लोक राजनय लोक राजनय
  • प्रभावी कूटनीति, उत्तम परिणाम

    प्रभावी कूटनीति, उत्तम परिणाम

    पुनरुत्थान, नवजागरण और पुनर्निर्माण गति, व्याप और कौशल पिछले तीन वर्षो में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की एनडीए सरकार ने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र और सबसे अधिक विकासमान अर्थव्यवस्था को नई ऊँचाइयों तक ले जाकर विश्व-क्षितिज पर आशा की एक नई ज्योति जलाई है ।

    आगे पढें
  •  
  • पांच दिन, पांच राष्‍ट्र: निकटतम पड़ोसी देश से अटलांटिक पार साझेदार देशों तक

    पांच दिन, पांच राष्‍ट्र: निकटतम पड़ोसी देश से अटलांटिक पार साझेदार देशों तक

    प्रधान मंत्री नरेन्‍द्र मोदी पांच देशों की अपनी यात्रा के प्रथम पड़ाव में 4 जून, 2016 को अफगानिस्‍तान के हेरात पहुंचे। उन्‍होंने राष्‍ट्रपति अशरफ घनी के साथ हेरात में अफगानिस्‍तान-भारत दोस्‍ताना बांध (Afganistan-India Friendship Dam) का उद्धाटन किया।

    आगे पढें
  • पथप्रवर्तक कूटनीति

    पथप्रवर्तक कूटनीति

    विगत दो वर्षों में भारत के कद में सतत उत्‍थान जहां विश्‍व इस देश को वैश्विक कार्यसूची को आकार प्रदान करने हेतु एक भिन्‍न भूमिका के साथ प्रभावी सत्‍ता के रूप में एक नए देश की तरह देख रहा है

    आगे पढें
  • नए आयाम नयी दिशाएं अभिनव कूटनीति के दो वर्ष

    नए आयाम नयी दिशाएं अभिनव कूटनीति के दो वर्ष

    हमारी कूटनीति की नई सीमाओं और नए आयाम की रुपरेखा की खोज ने पिछले दो वर्षों में भारत की विदेश नीति को परिभसित किया है । यह समय केबल इतनी बड़ी संख्या में राष्ट्रों के साथ हमारे आदान - प्रदान के स्तर और गति की द्रष्टि से ही नहीं, बल्कि देश की प्रगति के रास्तो में ठोस उपलब्धियों को प्रदान करने के भारतीय कूटनीति के अथक प्रयासो के लिहाज से भी असाधारण था ।

    आगे पढें
  • ईरान दौरा- सभ्‍यता मिलाप, समकालीन संदर्भ

    ईरान दौरा- सभ्‍यता मिलाप, समकालीन संदर्भ

    इस्‍लामिक गणतंत्र ईरान के राष्‍ट्रपति डॉ. हसन रूहानी के निमंत्रण पर प्रधान मंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने 22 से 23 मई, 2016 को ईरान की आधिकारिक यात्रा की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च नेता महान अयातुल्‍ला सैयद अली हुसैनी खुमैनी से भेंट की और राष्‍ट्रपति रूहानी के साथ कई विषयों पर चर्चा की।

    आगे पढें
  • डॉ. भीमराव अम्‍बेडकर की 125वीं जयंती का आयोजन

    डॉ. भीमराव अम्‍बेडकर की 125वीं जयंती का आयोजन

    ''संविधान केवल वकीलों का दस्‍तावेज नहीं है, यह जीवन-साधन है और इसकी भावना सदा युग की भावना है।'' डॉ. भीमराव अम्‍बेडकर।

    आगे पढें
  • ब्रसेल्‍स दौरा- मजबूती के साथ एकजुट: बहुमुखी अनुबंध

    ब्रसेल्‍स दौरा- मजबूती के साथ एकजुट: बहुमुखी अनुबंध

    प्रधान मंत्री नरेन्‍द्र मोदी 30 मार्च से 03 अप्रैल, 2016 तक बेल्जियम, संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका और सउदी अरब की तीन देशों की अपनी यात्रा के पहले पड़ाव में दिनांक 30 मार्च, 2016 को ब्रसेल्‍स पहुंचे।

    आगे पढें
  • वाशिंगटन डीसी दौरा

    वाशिंगटन डीसी दौरा

    ''यह परमाणु सुरक्षा संबंधी शिखर सम्‍मेलन भावी पीढ़ि‍यों के लिए विश्‍व को सुरक्षित बनाने और बेहतर कल के निर्माण के लिए प्र‍तिबद्ध है।''- प्रधान मंत्री नरेन्‍द्र मोदी। प्

    आगे पढें
  • रूस यात्रा – साझा विश्‍वास, नए क्षितिज

    रूस यात्रा – साझा विश्‍वास, नए क्षितिज

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16वीं भारत-रूस वार्षिक शिखर बैठक के लिए 23-24 दिसंबर, 2015 को रूस का दो दिवसीय दौरा किया। मई 2014 में सत्‍ता में आने के बाद यह उनकी रूसी परिसंघ की पहली द्विपक्षीय यात्रा थी। सुरक्षा, व्‍यापार, अर्थव्‍यस्‍था, ऊर्जा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में सहयोग को गहन करने, तथा दोनों देशों के बीच पहले से ही मजबूत जन ...

    आगे पढें
  • अफगानिस्‍तान यात्रा – प्रधानमंत्री की अफगानिस्‍तान यात्रा के प्रमुख अंश

    अफगानिस्‍तान यात्रा – प्रधानमंत्री की अफगानिस्‍तान यात्रा के प्रमुख अंश

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर, 2015 को काबुल का दौरा किया। यह प्रधानमंत्री की अफगानिस्‍तान की पहली पहली यात्रा थी। इस यात्रा के दौरान, प्रधानमंत्री मोदी और अफगानिस्‍तान के राष्‍ट्रपति मोहम्‍मद अशरफ गनी ने राष्‍ट्रीय संसद भवन का संयुक्‍त रूप से उद्घाटन किया तथा अफगानिस्‍तान की जनता को समर्पित किया। दोनों देशों के बीच मैत्री एवं सहयोग के ...

    आगे पढें
  • खाद्य सुरक्षा के लिए कृषि क्षेत्र में भारत - अफ्रीका सहयोग

    खाद्य सुरक्षा के लिए कृषि क्षेत्र में भारत - अफ्रीका सहयोग

    भारत - अफ्रीका मंच शिखर बैठक (आई ए एफ एस) विदेश मंत्रालय द्वारा पूर्णतया प्रायोजित कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्‍य मानव संसाधन तथा कृषि आदि में विकास के लिए उनकी अपनी क्षमता विकसित करने के लिए अफ्रीकी देशों की मदद करके भारत - अफ्रीका सहयोग का विकास करना है।

    आगे पढें
  • लैटिन अमरीका एवं कैरेबियन के साथ व्‍यवसाय करना

    लैटिन अमरीका एवं कैरेबियन के साथ व्‍यवसाय करना

    हाल ही में संपन्‍न हुई लैटिन अमरीकी एवं कैरेबियन (एल ए सी) गोष्‍ठी, जिसे 8-9 अक्‍टूबर को भारतीय उद्योग परिसंघ द्वारा आयोजित किया गया, के तीन सप्‍ताह बाद दिल्‍ली में वी वी आई पी भारत – अफ्रीका शिखर बैठक आयोजित हुई।

    आगे पढें
  • वैश्विक मुद्दों पर भारत - अफ्रीका सहयोग

    वैश्विक मुद्दों पर भारत - अफ्रीका सहयोग

    भारत और अफ्रीका के बीच राजनीतिक बंधुत्‍व और एकता की मजबूत भावना 20वीं शताब्‍दी के कई दशक पहले से चली आ रही है, जब भारत और अफ्रीका के लोग उपनिवेशी शासन से आजादी प्राप्‍त करने तथा अपनी स्‍वयं की नियति का निर्धारक बनने के लिए अथक संघर्ष कर रहे थे। महात्‍मा गांधी जी ने उपनिवेशी शासन, जातीय भेदभाव एवं दमन का विरोध करने के लिए दक्षिण अफ्रीका में अपने ...

