लोक राजनय लोक राजनय

विदेश राज्‍य मंत्री श्री ई अहमद ने कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए यात्रियों के चयन हेतु कंप्‍यूटर ड्रा निकाला

मई 08, 2006

विदेश राज्‍य मंत्री श्री ई अहमद ने कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए यात्रियों के चयन हेतु 8 मई, 2006 को विदेश मंत्रालय में कंप्‍यूटर ड्रा निकाला । यह यात्रा 1 जून, 2006 से प्रारंभ होनी है । इस यात्रा के लिए आवेदन, प्रमुख राष्‍ट्रीय और क्षेत्रीय मीडिया में खुले विज्ञापन द्वारा इस वर्ष के प्रारंभ में आमंत्रित किए गए थे । 16 बैचों में कुल 960 यात्रियों का चयन कंप्‍यूटर जनित्र आकस्‍मिक लिंग-संतुलित चयन प्रक्रिया के माध्‍यम से किया गया है ।

विदेश राज्‍य मंत्री ने बताया कि कैलाश और मानसरोवर के प्रति भारतीय जनता की प्रबल धार्मिक भावनाओं को ध्‍यान में रखते हुए सरकार, कैलाश मानसरोवर यात्रा को काफी महत्‍व देती है ।

उन्‍होंने यह भी बताया कि चूंकि इस यात्रा के 25 वर्ष पूरे हो रहे हैं, इस वर्ष यह यात्रा और भी महत्‍वपूर्ण हो गई है । विदेश राज्‍य मंत्री ने कहा कि सरकार इस बात के प्रयास कर रही है कि नियमित आधार पर कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए सुविधाओं का सुधार और उन्‍नयन किया जाए तथा यात्रियों की संख्‍या में प्रतिवर्ष वृद्धि की जाए ।

विदेश राज्‍य मंत्री ने ड्रा निकासी समारोह के पश्‍चात् मीडिया को संबोधित करते हुए बताया कि विदेश मंत्रालय, भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय समझौते के तहत विभिन्‍न राज्‍य और केंद्र सरकार की एजेंसियों के समन्‍वय से सन् 1981 से कैलाश मानसरोवर यात्रा आयोजित कर रहा है ।

यह यात्रा प्रत्‍येक वर्ष जून से सितंबर के महीने में होती है । तिब्‍बत स्‍वायत्‍त क्षेत्र के प्राधिकारियों द्वारा चीन की ओर से इस यात्रा की व्‍यवस्‍था की जाती है ।

सरकार द्वारा यात्रियों के लिए अनेक सुविधाएं प्रदान की जाती हैं जिनमें प्रत्‍येक यात्री के लिए नकद सब्‍सिडी, नि:शुल्‍क चिकित्‍सा सहायता, भारत की ओर से लिपुलेख दर्रे तक भारत-तिब्‍बत सीमा पुलिस द्वारा सुरक्षा और अनुरक्षक, चीन के साथ संचार संपर्क तथा पूरी यात्रा के दौरान आपातकाल में प्रयोग के लिए यात्रियों के प्रत्‍येक दल को सेटेलाइट फोन प्रदान किया जाता है । सरकार द्वारा यात्रियों के प्रत्‍येक दल के साथ एक संपर्क अधिकारी तैनात किया जाता है जो उनके सामान्‍य कल्‍याण के लिए जिम्‍मेदार होता है ।

कैलाश मानसरोवर के दर्शन के लिए और अधिक संख्‍या में यात्रियों को अनुमति प्रदान करने के हमारे अनुरोध को ध्‍यान में रखते हुए चीनी पक्ष, प्रत्‍येक दल में यात्रियों की संख्‍या 44 से बढ़ाकर 60 करने पर सहमत हो गया है । पिछले कुछ वर्षों में यात्रियों की संख्‍या में काफी वृद्धि हुई है और इस वर्ष हमारे पास 16 दलों में 960 यात्री होंगे ।

सरकार दुर्गम क्षेत्र में चीन की ओर यात्रा के लिए सुविधाओं में सुधार तथा यात्रा मार्ग में बुनियादी सुविधाओं की कमी से संबंधित मामलों पर चीनी पक्ष के साथ विचार-विमर्श कर रही है । पिछले कुछ वर्षों में धीरे-धीरे सुधार हुआ है ।

यात्रा को और अधिक सुविधाजनक बनाने के लिए कैलाश और मानसरोवर के लिए एक वैकल्‍पिक मार्ग खोलने के संबंध में भी चीनी पक्ष को एक प्रस्‍ताव दिया गया है । पिछले वर्ष अप्रैल में चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ के भारत दौरे के दौरान प्रधानमंत्री ने इस यात्रा के लिए लद्दाख से एक वैकल्‍पिक मार्ग खोलने का मामला स्‍वयं उठाया था । यह मार्ग अपेक्षाकृत छोटा और अधिक सुविधाजनक होगा । चीनी पक्ष ने भारत से यात्रियों को और अधिक सुविधाएं प्रदान करने की अपनी इच्‍छा जतायी है ।

इस वर्ष कंप्‍यूटर जनित्र, आकस्‍मिक लिंग संतुलित कंप्‍यूटरीकृत चयन प्रक्रिया के माध्‍यम से ड्रा के आधार पर 960 यात्रियों का चयन किया जाएगा । शेष आवेदकों को प्रतीक्षा सूची में रखा जा रहा है । यह कार्रवाई पारदर्शी तरीके से की जा रही है ।

नई दिल्‍ली
8 मई, 2006


Page Feedback

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code
केन्द्र बिन्दु में
यह भी देखें