश सभी आकस्मिकताओं को पूरा करने की होगी।

हम क्या नहीं कर सकते

हालांकि, विदेश मंत्रालय और हमारे दूतावास / वाणिज्य दूतावास सभी परिस्थितियों में वाणिज्य दूतावास संबंधी सहायता प्रदान करने के यथासंभव प्रयास करेंगे, लेकिन कुछ ऐसी परिस्थितियां हो सकती हैं जो वाणिज्य दूतावास की भूमिका से बाहर हो या जिन्हें नीतिगत कारणों से प्रदान नहीं किया जा सकता है। इसमें शामिल है:

  • स्थानीय कानूनों के दायरे से बाहर किसी दूसरे देश में अपनी सुरक्षा और बचाव की गारंटी, या आपकी यात्रा की व्यवस्था करना।
  • अन्य देशों के लिए वीजा, लाइसेंस, कार्य या निवास की व्यवस्था करना।
  • स्थानीय अधिकारियों की सहमति तथा सहयोग के बिना किसी विदेशी देश के संबंध में या उसके प्रति न्यायिक या प्रशासनिक आदेश लागू करना।
  • रोजगार विवाद, वाणिज्यिक विवाद, आपराधिक मामले और पारिवारिक कानून मामले या बाल हिरासत विवाद सहित किसी अन्य देश की अदालती कार्यवाही या कानूनी मामले में हस्तक्षेप, उस देश के कानूनों द्वारा अनुमत सीमा को छोड़कर।
  • उस देश के अधिकारियों के सहयोग के बिना, विदेश में लापता लोगों की खोज करना।
  • विदेशों में अपराधों या मौतों की जांच करना, जो उस देश के अधिकारियों की जिम्मेदारी है।
  • उस देश की कानूनी प्रक्रियाओं के अलावा, आपको किसी विदेशी देश की जेल से बाहर निकालना।
  • आपको निर्वासित होने से रोकना।
  • आपको स्थानीय कैदियों की तुलना में जेल में बेहतर सुविधा दिलाना, हालांकि हम कल्याण संबंधी चिंताओं या अन्य संवेदनशीलता के मुद्दे को स्थानीय अधिकारियों के समक्ष विचार हेतु रख सकते हैं।
  • नियमों के तहत अनुमति के अलावा, जमानत या अपने जुर्माना या कानूनी खर्च का भुगतान करना।
  • भारतीय या किसी अन्य हिरासत से संबंधित निर्णय / समझौते को विदेशों में लागू करना या हिरासत के मामले का फैसला करने हेतु किसी देश को मजबूर करना।
  • प्रासंगिक नियमों के अनुसार आपात स्थिति को छोड़कर चिकित्सा सेवाओं या दवाओं के लिए भुगतान करना।
  • विदेश में आपकी पेंशन या सामाजिक सुरक्षा लाभ का भुगतान करना, सिवाय भारतीय कानूनों के तहत जहां अनुमति हो।
  • किसी व्यक्ति को अनैच्छिक रूप से और / या कानूनी आधार के बिना या संधि या व्यवस्था की अनुपस्थिति में प्रत्यर्पण / निर्वासन / प्रत्यावर्तन / वापस लाना।
  • स्थानीय कानूनों के तहत अनुमत सीमा को छोड़कर अन्य देशों में आव्रजन, सीमा शुल्क या संगरोध मामलों में हस्तक्षेप।
  • आपको कानूनी सलाह देना, दस्तावेजों की व्याख्या या अनुवाद करना।
  • कानून या नीति द्वारा विशेष रूप से प्रदान नहीं की गई कोई अन्य सहायता।