    आगे पढें
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी – क्षमता निर्माण में भारत – अफ्रीका सहयोग

    विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी – क्षमता निर्माण में भारत – अफ्रीका सहयोग

    भारत और अफ्रीका के बीच साझेदारी का एक लंबा इतिहास है। अफ्रीका के साथ भारत के विकास सहयोग में प्रौद्योगिकी सहयोग उसी समय से एक अनिवार्य घटक रहा है जब से 1990 के दशक के मध्‍य से भारतीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग (आई टी ई सी) कार्यक्रम शुरू किए गए।

    आगे पढें
  • भारत और अफ्रीका : जन दर जन संबंध – एक सदाबहार बंधन

    भारत और अफ्रीका : जन दर जन संबंध – एक सदाबहार बंधन

    अफ्रीका और भारत के लोग एक तिहाई मानव जाति का प्रति‍निधित्व करते हैं। वे सदियों से एक – दूसरे को जानते हैं। उपनिवेश काल में शोषण एवं अन्यागय के पीडि़त के रूप में वे एक – दूसरे के लिए सहानुभूति और एक साझे उद्देश्यक अर्थात प्रभुत्वं एवं भेदभाव से आजादी के माध्यदम से जुड़े थे। हाल के समय में उन्हों ने सामाजिक – आर्थिक विकास हासिल करने एवं ...

    आगे पढें
  • भारत-नीदरलैंड्स: 400 साल के संबंध को और अधिक प्रगाढ़ किया गया: डच प्रधानमंत्री की यात्रा और अनुवर्ती कार्रवाई

    भारत-नीदरलैंड्स: 400 साल के संबंध को और अधिक प्रगाढ़ किया गया: डच प्रधानमंत्री की यात्रा और अनुवर्ती कार्रवाई

    भारत के साथ 400 साल के संबंधों के बावजूद डच प्रधान मंत्री को भारत आने और 5-6 जून, 2015 को प्रधान मंत्री मोदी द्वारा उनकी मेजबानी किए जाने में 8 साल लग गए। बताया जाता है कि युवा और गतिशील डच प्रधानमंत्री, मार्क रुट्टे का जर्मन चांसलर एजेंला मर्केल से काफी घनिष्ठप संबंध है, और वे आंतरिक ईयू परिषद के एक प्रमुख सदस्यग हैं।

    आगे पढें
  • नूतन प्रोजोन्मो – नई दिशा

    नूतन प्रोजोन्मो – नई दिशा

    प्रधानमंत्री जी नरेंद्र मोदी 6-7 जून, 2015 ढाका की दो दिवसीय यात्रा पर रवाना हुए। इस यात्रा ने भावी सहयोग को गहन करने तथा दोनों पड़ोसी देशों को और भी करीब लाने की लय निर्धारित

    आगे पढें
  • रूपांतरकारी कूटनीति का एक साल: नए कीर्तिमान, नया दृष्टिकोण

    रूपांतरकारी कूटनीति का एक साल: नए कीर्तिमान, नया दृष्टिकोण

    विदेश मंत्री ने सरकार की एक वर्ष की उपलब्धियों पर आधारित पुस्तिका 'रूपांतरकारी कूटनीति: नए कीर्तिमान, नया दृष्टिकोण' का लोकार्पण किया।

    आगे पढें
  • योग : इसकी उत्पत्ति, इतिहास एवं विकास

    योग : इसकी उत्पत्ति, इतिहास एवं विकास

    योग तत्‍वत: बहुत सूक्ष्‍म विज्ञान पर आधारित एक आध्‍यात्मि विषय है जो मन एवं शरीर के बीच सामंजस्‍य स्‍थापित करने पर ध्‍यान देता है। यह स्‍वस्‍थ जीवन यापन की कला एवं विज्ञान है। योग शब्‍द संस्‍कृत की युज धातु से बना है जिसका अर्थ जुड़ना या एकजुट होना या शामिल होना है।

    आगे पढें
  • हनोवर मेस्से : इंडिया स्टोरी पर दांव लगाना

    हनोवर मेस्से : इंडिया स्टोरी पर दांव लगाना

    हनोवर मेस्से जैसा कोई शो नहीं है जिसमें नवीनतम प्रौद्योगिकी एवं नवाचार के मिश्रण को उद्यमशीलता एवं पटुता के साथ उद्योग एवं उच्चज इंजीनियरिंग के विश्वन के अग्रणी खिलाडि़यों द्वारा हर साल जर्मनी के इस शहर में एक साथ पेश किया जाता है। इस साल, हनोवर मेस्से में एक विशेष मेहमान - भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी होंगे तथा स्पॉनट लाइट भारत के ...

    आगे पढें
  • भारत और फ्रांस : वसंत ऋतु

    भारत और फ्रांस : वसंत ऋतु

    पेरिस में इस समय वसंतु ऋतु है और भारत – फ्रांस संबंधों में एक नई उछाल, तरंग एवं चंचलता दिख रही है। अप्रैल में पेरिस धरती पर स्व र्ग जैसा दिखता है तथा यह यूरोप की तथा इस महाद्वीप की शक्तिशाली अर्थव्यरवस्थाव की प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की पहली यात्रा का पहला पड़ाव है। यूरोपीय महाद्वीप में फ्रांस भारत का प्रमुख सामरिक साझेदार है तथा दोनों देशों ...

    आगे पढें
  • भारत और यूनेस्को : ऐतिहासिक तथा समय की कसौटी पर खरी मैत्री की गति‍की

    भारत और यूनेस्को : ऐतिहासिक तथा समय की कसौटी पर खरी मैत्री की गति‍की

    16 सितंबर, 1945 को लंदन में अपनाए गए यूनेस्कोी (संयुक्ति राष्ट्रा शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृ तिक संगठन) के संविधान की प्रस्तादवना में कहा गया है कि ''चूंकि युद्ध की शुरूआत पुरूषों के मन में होती है, पुरूषों का मन ही शांति की रक्षा करता है तथा इसका निर्माण अवश्यो किया जाना चाहिए।''

    आगे पढें
  • 'वसुधैव कुटुम्बकम'...'साथी हाथ बढाना', इसी कड़ी का एक और मज़बूत साथी -संदेश वाहक'ट्वीटर'

    'वसुधैव कुटुम्बकम'...'साथी हाथ बढाना', इसी कड़ी का एक और मज़बूत साथी -संदेश वाहक'ट्वीटर'

    दृश्य-एक.. घनघोर अंधेरी रात,भारी हिंसा और बमबारी के बीच यमन के उपद्र्वग्रस्त ईलाके मे फंसे लोगो को निकालने के लिये भारत का परदेस मे, हाल के वर्षों मे अब तक का सम्भवत सबसे बड़ा वचाव अभियान 'ऑपरेशन राहत'. अभियान मे मदद पाने के लिये बढे हाथो को अपनेपन की मजबूती से थामा जा रहा है,अपनो परायो मे कोई फर्क नही, सभी तो अपने है.

