लोक राजनय लोक राजनय

ब्रुनेई दारुस्‍सलम में भारत के विदेश मंत्री और चीन के विदेश मंत्री द्वारा मीडिया वार्ता का प्रतिलेखन

जुलाई 02, 2013

चीन के विदेश मंत्री ( श्री वांग यी) : हमने बहुत ही सौहार्दपूर्ण चर्चा की थी जैसे अच्‍छे मित्रों और भाइयों के बीच होती है। यदि आप इस बात पर नजर डालें कि हमारी मित्रता कितनी घनिष्‍ठ है तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि हमारे दोनों देशों के बीच कितने घनिष्‍ठ संबंध होंगे।

सबसे महत्‍वपूर्ण बात जिस पर हमने आमतौर पर सहमति व्‍यक्‍त की, वह यह है भारत और चीन संबंधों को लगातार आगे बढ़ाया जाए। प्रीमियर ली केचियांग ने अभी हाल ही में भारत का दौरा किया और हम आशा करते हैं कि इस वर्ष के उत्‍तरार्द्ध में भारत के प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह भी चीन का दौरा करेंगे। हमारा विश्‍वास है कि ये दोनों दौरे उसी प्रकार साबित होंगे जैसे कि बसंत ऋतु में बीज बोना और शरद ऋतु में फल प्राप्‍त करना, और यह हमारा साझा लक्ष्‍य है जिसको लेकर हमें विश्‍वास है कि यह दोनों देशों के लोगों के हित में है।

हमारा मानना है कि हमारे दोनों देश स्‍वाभाविक रूप से सामरिक भागीदार हैं और हमें व्‍यापक क्षेत्रों में चहुमुखी सहयोग में संलग्‍न होना चाहिए। हम दो बड़े देश हैं और हमारी महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारियां हैं। हमारा मानना है कि क्षेत्रीय और वैश्विक स्‍तर पर शांति तथा स्थिरता की साझा जिम्‍मेदारी हमारे कंधों पर है।

भारत के विदेश मंत्री (श्री सलमान खुर्शीद) : आपका बहुत बहुत धन्‍यवाद। जैसा कि आप देख सकते हैं एशिया का भविष्‍य संयुक्‍त रूप से यहां निर्भर करता है।

भारत और चीन के बीच प्रीमियर ली के दौरे के बाद से पहले ही किए जा चुके कार्यों की हमने समीक्षा की है। हमारे द्वारा किए जाने वाले बहुत से कार्यों में से एक महत्‍वपूर्ण कार्य यह है कि हम ऐसे क्षेत्रों जो दोनों देशों के हित में है, पर बहुत से परामर्श कार्यक्रम करेंगे।

हमारे रक्षा मंत्री दो दिन में चीन का दौरा करेंगे और हम अपने रक्षा सहयोग को एक उच्‍च स्‍तर पर तक ले जाएंगे। और आप सभी के लिए सबसे अधिक महत्‍वपूर्ण बात यह है कि हम चीनी मीडिया और भारतीय मीडिया को एक साथ लाने के तरीके और ढंग खोज रहे हैं।

प्रश्‍न : मैं चीन के विदेश मंत्री से एक प्रश्‍न पूछना चाहता हूं। महोदय क्‍या आपने चर्चा के दौरान सीमा संबंधी मुद्दे, हमारे बीच सीमा विवाद के मुद्दे पर बातचीत की है; और क्‍या यह सोचते हैं कि उन्‍होंने विशेष प्रतिनिधियों (एसआर) के बीच 16 दौर की वार्ताओं में कोई प्रगति की है?

चीनी विदेश मंत्री : जैसा कि आपने कहा, विशेष प्रतिनिधियों के साथ परामर्श का 16वां दौर अभी हाल ही में बीजिंग में आयोजित किया गया। जहां तक मुझे ज्ञात है यह चर्चा का सबसे सफल दौर था और इस संबंध में बेहतर प्रगति की गई।

भारत के विदेश मंत्री : मेरे पास भी यही सूचना है कि इस संबंध में बेहतर प्रगति की गई।

बहुत बहुत धन्‍यवाद।

चीनी विदेश मंत्री : धन्‍यवाद।

(समाप्‍त)



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code
केन्द्र बिन्दु में
यह भी देखें