किससे संपर्क करें

  • स्थानीय भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास से संपर्क (फोन / ईमेल के माध्यम से) करके आपातकालीन वाणिज्य दूतावास संबंधित सहायता प्राप्त की जा सकती है। सभी भारतीय दूतावासों / वाणिज्य दूतावासों का संपर्क विवरण यहां उपलब्ध है: https://www.mea.gov.in/indian-missions-abroad-new.html
  • यदि आप किसी कारण से स्थानीय भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास से संपर्क करने में असमर्थ हैं, तो विदेश मंत्रालय के सीपीवी प्रभाग के कांसुलर अनुभाग से संपर्क किया जा सकता है: http://www.mea.gov.in/divisions.htm; और http://meatel.nic.in/?670160, http://www.mea.gov.in/cpvv.html
  • वाणिज्य दूतावास संबंधित सेवाओं से संबंधित शिकायतों को मदद पोर्टल पर पंजीकृत किया जा सकता है - http://madad.gov.in (या मदद मोबाइल ऐप या हेल्पलाइन पर 1800-11-3090 (टोल फ्री); + 91-11- 40503090 (अंतर्राष्ट्रीय)
  • भारतीय कामगारों के लिए जो विदेशों में प्रवास करने की योजना बना रहे हैं, उन्हें प्रवासी भारतीय सहायता केंद्रों (पीबीएसके) और क्षेत्रीय प्रवासी भारतीय सहायता केंद्रों (केपीबीएसके) में सहायता उपलब्ध है। पीबीएसके और केपीबीएसके के संपर्क विवरण इस प्रकार हैं:
केपीबीएसके, कोच्चि केपीबीएसके, हैदराबाद केपीबीएसके, चेन्नई केपीबीएसके, लखनऊ केपीबीएसके, नई दिल्ली पीबीएसके, दुबई

0484-2314900 और 0484-2314901, mrckochi@owrc.in सी / ओ पीओई ऑफिस, तीसरी मंजिल, आरपीओ ऑफिस, शिहाब थांगल रोड, पनमपल्ली नगर, एर्नाकुलम, केरल

0730-6763482, mrchyd@owrc.in सी / ओ पीओई कार्यालय, गरुहा कल्पा भवन, एम.जे. मार्ग, हैदराबाद

04465252514helpline@owrc.in सी / ओ रेजिडेंशियल एंड वेलफेयर ऑफ नॉन-रेजिडेंट तमिल्स, एज़िलगैम एनेक्स बिल्डिंग, चौथी मंजिल, बीच रोड चेपुक, चेन्नई

0522-4301162, helpline@owrc.in सी / ओ पीओई प्रकोष्ठ, आरपीओ, विपिन खंड, गोमती नगर, लखनऊ

01244420215, helpline@owrc.in 24x7 हेल्पलाइन नंबर 1800-11-3090 (टोल फ्री) 91-11-26885021 और 91-11-40503090 (शुल्क लागू) सी / ओ विदेश मंत्रालय, कक्ष सं. 1005, 10वीं मंजिल, अकबर भवन, चाणक्यपुरी, नई दिल्ली, 11 भाषा में सुविधा उपलब्ध

80046342 (टोल फ्री) help@iwrcuae.in हिंदी, अंग्रेजी, मलयालम, तेलुगु, तमिल और बंगाली में बहुभाषी सुविधा उपलब्ध

पीबीएसके, रियाद -8002471234 sscw@indembassy.org.sa

पीबीएसके, कुआलालंपुर 0060361432280 Labour.kl@mea.gov.in

आगे की कार्यवाही

कुछ विशेष मामलों में, कांसुलर स्टाफ लंबे समय तक किसी मामले से जुड़े हो सकता है। ऐसे मामलों का फॉलोअप लें, खासकर यदि स्थानीय जांच या कानूनी प्रक्रिया चल रही हो, तो इसमें काफी समय लग सकता है। हम स्थानीय जांचकर्ताओं तथा कानून प्रवर्तन अधिकारियों से प्राप्त जानकारी के आधार पर परिवारों की सहायता करने की पूरी कोशिश करेंगे, लेकिन इस बात पर ध्यान देना आवश्यक है कि हमारे दूतावास / वाणिज्य दूतावास का हस्तक्षेप स्थानीय कानूनों के दायरे से बाहर नहीं हो सकता है।

प्रतिपुष्टि

हम आपकी सेवाओं पर आपकी टिप्पणियों का स्वागत करते हैं, ताकि हमें उन क्षेत्रों की पहचान करने में मदद मिल सके, जिनमें सुधार की आवश्यकता है या जहां बदलाव कर सेवाओं को बेहतर बनाया जा सकता है। अपने अनुभवों को साझा करके आप अन्य भारतीयों को विदेशों में होने वाली कठिनाइयों से बचने में मदद कर सकते हैं और किस स्तर पर सहायता प्रदान की जा सकती है, यह भी बता सकते हैं।

वाणिज्यिदूत खंड
सीपीवी
विदेश मंत्रालय

फ़ोन: 011-23386760
फैक्स: 011-23070644
ई-मेल: uscons@mea.gov.in
सीसी: uspg@mea.gov.in,jscpv@mea.gov.in