    आगे पढें
  • भारतीय प्रवासी समूह की महिलाओं की यात्रा : संस्कृति की वाहक, पहचान की संरक्षक

    भारतीय प्रवासी समूह की महिलाओं की यात्रा : संस्कृति की वाहक, पहचान की संरक्षक

    भारत से करारबद्ध श्रमिकों का वर्ष 1834 में दासता के उन्‍मूलन के बाद मॉरीशस तथा अन्‍य गंतव्‍य देशों जैसे सूरीनाम, गुयाना, पुन: समेकित द्वीपसमूह (रियूनियन आइलैंड), फिजी की ओर प्रस्‍थान करना इतिहास के अनकहे आख्‍यानों में से एक है।

    आगे पढें
  • दिल्ली-कोलंबो संबंध : नई सीमाएं

    दिल्ली-कोलंबो संबंध : नई सीमाएं

    ये अभिव्य क्तियां कुछ लोगों को शब्दा डंबरपूर्ण अतिशयोक्ति लगे लेकिन ये भारत और श्रीलंका के बीच के संबंधों के वर्तमान परिवर्तनकारी क्षण की मूल भावना के सारांश को प्रस्तुेत करते हैं जिसने इस साल जनवरी में कोलंबो में नई सरकार के गठन के बाद नए जोश और ऊर्जा का संचार हुआ है।

    आगे पढें
  • भारत और मारीशस: महासागरीय भागीदार

    भारत और मारीशस: महासागरीय भागीदार

    यह एक बहुआयामी संबंध है जो एक साझे अतीत से जुड़ा हुआ है लेकिन जिसका जीते-जागते वर्तमान में धड़कना जारी है और जो एक शानदार भविष्‍य की ओर इशारा करता है। इतिहास, संस्कृति, लोकतांत्रिक मूल्यों और पुरखों के घनिष्‍ठ संबंधों से जुड़े मारीशस में भारत की भावना और घ्‍वनि सर्वव्यापी है और मॉरीशस में उनकी गूंज सुनाई देती है।

    आगे पढें
  • हिंद महासागर कूटनीति: सेशेल्सा-भारत संबंध

    हिंद महासागर कूटनीति: सेशेल्सा-भारत संबंध

    सेशल्सं के बारे में सोचिए, और सौंदर्य प्रतियोगिताओं, हनीमून मनाने वालों और लक्जपरी हॉलिडे के लिए ज्या‍दा मशहूर द्वीपसमूहों के इस मनमोहक देश में भारत हमेशा छाया रहा है। व्याूपार, ट्रेनिंग, टेक्नोयलॉजी, मंदिर के साथ-साथ टाटा की बसें और कछुएं... ये विभिन्न प्रकार के धागों से बनी डोर है जिनसे भारत और अतिशय सुन्द रता के 115 द्वीपों के इस द्वीपसमूह देश ...

    आगे पढें
  • विरासतः विश्व धरोहर गुजरात की 'रानी',प्राचीन भारत का जल प्रबंधन् का नायाब नमूना

    विरासतः विश्व धरोहर गुजरात की 'रानी',प्राचीन भारत का जल प्रबंधन् का नायाब नमूना

    मद्धम हवा के झोंको के बीच,ढलती सांझ की संदूरी आभा से बुनता तिलस्म सा और इसके बीच खड़ी भव्य 'रानी की वाव' तन मन को ठंडक पहुँचाता एक पड़ाव.

    आगे पढें
  • भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत : विश्व के लिए सभ्यता का धरोहर

    भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत : विश्व के लिए सभ्यता का धरोहर

    भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत इसकी 5000 वर्ष पुरानी संस्कृति एवं सभ्यता से आरंभ होती है।

    आगे पढें
  • पूर्व की ओर देखो नीति के स्थान पर पूर्व में सक्रिय होने की नीति

    पूर्व की ओर देखो नीति के स्थान पर पूर्व में सक्रिय होने की नीति

    चूंकि प्रधानमंत्री मोदी ने विदेशी नीति के लिए अपने से विश्व को हतप्रभ कर दिया इसलिए एशिया ने उनकी सरकार की कूटनीति के संचालन में अनिवार्य रूप से केंद्र स्थान ग्रहण कर लिया है।

    आगे पढें
  • सामीप्‍य से समृद्धि की ओर: एक वैश्‍विक अर्थव्‍यवस्‍था में विकास के एक संसाधन के रूप में संपर्क (कनेक्‍टिविटी)

    सामीप्‍य से समृद्धि की ओर: एक वैश्‍विक अर्थव्‍यवस्‍था में विकास के एक संसाधन के रूप में संपर्क (कनेक्‍टिविटी)

    आज का हमारा भूमंडलीकृत एवं आपस में जुड़ा हुआ विश्‍व व्‍यापक मायनों में संपर्क (कनेक्‍टिविटी) के इर्द-गिर्द घूम रहा है। इसमें सड़कों, रेलमार्गों, जलमार्गों और समुद्री बंदरगाहों के रूप में भौतिक अवसंरचना शामिल है जो माल, सेवाओं, लोगों और विचारों को एक राष्‍ट्र की सीमा के भीतर और उसके बाहर लाने-ले जाने में सक्षम बनाती है

    आगे पढें
  • भारत और अफ्रीका : अंतर्गुंफित साझा स्व्प्न

    भारत और अफ्रीका : अंतर्गुंफित साझा स्व्प्न

    इसकी संभावना व्यक्त की जा रही है कि तीसरे शिखर सम्मेलन के अंतनिर्हित विषय भारत - अफ्रीका के समन्वित विविध उद्देश्यों को उल्लेखनीय रूप से गुणवत्तापूर्ण एवं व्यापक उत्थान प्रदान करेंगे।

    आगे पढें
  • स्‍त्री शक्‍ति: महिला उद्यमिता की शक्‍ति की पहचान

    स्‍त्री शक्‍ति: महिला उद्यमिता की शक्‍ति की पहचान

    इकसवीं शताब्‍दी में, महिलाओं ने न सिर्फ धन अर्जन करने में अपनी भूमिका दर्ज कराई है बल्‍कि भावी संगठनों का निर्माण करते हुए अभिकर्ताओं का स्‍वरूप भी परिवर्तित किया है। हाल के वर्षों में, महिलाओं ने जीवन के हर क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति की है।

    आगे पढें
  • ‘मंगलयान’ के माध्‍यम से तारों पर पहुंचकर

    ‘मंगलयान’ के माध्‍यम से तारों पर पहुंचकर

    मंगल ग्रह के लिए भारत के पहले ही मिशन की सफलता को एक वैश्वि़क उपलब्धि के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि इससे सस्ता एवं विश्वसनीय अंतर-ग्रहीय यात्रा का मार्ग प्रशस्त हो गया है, जो इस देश द्वारा प्रयुक्त सुदृढ़ उच्चि कोटि की प्रौद्योगिकीय अवसंरचना के बदौलत ही संभव हो पाया है।

    आगे पढें
  • भारत – 65 साल में असाधारण गणतंत्र

    भारत – 65 साल में असाधारण गणतंत्र

    जब से भारतवर्ष ने एक महान संविधान का अंगीकार करके सार्वभौमिक मताधिकार वाला एक लोकतांत्रिक गणतंत्र बन गया है तब से जीवंत: निर्वाचन प्रणाली वाली लोकतांत्रिक व्‍यवस्‍था भारत की सर्वाधिक सहनशील एवं भाई-चारे की प्रवृत्‍ति का परिचायक रही है।

    आगे पढें
  • शून्यता और असीमता के देवता

    शून्यता और असीमता के देवता

    यदि आप उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश की यात्रा पर निकलें और देवगढ़ जाएं जिसे देवी-देवताओं का गढ़ कहते हैं – तो आपको वहां एक हिंदू मंदिर के अवशेष मिलेंगे। यह मंदिर 1500 वर्ष पुराना तो होगा ही और इसका निर्माण गुप्त वंश के राजाओं ने किया था।

    आगे पढें
  • ''एक प्रवासी भारतीय" के ''सत्याग्रही महात्मा'' बनने की यात्रा

    ''एक प्रवासी भारतीय" के ''सत्याग्रही महात्मा'' बनने की यात्रा

    नौ जनवरी 1915, अरब सागर की शांत सी लहरो के बीच एक जहाज धीरे धीरे मुबंई के अपोलो बंदर बंदरगाह की और बढ रहा है, समुद्र के किनारे बड़ी तादाद मे लोग जहाज की दिशा मे टकटकी बांधे "महात्मा, महात्मा" के नारे लगा रहे है,

    आगे पढें
  • ई-पुस्तक : “राजनय की महत्‍वपूर्ण उपलब्धि: नया विजन, नया जोश”

    ई-पुस्तक : “राजनय की महत्‍वपूर्ण उपलब्धि: नया विजन, नया जोश”

    प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में भारत सरकार ने हमारी विदेश नीति एवं राजनयिक पहुंच को एक विशेष महत्‍व दिया है। परंपरागत रिश्‍तों में नए प्राण भरना, सामरिक संबंधों को पुन: तैयार करना तथा विदेश में रहने वाले भारतीयों तक पहुंचना भारत के राजनयिक प्रयासों का प्रमुख हिस्‍सा है।

    आगे पढें
  • भारत-कोरिया गणराज्य: तनाव रहित संबंध

    भारत-कोरिया गणराज्य: तनाव रहित संबंध

    विदेश मंत्री भारत-दक्षिण कोरिया संयुक्त आयोग बैठक के 8वें सत्र के लिए 28 से 30 दिसंबर, 2014 के दौरान सियोल के दौरे पर जा रही हैं। वह अपने समकक्ष कोरिया के विदेश मंत्री श्री युन ब्युंगसे के साथ संयुक्त आयोग की सह अध्यक्षता करेंगी।

    आगे पढें
  • भारत और बंग्लादेश : भूमि सीमा करार

    भारत और बंग्लादेश : भूमि सीमा करार

    1974 के भूमि सीमा करार का प्रोटोकॉल (जिसे प्रोटोकॉल 2011 कहा जाता है) दोनों देशों के बीच भूमि सीमा से संबंधित बकाया मुद्दों के समाधान का मार्ग प्रशस्तो करता है। यह ऐतिहासिक करार सीमा को स्थिर एवं शांतिपूर्ण रखने तथा द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने के लिए अनुकूल माहौल सृजित करने में योगदान करेगा।

    आगे पढें
  • भारत और रूस : बदलते समय में हमेशा के लिए मित्र

    भारत और रूस : बदलते समय में हमेशा के लिए मित्र

    समय की कसौटी पर खरा, हमेशा के लिए मित्र, हर समय साथ देने वाला, विशेष एवं विशेषाधिकार प्राप्तक – जब कोई भी राजनयिक संबंधों की बात करता है तो भारत और रूस के बीच राजनयिक साझेदारी के विशुद्ध कार्यक्षेत्र एवं रेंज का अतिक्रमण नहीं किया जा सकता है। क्योंझकि दोनों ही देश अच्छेए समय में तथा अच्छाय समय न होने पर भी एक दूसरे के समर्थन के मजबूत स्तंिभ के रूप ...

    आगे पढें
  • भारत की आध्‍यात्मिक एवं सांस्‍कृतिक विरासत के अमूर्त पहलू : मामला अध्‍ययन – योग

    भारत की आध्‍यात्मिक एवं सांस्‍कृतिक विरासत के अमूर्त पहलू : मामला अध्‍ययन – योग

    भारत की धार्मिक एवं आध्‍यात्मिक विरासत के इस अमूर्त पहलू का महत्‍वपूर्ण प्रभाव भारत के अपने इतिहास, संस्‍कृति एवं सभ्‍यता की प्रचुर अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। यहां जो मामला अध्‍ययन प्रस्‍तुत किया गया है वह योग का आइकॉनिक उदाहरण है।

    आगे पढें
  • भारत रूस संबंधः "पुराने भरोसे की दोस्ती का नया महत्वाकांक्षी अध्याय"

    भारत रूस संबंधः "पुराने भरोसे की दोस्ती का नया महत्वाकांक्षी अध्याय"

    नयी दिल्ली ८ दिसंबर (वीएनआई)ब्राजील के फोर्तालीजा मे ब्रिक्स शिखर बैठक के दौरान प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच अनौपचारिक मुलाकात... प्रधानमंत्री मोदी , श्री पुतिन के साथ दोनो देशो के बीच प्रगाढ द्विपक्षीय संबंधो की चर्चा करते हुए हिंदी मे उन्हे बताते है " अगर भारत मे किसी बच्चे से भी पूछा जाये कि भारत का ...

    आगे पढें
  • संबंधों की साझा ज़मीन

    संबंधों की साझा ज़मीन

    2014 के चुनावों के प्रचार में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कई अवसरों पर भारत की सॉफ्ट पावर के बारे में बात की थी।

    आगे पढें
  • भारत और सार्क : आपस में जुड़े सपने

    भारत और सार्क : आपस में जुड़े सपने

    हो सकता है कि यह पूरी तरह एक संयोग हो, परंतु यह अपार प्रतीकात्मक महत्व से भरा हुआ लाभदायक घटनाक्रम है। विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का कार्यभार संभालने और नई दिल्लीे में अपने शपथ ग्रहण समारोह में दक्षिण एशिया के सभी देशों के नेताओं को आमंत्रित करके एक बड़ा कूटनीतिक कदम उठाने के ठीक 6 माह बाद, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी काठमाण्डू में 18वें सार्क ...

    आगे पढें
  • भारत और फीजी : एक प्रशांत संबंध

    भारत और फीजी : एक प्रशांत संबंध

    यह कूटनीति और मित्रता के साथ इतिहास, संस्‍कृति एवं सभ्‍यतागत स्‍मृतियों का मिश्रण करने वाली समुद्र पार की यात्रा है। दक्षिण प्रशांत महासागर में हजारों मील दूर स्‍थित परंतु भावनाओं से जुड़ा हुआ और 800 से अधिक चकित कर देने वाले वाले नयनाभिराम मूंगा द्वीपसमूहों की एक श्रृंखला से बना हुआ फीजी भारतीय मूल के उन 300,000 से अधिक व्‍यक्‍तियों के जरिये भारत ...

    आगे पढें
  • एक्‍ट ईस्‍ट : भारत की आसियान यात्रा

    एक्‍ट ईस्‍ट : भारत की आसियान यात्रा

    लुक ईस्‍ट और एक्‍ट ईस्‍ट। एशियाई स्‍वप्‍न पुष्‍पित हो रहे हैं, और 10 देशीय आसियान समूह के साथ भारत केपल्‍लवित हो रहे संबंध इस आसियान पुनर्जागरण की धड़कन बन रहे हैं।

    आगे पढें
  • भारत और भूटान : सदाबहार मित्र, नए क्षितिज

    भारत और भूटान : सदाबहार मित्र, नए क्षितिज

    भूटान नरेश महामहिम श्री जिग्मेा खेशर नामग्येल वांगचुच के निमंत्रण पर भारत के राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी 7-8 नवंबर, 2014 को भूटान का राजकीय दौरा करेंगे।

    आगे पढें
  • आई टी ई सी के 50 वर्ष

    आई टी ई सी के 50 वर्ष

    भारतीय तकनीकी एवं आर्थिक सहयोग (आई टी ई सी) कार्यक्रम भारतीय मंत्रिमंडल के निर्णय द्वारा 15 सितंबर, 1964 से शुरू किया गया। भारतीय तकनीकी एवं आर्थिक सहयोग (आई टी ई सी) कार्यक्रम शुरू करने के लिए अपने निर्णय से अवगत कराते समय मंत्रिमंडल ने नोट किया था कि ''परस्‍पर लाभ के लिए साझेदारी एवं सहयोग के आधार पर अन्‍य विकासशील देशों के साथ हमारे संबंधों के ...