यदि आप उपलब्ध कराई गई कांसुलर सेवाओं से संतुष्ट नहीं हैं तो आप मदद – http://madad.gov.in (या मदद मोबाइल ऐप या हेल्पलाइन पर 1800-11-3090 (टोल फ्री); + 91-11- 40503090 (अंतरराष्ट्रीय) पर इससे संबंधित शिकायत दर्ज करा सकते हैं; या यहां अपील कर सकते हैं:

श्री अमित नारंग
संयुक्त सचिव
सीपीवी खंड
विदेश मंत्रालय

फ़ोन: 011-23387104
फैक्स: 011-23782821
ई-मेल: jscpv@mea.gov.in
सीसी: uspg@mea.gov.in,jscpv@mea.gov.in

भावी प्रवासी श्रमिकों के लिए विशेष सलाह

दिशा-निर्देश

  • सुनिश्चित करें कि आपका रिक्रूटिंग एजेंट कौन है। उसे भारत सरकार के रक्षा महानिदेशकों द्वारा जारी अपना मूल पंजीकरण प्रमाण-पत्र दिखाने के लिए कहें। अगर वह पंजीकृत नहीं है और पंजीकरण वैध तथा निलंबित / रद्द है, तो उसके साथ कोई सौदा न करें। संदेह के मामले में, प्रोटेक्टर ऑफ इमिग्रेंट्स (पीओई) या प्रोटेक्टर जनरल ऑफ इमिग्रेंट्स (पीजीई) के किसी भी कार्यालय से जांच करें। आपकी बीमा पॉलिसी तभी मान्य होगी जब आपका आरए नंबर उपलब्ध होगा।
  • उप-एजेंटों के साथ सौदा न करें क्योंकि उन्हें उत्प्रवासन अधिनियम, 1983 और नियमों के तहत इसकी अनुमति नहीं है।
  • रिक्रूटिंग एजेंट से विदेशी नियोक्ता से प्राप्त डिमांड लेटर और पावर ऑफ अटॉर्नी दिखाने के लिए कहें।
  • वेतन / वेतन स्तर और अन्य सेवा शर्तों का विवरण देते हुए सावधानीपूर्वक रोजगार अनुबंध की जांच करें।
  • रोजगार अनुबंध के तहत दिए गए पैंतालीस दिनों के वेतन से अधिक का भुगतान न करें, जो प्रदान की गई सेवाओं के संबंध में अधिकतम बीस हजार रुपये के अधीन है और इस भुगतान की रसीद लें।
  • डिमांड ड्राफ्ट या चेक द्वारा भुगतान करें और रसीद लें। ओवरचार्जिंग या धोखाधड़ी की शिकायतें संबंधित पीओई या रक्षा महानिदेशक (पीजीई) के साथ या पीबीएसके और केपीबीएसके में दर्ज की जा सकती हैं।

प्रस्थान से पहले जाँच करें

  • सुनिश्चित करें कि आपके पास 06 महीने की वैधता वाला वैध पासपोर्ट है। वैध वीजा पर या तो मुहर लगी होनी या आपके पासपोर्ट के साथ जुड़ा होना चाहिए। यह भी सुनिश्चित करें कि आपका वीजा उसी श्रेणी के लिए है जिसके लिए आप भर्ती हुए हैं। अपने पासपोर्ट और वीजा की एक फोटोकॉपी हमेशा अपने पास रखें।
  • आपके पास आपके द्वारा हस्ताक्षरित और आपके विदेशी नियोक्ता को पंजीकृत भर्ती एजेंट द्वारा रोजगार अनुबंध की प्रति विधिवत सत्यापित होना चाहिए।
  • अंग्रेजी में रोजगार अनुबंध की एक प्रति रखें, जो भर्ती एजेंट द्वारा विधिवत प्रमाणित हो। जिस पर आप भरोसा करते हैं, उसे ध्यान से पढ़ने के लिए कहें और वह आपको शर्तों को समझाये।
  • भारत के किसी बैंक में बचत बैंक ई.आर.ई. खाता खोलें, जिससे आप विदेश से अपना प्रेषण भेज सकें। अवैध प्रेषण तंत्र पर भरोसा न करें।
  • जिस देश में आप रोजगार करने जा रहे हैं, वहां के स्थानीय श्रम कानूनों, काम करने और रहने की स्थिति से अवगत रहें। जिस देश में आप जा रहे हैं, वहां के भारतीय दूतावास का पूरा पता, फोन, ईमेल जरूर रखें। ओ.डब्ल्यू.आर.सी. इस संबंध में सहायता प्रदान कर सकता है।

जिस देश में आप नियोजित हैं, वहाँ

  • अपने पासपोर्ट और भारत में आपके द्वारा हस्ताक्षरित रोजगार अनुबंध की प्रति को किसी भी स्थिति में खुद से दूर न रखें। (भविष्य में संदर्भ के लिए इनकी अतिरिक्त प्रतियां किसी सुरक्षित स्थान पर रखें)
  • रेजिडेंट परमिट या पहचान पत्र, लेबर कार्ड या 'आईक्यूएएमए' प्राप्त करें।
  • किसी अन्य रोजगार अनुबंध या किसी कोरे कागज पर हस्ताक्षर न करें।
  • काम के दौरान हड़ताल या आंदोलन में भाग न लें। ये स्थानीय श्रम कानूनों के तहत अवैध हो सकते हैं। आपको गिरफ्तार किया जा सकता है, कैद किया जा सकता है और निर्वासित भी किया जा सकता है।
  • अपने साथ कोई भी ऐसी खाद्य वस्तु या कोई अन्य वस्तु न रखें, जिसे किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा दिया गया हो जिसे आप नहीं जानते हैं। अगर आपके पास ऐसी वस्तुओं में कोई प्रतिबंधित पदार्थ मिला तो इससे आपको जेल भी हो सकती है।
  • डॉक्टर से मिले दवा का पर्चे के बिना कोई भी दवाई न लें। (भारत में अनुमत कुछ दवाएं अन्य देशों में प्रतिबंधित हो सकती हैं)
  • उन सभी संपर्कों से बचें जिनके परिणामस्वरूप एड्स - कोई खतरनाक बीमारी हो सकता है।
  • निकटतम भारतीय दूतावास के संपर्क में रहें और गैर-भुगतान या देरी से भुगतान या क्षतिपूर्ति या किसी अन्य समस्या के बारे में भारतीय दूतावास के पास शिकायत दर्ज करें। बेहतर सहायता प्राप्त करने के लिए, निकटतम भारतीय दूतावास से खुद को पंजीकृत करें।

सीमा शुल्क की औपचारिकताएं

  • व्यक्तिगत सामान: कृपया अपनी यात्रा के दौरान अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों पर तैनात सीमा शुल्क के कर्मचारियों के साथ सहयोग करें।
  • सुनिश्चित करें कि आप कोई नशीले पदार्थ या मादक पेय न ले जाएं। कुछ देशों में शराब को कड़ाई से प्रतिबंधित किया जा सकता है और इसकी खपत गंभीर अपराध हो सकती है जिसकी गंभीर सजा दी जा सकती है। कृपया इस संबंध में स्थानीय नियमों के बारे में जानकारी प्राप्त कर लें।
  • किसी से भी कोई बिना जांचा हुआ पार्सल स्वीकार न करें। यदि आपको किसी के लिए पार्सल लेना है, तो कृपया यह सुनिश्चित करने हेतु इसकी अच्छी तरह से जांच कर लें कि उसमें अल्कोहल, नशीले पदार्थ या कोई अन्य प्रतिबंधित वस्तु तो नहीं है। अन्यथा, यह आपको रोजगार के देश में पहुंचने पर गंभीर कानूनी कठिनाइयों में डाल सकता है।