    आगे पढें
  • मारीशस में भारतीय संविदा मजदूरों के पहुंचने की 180वीं वर्षगांठ

    मारीशस में भारतीय संविदा मजदूरों के पहुंचने की 180वीं वर्षगांठ

    180 साल पहले 2 नवंबर को आप्रवासी घाट पर मारीशस में भारतीय संविदा श्रमिकों के पहली बार पहुंचने की 180वीं वर्षगांठ के अवसर पर 2 से 4 नवंबर, 2014 के दौरान पोर्ट लुइस, मारीशस में एक अंतर्राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन का आयोजन किया जा रहा है जिसमें भारत की ओर से मंत्री स्‍तर पर भागीदारी हो रही है।

    आगे पढें
  • लैटिन अमरीका क्‍यों महत्‍वपूर्ण है

    लैटिन अमरीका क्‍यों महत्‍वपूर्ण है

    लैटिन अमरीका और कैरेबियन (एलएसी) के तैंतीस देश विविधतापूर्ण और जटिल कूटनीतिक चुनौती पेश करते हैं। ऐतिहासिक, सांस्‍कृतिक/भाषायी, और सामुदायिक संपर्कों, जो भारत लगभग अन्‍य सभी क्षेत्रों के साथ थोड़े-बहुत पैमाने पर रखता है, के तुलनात्‍मक अभाव से भौगोलिक दूरी और जटिल हो जाती है।

    आगे पढें
  • 21वीं सदी को नया स्वरूप देते भारत और अमरीका

    21वीं सदी को नया स्वरूप देते भारत और अमरीका

    प्रधान मंत्री की इस यात्रा में अनेक बातें पहली बार होंगी : यह न केवल प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी की पहली अमरीका यात्रा होगी, अपितु यह अमरीका के राष्‍ट्रपति बराक ओबामा के साथ उनकी पहली मुलाकात भी होगी।

    आगे पढें
  • दूरदृष्टित : भारत-चीन संबंधों की वर्णमाला

    दूरदृष्टित : भारत-चीन संबंधों की वर्णमाला

    भारत और चीन के नेता जब वार्ता करेंगे, तब दुनिया की नजर उन पर टिकी होंगी, जो अकारण नहीं है। इस बार नई संरचना में भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रइपति शी जिनपिंग के बीच अतिरिक्त प्रतिध्वेनि के साथ पहली फुल-स्पेक्ट्रम की शिखर वार्ता होने की उम्मीिद है : जिसमें दोनों पक्षों पर मजबूत इच्छा शक्ति वाले नेता मौजूद हैं, जिनको ...

    आगे पढें
  • फास्ट ट्रैक कूटनीति

    फास्ट ट्रैक कूटनीति

    यह बुकलेट भारत के 15वें प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी के नेतृत्‍व में नई भारत सरकार की फास्‍ट ट्रैक राजनयिक यात्रा को दर्शाता है।

    आगे पढें
  • भारत और ऑस्ट्रेलिया: एक मजबूत धरातल पर

    भारत और ऑस्ट्रेलिया: एक मजबूत धरातल पर

    भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंध एक मजबूत धरातल पर हैं, और वे हर क्षेत्र में उच्च स्‍तर पर पहुंच रहे हैं। एक करीबी और गर्मजोशी से भरे संबंधों का संकेत देते हुए, भारत ने प्रधानमंत्री एबट का भव्‍य स्‍वागत किया जो एक स्‍वसम्‍पूर्ण द्विपक्षीय यात्रा पर नई दिल्ली में नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा मेजबानी किए जाने वाले सरकार के पहले प्रमुख बन गए हैं।

    आगे पढें
  • भारत और जापान : दो का दम

    भारत और जापान : दो का दम

    एशिया के दो जीवंत गणतंत्र और अग्रणी अर्थव्‍यवस्‍थाएं अर्थात भारत और जापान अच्‍छी तरह से कदम ताल कर रहे हैं और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की 30 अगस्‍त से 3 सितंबर तक की जापान यात्रा के दौरान अपने द्विपक्षीय संबंधों को नई ऊँचाइयों तक ले जाने के लिए तैयार हैं।

    आगे पढें
  • भारत और वियतनाम : पुराने मित्र, नए परिदृश्य

    भारत और वियतनाम : पुराने मित्र, नए परिदृश्य

    विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज 25-26 अगस्त, 2014 को वियतनाम की यात्रा पर जाएंगी।

    आगे पढें
  • भारत - अरब राष्‍ट्र लीग उद्घाटन मीडिया संगोष्‍ठी (21 अगस्त 2014)

    भारत - अरब राष्‍ट्र लीग उद्घाटन मीडिया संगोष्‍ठी (21 अगस्त 2014)

    पहली भारत - अरब राष्‍ट्र लीग मीडिया संगोष्‍ठी जो दोनों पक्षों से वरिष्‍ठ अधिकारियों, पत्रकारों एवं संपादकों को एक मंच पर लाएगी, का आयोजन नई दिल्‍ली में 21 अगस्त 2014 को हेगा। विदेश मंत्री 21 अगस्त 2014 को 10:00 बजे जवाहरलाल नेहरू भवन, विदेश मंत्रालय, नई दिल्‍ली में इस संगोष्‍ठी का उद्घाटन करेंगी।

    आगे पढें
  • भोजन और कूटनीति

    भोजन और कूटनीति

    भारतीय पाक शैली विभिन्‍न समुदायों एवं संस्‍कृतियों के आपस में मिश्रण के 5000 साल पुराने इतिहास को दर्शाती है जिससे विविध फ्लेवर एवं क्षेत्रीय पाक शैलियों का मार्ग प्रशस्‍त हुआ। मुगलों, ब्रिटिश और पुर्तगालियों के आने से भारतीय पाक शैली की विविधता में और वृद्धि हुई।

    आगे पढें
  • भारत, एलएसी देश साथ मिलकर एक मजबूत वैश्विक आर्थिक शक्ति बन सकते हैं

    भारत, एलएसी देश साथ मिलकर एक मजबूत वैश्विक आर्थिक शक्ति बन सकते हैं

    विकास, ऊर्जा एवं खाद्य सुरक्षा, अवसंरचना लिंकेज, व्‍यापार एवं निवेश सुविधा प्राथमिकता होनी चाहिए लैटिन अमरीकी क्षेत्र विश्‍व के प्रमुख विकास इंजन में से एक के रूप में तेजी से उभर रहा है। भारत की तरह लैटिन अमरीका वैश्विक आर्थिक उथल-पुथल से ज्‍यादातर अप्रभावित रहा है तथा विकास के पथ पर बना हुआ है और निवेश के लिए भारत का आकर्षक डेस्टिनेशन है, जो ...

    आगे पढें
  • विचार की शक्ति : ई-नेटवर्क के माध्यम से भारत और अफ्रीका को जोड़ना

    विचार की शक्ति : ई-नेटवर्क के माध्यम से भारत और अफ्रीका को जोड़ना

    यह जीवन को परिवर्तित करने वाला चमत्कार है जो प्रौद्योगिकी एवं रचनात्मक राजनय के विंग पर आधारित है। दस साल पहले, एक पथ प्रदर्शक विचार पैदा हुआ था जिसने हजारों अफ्रीकियों के जीवन को परिवर्तित करने तथा परस्पर उत्थािन की एक सशक्त साझेदारी में भारत और अफ्रीका को करीब लाने के लिए प्रौद्योगिकी, ज्ञान और नवाचार का अनुसरण करने का वचन दिया था।

    आगे पढें
  • खेल का विकास : भारत में गोल्‍फ को प्रतिष्‍ठा प्राप्‍त हुई

    खेल का विकास : भारत में गोल्‍फ को प्रतिष्‍ठा प्राप्‍त हुई

    इतिहास में गोल्फ् शताब्दियां भारत के उल्लेख के बगैर कभी पूरी नहीं हो सकती हैं। 1829 में स्थापित रॉयल कलकत्ता् स्कॉेटलैंड में सेंट एंड्रूज के बाद विश्व में दूसरा सबसे पुराना गोल्फ कोर्स है और इस प्रकार पूर्व के लिए भारत इस खेल का गढ़ बन गया।

    आगे पढें
  • भारतीय महिलाएं

    भारतीय महिलाएं

    देवी महिला देवी होती है, जिसकी भारत में अधिकांश हिंदू समुदाय द्वारा मूल शक्ति के स्रोत के रूप में पूजा की जाती है, तथा यह भक्ति एवं पवित्रता का प्रतीक मानी जाती है।

    आगे पढें
  • भारतीय भेषज उद्योग– सबके लिए स्वाभस्य्ण देखरेख तक सस्ती पहुंच

    भारतीय भेषज उद्योग– सबके लिए स्वाभस्य्ण देखरेख तक सस्ती पहुंच

    पूरी दुनिया में सूचना प्रौद्योगिकी (आई टी) क्षेत्र में बहुत कम समाचार है जहां किसी न किसी रूप में भारत का उल्ले ख न होता हो और परिणामत: आज भारत अपनी आई टी महाशक्ति के लिए विश्वविख्या‍त है।

    आगे पढें
  • भारत में स्‍वच्‍छ पानी को अच्‍छे अभिशासन के केंद्र में रखना

    भारत में स्‍वच्‍छ पानी को अच्‍छे अभिशासन के केंद्र में रखना

    पानी में जीवन होता है तथा पानी के बगैर कोई जीवन नहीं हो सकता है। पानी जीवन का कमोवेश उत्‍पादक है। घने जंगल जहां विविध प्‍लांट एवं जीव-जंतुओं का मानव बस्तियों में जमाव होता है जो स्‍वाभाविक रूप से इसके आसपास हमेशा के लिए पानी एवं क्‍लस्‍टर की तलाश में रहते हैं, यह एक प्राकृतिक संसाधन है जो धरती पर जीवन का मुख्‍य स्रोत है।

    आगे पढें
  • भारत – म्यांमार संबंध : बुद्ध, व्यवसाय एवं बॉलीवुड

    भारत – म्यांमार संबंध : बुद्ध, व्यवसाय एवं बॉलीवुड

    भारत में नई सरकार की ''पड़ोसी पहलें’’ की नीति फिर से द्विपक्षीय वार्ता के लिए और साथ ही आसियान, पूर्वी एशिया शिखर बैठक तथा आसियान क्षेत्रीय मंच से जुड़ी मंत्री स्तरीय बैठकों में भाग लेने के लिए 8 से 11 अगस्त, 2014 तक भारत की विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज की पहली म्यांमार यात्रा के साथ चर्चा में है।

    आगे पढें
  • भारत की परिष्कृत पूर्व की ओर देखो नीति ने गति पकड़ी

    भारत की परिष्कृत पूर्व की ओर देखो नीति ने गति पकड़ी

    विदेश मंत्री भारत - आसियान मंत्रिस्तरीय बैठक, आसियान क्षेत्रीय मंच (एआरएफ) के विदेश मंत्रियों की बैठक और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन मंत्रिस्तरीय बैठक में भाग लेने के लिए म्यांमार का दौरा करने वाली हैं।

    आगे पढें
  • संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यतंत्र के समक्ष दुविधा

    संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यतंत्र के समक्ष दुविधा

    प्रत्येक संयुक्त् राष्ट्र मानवाधिकार कार्यतंत्र 1948 की सार्वभौमिक मानवाधिकार घोषणा पर आधारित है जिसका यह सिद्धांत है कि मानव जाति के सम्मा्न और अधिकार आज की प्रत्येक संस्कृति और सभ्यता, धर्म और दर्शन के सिद्धांतों के मामले में जन्मजात रूप से समान हैं।

    आगे पढें
  • कूटनीतिक संवाद : भारत-अमरीका संबंधों की चौसर

    कूटनीतिक संवाद : भारत-अमरीका संबंधों की चौसर

    नई दिल्ली में नई सरकार बनने के बाद भारत और अमरीका इस सप्ताह अपना प्रथम कूटनीतिक संवाद करने जा रहे हैं और इसके साथ ही ‘‘इक्कीैसवीं सदी की दिशा-निर्धारक भागीदारी’’ की नई शुरूआत होने जा रही है।

    आगे पढें
  • भारत-नेपाल संबंध: नए क्षितिज की ओर

    भारत-नेपाल संबंध: नए क्षितिज की ओर

    यह एक ऐसी यात्रा है जो सदियों पुराने भारत-नेपाल संबंधों में नए क्षितिज की तलाश करने में नया मार्ग प्रशस्त करने वाली साबित हो सकती है। दक्षिण एशिया में एक पड़ोसी देश की अपनी अकेले दूसरी यात्रा के रूप में, भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वोराज 25 से 27 जुलाई तक काठमाण्डू का दौरा करेंगी।

    आगे पढें
  • 6वीं ब्रिक्स् शिखर बैठक, ब्राजील (15-16 जुलाई, 2014)

    6वीं ब्रिक्स् शिखर बैठक, ब्राजील (15-16 जुलाई, 2014)

    वे नई उभरती विश्वि व्यवस्थां की ईंट हैं और इसे ईंट-दर-ईंट नए सिरे से बना रहे हैं। ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका – एशिया, अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में फैली 5 उभरती प्रमुख महाशक्तियां – वैश्विक भागीदारी के नियमों को दृढ़ता से एवं उत्तरोत्तर फिर से लिख रहे हैं तथा अंतर्राषट्रीिय भू-दृश्यस को नया आकार देने के लिए अपनी सामूहिक आर्थिक एवं ...