धर्म

  • स्थानीय धार्मिक प्रथाओं और रीति-रिवाजों के प्रति संवेदनशील रहें।

सावधानी

  • आपको अपने पासपोर्ट के सभी पृष्ठों की फोटोकॉपी बनानी और रखनी चाहिए। अपना पासपोर्ट या इसकी फोटोकॉपी न खोएं।
  • यदि आपका पासपोर्ट खो जाता है, तो निकटतम भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास को तुरंत सूचित करें और उन्हें संबंधित विवरण, अर्थात् अपना पासपोर्ट नंबर, जारी करने की तारीख और स्थान, अपना नाम और नियोजित देश में आपके आने की तारीख बताएं। (आप इन विवरणों को केवल तभी दे पाएंगे जब आप अपने पासपोर्ट की फोटोकॉपी सुरक्षित स्थान पर रखेंगे)।
  • अपने किसी रिश्तेदार के पास अपने पासपोर्ट, वीजा और अन्य सभी दस्तावेजों की एक प्रति रख दें।
  • रोजगार अनुबंध की अपनी प्रति को न खोएं। उसकी फोटोकॉपी करें और उन्हें हमेशा अपने साथ रखें। अपने दोस्तों के पास अतिरिक्त प्रतियां रख दें।
  • भारत छोड़ने से पहले आपके पास अपने विदेशी नियोक्ता का पूरा नाम, पता, टेलीफोन / फैक्स नंबर होना चाहिए।
  • यदि आपको अपने विदेशी नियोक्ता का पता ढूढ़ने में कठिनाई हो, तो तुरंत भारतीय दूतावास / वाणिज्य दूतावास से संपर्क करें।
  • प्रायोजन कंपनी / स्थापना / व्यक्ति के अलावा किसी अन्य व्यक्ति या प्रतिष्ठान के साथ अस्थायी या स्थायी रोजगार को स्वीकार न करें। आपके मूल प्रायोजक के अलावा अन्य व्यक्तियों के साथ रोजगार सख्त वर्जित है और इसके लिए गंभीर दंड / सजा हो सकती है।
  • वीज़ा या रोजगार अनुबंध समाप्त होने से पहले, उन्हें समय पर नवीनीकृत करा लें। यदि आप विदेश में अपने रोजगार अनुबंध के दौरान कुछ समय के अवकाश पर भारत लौट रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपके वीज़ा की वैधता अवधि नियोजित देश में वापस लौटने से पहले समाप्त नहीं होती है।
  • यह भी सुनिश्चित करें कि आपका पासपोर्ट वैध है। इसके समाप्त होने से कम से कम दो महीने पहले, इसे संबंधित भारतीय दूतावास / विदेश में वाणिज्य दूतावास से प्रमाणित करा लें।
  • यदि आपके अनुबंध की सभी शर्तों को बदल दिया गया है या आपके नुकसान होने के रुप में बदल दिया गया है, तो कृपया अपने भर्ती एजेंट के खिलाफ मदद पोर्टल - http://madad.gov.in (या मदद मोबाइल ऐप या 1800-11-3090 (टोल फ्री); (+ 91-11- 40503090 (अंतरराष्ट्रीय) या अपने संबंधित प्रवासी भारतीय सहायता केंद्रों (पीबीएसके) और क्षेत्रिय प्रवासी भारतीय सहायता केंद्रों (केपीबीएसके) में शिकायत दर्ज करें। पीबीएसके और केपीबीएसके के संपर्क विवरण इस प्रकार हैं:
केपीबीएसके, कोच्चि केपीबीएसके, हैदराबाद केपीबीएसके, चेन्नई केपीबीएसके, लखनऊ केपीबीएसके, नई दिल्ली पीबीएसके, दुबई

0484-2314900 और 0484-2314901, mrckochi@owrc.in सी / ओ पीओई ऑफिस, तीसरी मंजिल, आरपीओ ऑफिस, शिहाब थांगल रोड, पनमपल्ली नगर, एर्नाकुलम, केरल

0730-6763482, mrchyd@owrc.in सी / ओ पीओई कार्यालय, गरुहा कल्पा भवन, एम.जे. मार्ग, हैदराबाद

04465252514helpline@owrc.in सी / ओ रेजिडेंशियल एंड वेलफेयर ऑफ नॉन-रेजिडेंट तमिल्स, एज़िलगैम एनेक्स बिल्डिंग, चौथी मंजिल, बीच रोड चेपुक, चेन्नई

0522-4301162, helpline@owrc.in सी / ओ पीओई प्रकोष्ठ, आरपीओ, विपिन खंड, गोमती नगर, लखनऊ

01244420215, helpline@owrc.in 24x7 हेल्पलाइन नंबर 1800-11-3090 (टोल फ्री) 91-11-26885021 और 91-11-40503090 (शुल्क लागू) सी / ओ विदेश मंत्रालय, कक्ष सं. 1005, 10वीं मंजिल, अकबर भवन, चाणक्यपुरी, नई दिल्ली, 11 भाषा में सुविधा उपलब्ध

80046342 (टोल फ्री) help@iwrcuae.in हिंदी, अंग्रेजी, मलयालम, तेलुगु, तमिल और बंगाली में बहुभाषी सुविधा उपलब्ध

पीबीएसके, रियाद -8002471234 sscw@indembassy.org.sa

पीबीएसके, कुआलालंपुर 0060361432280 Labour.kl@mea.gov.in