    आगे पढें
  • भारत और लैटिन अमेरिका : अब टैंगो की बारी

    भारत और लैटिन अमेरिका : अब टैंगो की बारी

    दुनिया के इस हिस्सेा का अतीत काल्पंनिक कथाओं जैसा लगता है, और यथार्थ किसी चमत्का र जैसा। जैसे ही हम लैटिन अमेरिका के बारे में सोचते हैं, घूमते हुए जीवनोत्सरव की जीवंत तस्वीररें हमारे सामने नाचने लगती हैं: फुटबॉल, साम्बाम और कहानी कहने की कला।

    आगे पढें
  • भारत की विश्व विरासत की अंतर्राष्ट्रीय पहचान – आरंभ होने वाली नई, आकर्षक परियोजनाएं

    भारत की विश्व विरासत की अंतर्राष्ट्रीय पहचान – आरंभ होने वाली नई, आकर्षक परियोजनाएं

    भारत की संस्कृति एवं सभ्यंता से जुड़ी विरासत की अंतर्राष्ट्रीय पहचान को इस माहदोहा, कतर में विश्वस विरासत समिति बैठक के 38वें सत्र में 11वीं शताब्दी की 'रानी की वाव' को पहचान प्रदान किए जाने से एक नया प्रोत्सा्हन प्राप्त हुआ।

    आगे पढें
  • इराक में भारतीय – एक दिवास्‍वप्‍न

    इराक में भारतीय – एक दिवास्‍वप्‍न

    इराक के साथ भारत के आधुनिक रिश्‍तों की शुरूआत युद्ध के साथ हुई जब प्रथम विश्‍व युद्ध के दौरान भारतीय सैनिकों के मेसोपो‍टैमिया में कदम रखा तथा ओटोमन बलों के विरूद्ध कुछ भीषण लड़ाई के बाद वे बगदाद में ब्रिटिश शासन स्‍थापित करने में सफल हुए थे।

    आगे पढें
  • भारत – चीन सांस्‍कृतिक संपर्कों का संग्रह

    भारत – चीन सांस्‍कृतिक संपर्कों का संग्रह

    दिसंबर 2010 में चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ की भारत यात्रा के दौरान, भारत एवं चीन के नेता भारत–चीन सांस्कृतिक संपर्कों का एक संग्रह तैयार करने की परियोजना पर सहमत हुए थे।

    आगे पढें
  • अंतिम पोस्‍ट – पूरे विश्‍व में भारतीय युद्ध स्‍मारक

    अंतिम पोस्‍ट – पूरे विश्‍व में भारतीय युद्ध स्‍मारक

    भारतीय सैनिकों ने चिरकाल से निष्‍काम धर्म या निस्‍वार्थ सेवा के दर्शन का अनुसरण किया है। हजारों साल से सभ्‍यता के लोकाचार के रूप में इन पर यह लागू हो रहा है। इस प्रकार, इन्‍होंने सदियों से सम्‍मान के साथ अपने देश की सेवा की है।

    आगे पढें
  • पूरब-पश्चिम, उत्‍तर-दक्षिण : बैलट एवं नाटक के बीच 360 डिग्री का भारतीय राजनय

    पूरब-पश्चिम, उत्‍तर-दक्षिण : बैलट एवं नाटक के बीच 360 डिग्री का भारतीय राजनय

    विश्‍व के सबसे रंगारंग चुनावों के बुखार एवं उन्‍माद के बीच भारतीय राजनय शांति से एवं सार्थक ढंग से गुंजन कर रहा है क्‍योंकि देश की विदेश सचिव एवं वरिष्‍ठ राजनयिक नए अवसरों की तलाश में, जो तेजी से भूमंडलीकृत विश्‍व में उत्‍पन्‍न हो रहे हैं, पूरब, पश्चिम, उत्‍तर एवं दक्षिण की ओर रूख कर रहे हैं।

    आगे पढें
  • भारत की वैश्विक विरासत की स्‍वीकारोक्ति : विश्‍व विरासत सूची में हमारे स्‍थलों का शिलालेख

    भारत की वैश्विक विरासत की स्‍वीकारोक्ति : विश्‍व विरासत सूची में हमारे स्‍थलों का शिलालेख

    भारत की सांस्‍कृतिक और सभ्‍यतापूर्ण विरासत को विश्‍व विरासत समिति की विश्‍व विरासत सूची में प्रदर्शित किया गया है परंतु इसे बेहतर ढंग से एवं पूर्ण रूप से प्रदर्शित नहीं किया गया है

    आगे पढें
  • आई टी ई सी वे : चुनावों की कला

    आई टी ई सी वे : चुनावों की कला

    भारतीय प्रौद्योगिकी और आर्थिक सहयोग कार्यक्रम (आई टी ई सी) नामक एक प्रयास, जो चुनावी अधिकारियों के लिए एक चुनावी प्रशिक्षण कार्यक्रम है, के अंतर्गत 2012 के ग्रीष्‍मकाल में इसकी स्‍थापना से लेकर अब तक पिछले तीन वर्ष में 40 से भी अधिक देशों के 90 मिड कैरियर पोलिंग अधिकारियों को प्रशिक्षण प्रदान किया गया है ।

    आगे पढें
  • नए युग के भारत में चुनाव के नए उपकरण

    नए युग के भारत में चुनाव के नए उपकरण

    भारत प्रगति पर है। भारत युवा है। भारत की साक्षरता दर में तेजी से वृद्धि हो रही है और इसी प्रकार इंटरनेट, स्मातर्ट फोन, डिजिटल मीडिया तथा सोशल मीडिया जैसे नवीनतम गैजेट के प्रयोग में भी वृद्धि हो रही है।

    आगे पढें
  • महत्वपूर्ण मील पत्थर जिन्हें भारत द्वारा अंतरिक्ष में पार किया गया है

    महत्वपूर्ण मील पत्थर जिन्हें भारत द्वारा अंतरिक्ष में पार किया गया है

    मंगल के लिए भारत के मिशन की दृष्टि् से एक महत्वपूर्ण मील पत्थर को पार कर लिया गया क्योंकि 9 अप्रैल, 2014 को सवेरे 09.50 बजे इसने अपनी श्रमसाध्य यात्रा की आधी दूरी तय कर ली।

    आगे पढें
  • भारतीय लोकतंत्र के महापर्व का उत्संव मनाना

    भारतीय लोकतंत्र के महापर्व का उत्संव मनाना

    विश्व में लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व अपने पूरे प्रवाह पर है। शब्द की हर दृष्टि से यह महापर्व है - अनूठे ड्रामा, दर्शक एवं रंग की दृष्टि से तथा हर तरह के शोरगुल की दृष्टि से भारत में संसदीय चुनाव ने नये बेंचमार्क स्थापित किए हैं जिनका विश्व में कहीं और मिलना असंभव है।

    आगे पढें
  • भारत और परमाणु सुरक्षा

    भारत और परमाणु सुरक्षा

    तीसरी परमाणु सुरक्षा शिखर बैठक 2010 में वाशिंगटन में और 2012 में सियोल में आयोजित पिछली दो शिखर बैठकों का अनुवर्तन है। विदेश मंत्री भारतीय शिष्टमंडल के नेता थे तथा उनके साथ एक उच्चठ स्त्रीय शिष्ट्मंडल भी गया था जिसमें विदेश सचिव श्रीमती सुजाता सिंह शामिल थी, जो इस शिखर बैठक के लिए भारत की शेरपा थी।

    आगे पढें
  • प्रोटोकॉल और कूटनीति: शैली को सत्व से मिलाना

    प्रोटोकॉल और कूटनीति: शैली को सत्व से मिलाना

    प्रोटोकॉल एक देश की कूटनीति, संस्कृति और शिष्टाचार का चेहरा बन जाता है जो विदेशी अतिथियों की यात्रा समाप्त होने के बाद भी लंबे समय तक उनके मन में रहता है।

    आगे पढें
  • अब 14 भाषाओं में भारत परिप्रेक्ष्य: मोबाइल पर

    अब 14 भाषाओं में भारत परिप्रेक्ष्य: मोबाइल पर

    विदेश मंत्रालय की प्रमुख पत्रिका, भारत परिप्रेक्ष्य अब 14 भाषाओं में सभी मोबाइल प्लेटफॉर्म पर डिजिटल प्रारूप में उपलब्ध है। अपनी पसंद की भाषा में भारत परिप्रेक्ष्य को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

    आगे पढें
  • भारत में परमाणु सुरक्षा

    भारत में परमाणु सुरक्षा

    24 एवं 25 मार्च 2014 को हेग, नीदरलैंड में होने वाली आगामी (तीसरी) परमाणु सुरक्षा शिखर बैठक तथा इसमें भारत की भागीदारी के मद्देनजर, इस विवरणिका में भारत की परमाणु सुरक्षा की मुख्य रूपरेखाएं दर्शाई गई हैं।

    आगे पढें
  • तीसरी बिम्सटेक शिखर बैठक, म्यांमार (4 मार्च, 2014)

    तीसरी बिम्सटेक शिखर बैठक, म्यांमार (4 मार्च, 2014)

    बिम्सटेक की तीसरी शिखर बैठक 4 मार्च, 2014 को म्यांमार की राजधानी नाय पी ताव में होगी।

    आगे पढें
  • ई बुक: व्यवसाय में भारत

    ई बुक: व्यवसाय में भारत

    विदेश मंत्रालय के निवेश और प्रौद्योगिकी संवर्धन (आईटीपी) प्रभाग द्वारा प्रकाशित 'व्यवसाय में भारत', भारत में निवेश के विभिन्न पहलुओं पर व्यवसाय करने हेतु जानकारी प्रदान करने के लिए एक व्यापक मार्गदर्शक है।

    आगे पढें
  • जंजीबार के राष्‍ट्रपति की भारत की आधिकारिक यात्रा

    जंजीबार के राष्‍ट्रपति की भारत की आधिकारिक यात्रा

    जंजीबार के राष्‍ट्रपति डा. अली मोहम्‍मद शईन भारत की अपनी आधिकारिक यात्रा पर नई दिल्‍ली पहुंच गए हैं

    आगे पढें
  • जापान के प्रधानमंत्री की भारत की आधिकारिक यात्रा

    जापान के प्रधानमंत्री की भारत की आधिकारिक यात्रा

    जापान के प्रधानमंत्री महामहिम श्री शिन्‍जो अबे 25 से 27 जनवरी, 2014 के दौरान भारत की आधिकारिक यात्रा करेंगे

    आगे पढें
  • कोरिया गणराज्यक की राष्ट्रएपति भारत की राजकीय यात्रा

    कोरिया गणराज्यक की राष्ट्रएपति भारत की राजकीय यात्रा

    कोरिया गणराज्य की राष्ट्रपति महामहिम पार्क गूएन-ही 15 से 18 जनवरी, 2014 के दौरान भारत का राजकीय दौरा करेंगी

    आगे पढें
  • 11वीं असेम विदेश मंत्री बैठक 2013, नई दिल्ली

    11वीं असेम विदेश मंत्री बैठक 2013, नई दिल्ली

    11वीं असेम (एशिया-यूरोप बैठक) विदेश मंत्री बैठक 11-12 नवम्बर, 2013 को नई दिल्ली में होगी

    आगे पढें
  • राष्ट्रमंडल शासनाध्य‍क्ष बैठक

    राष्ट्रमंडल शासनाध्य‍क्ष बैठक

    राष्ट्रमंडल शासनाध्याक्ष बैठक या चोगम का आयोजन 15 से 17 नवम्बर, 2013 के दौरान कोलम्बो में होगा।

    आगे पढें
  • प्रधानमंत्री जी की इंडोनेशिया यात्रा (10-12 अक्टूबर, 2013)

    प्रधानमंत्री जी की इंडोनेशिया यात्रा (10-12 अक्टूबर, 2013)

    प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह 10 से 12 अक्टूबर, 2013 के दौरान इंडोनेशिया का राजकीय दौरा करेंगे।

    आगे पढें
  • भारत और संयुक्त राष्ट्र

    भारत और संयुक्त राष्ट्र

    प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह 28 सितम्बर 2013 को न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 68वें सत्र को संबोधित करेंगे...

    आगे पढें
  • भारत और यूएस संबंध

    भारत और यूएस संबंध

    राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ शिखर बैठक स्तरीय बैठक के लिए प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह 27 सितम्बर, 2013 को वाशिंगटन डीसी का आधिकारिक दौरा करेंगे ...

    आगे पढें
  • भारत-चीन मीडिया मंच, नई दिल्ली (16 सितंबर, 2013)

    भारत-चीन मीडिया मंच, नई दिल्ली (16 सितंबर, 2013)

    भारत-चीन मीडिया मंच की पहली बैठक 16 सितंबर, 2013 को नई दिल्ली में होगी। भारत के विदेश मंत्री श्री सलमान खुर्शीद तथा चीन जनवादी गणराज्य के राज्य परिषद सूचना कार्यालय मंत्री श्री काइ मिंगझाव इस मंच का उद्घाटन करेंगे।

    आगे पढें
  • एससीओ शिखर बैठक, बिश्‍केक (13 सितम्‍बर, 2013)

    एससीओ शिखर बैठक, बिश्‍केक (13 सितम्‍बर, 2013)

    बिश्‍केक में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के राष्‍ट्राध्‍यक्षों की बैठक में भाग लेने के लिए विदेश मंत्री 12-13 सितम्‍बर को किरगिज़स्‍तान का सरकारी दौरा करेंगे।

    आगे पढें
  • जी-20 शिखर बैठक 2013

    जी-20 शिखर बैठक 2013

    5-6 सितम्बर, 2013 को सेंट पीटर्सबर्ग में आयोजित होने वाली जी-20 नेताओं की शिखर बैठक 2013 की जी-20 की प्रमुख घटना होगी।

    आगे पढें
  • भारत और मध्यत यूरोप : मार्ग जिस पर कम चला गया है

    भारत और मध्यत यूरोप : मार्ग जिस पर कम चला गया है

    विदेश मंत्री जी की हंगरी एवं तुर्की यात्रा का उद्देश्यम भारत एवं मध्यं यूरोप के बीच मजबूत रिश्तों का निर्माण करना है

    आगे पढें
  • विदेश मंत्री की ब्रुनेई यात्रा (1-2 जुलाई, 2013)

    विदेश मंत्री की ब्रुनेई यात्रा (1-2 जुलाई, 2013)

    विदेश मंत्री श्री सलमान खुर्शीद भारतीय – एशियाई मंत्रालय सम्‍मेलन, 20वें एशियाई क्षेत्रीय फोरम (एआरएफ) और तीसरे पूर्व एशिया शिखर सम्‍मेलन (ईएएस) तथा विदेश मंत्रियों की बैठक (1-2 जुलाई, 2013) में भाग लेने के लिए ब्रुनेई की यात्रा करेंगे

    आगे पढें
  • चौथी भारत-यूएस सामरिक वार्ता (24 जून, 2013)

    चौथी भारत-यूएस सामरिक वार्ता (24 जून, 2013)

    विदेश मंत्री श्री सलमान खुर्शीद तथा संयुक्त राज्य अमरीका के विदेश मंत्री श्री जॉन केरी 24 जून, 2013 को नई दिल्ली में चौथी भारत-यूएस सामरिक वार्ता की सह अध्यक्षता करेंगे

    आगे पढें
  • विदेश मंत्री जी की इराक यात्रा (19-20 जून 2013)

    विदेश मंत्री जी की इराक यात्रा (19-20 जून 2013)

    विदेश मंत्री श्री सलमान खुर्शीद 19-20 जून 2013 को इराक की राजकीय यात्रा करेंगे

    आगे पढें
  • प्रधानमंत्री की जापान की यात्रा (27-29 मई, 2013)

    प्रधानमंत्री की जापान की यात्रा (27-29 मई, 2013)

    प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, जापान के प्रधानमंत्री महामहिम श्री शिंजो अबे के निमंत्रण पर 27-29 मई, 2013 तक जापान और महामहिम सुश्री यिंगलक शिनावात्रा के निमंत्रण पर 30-31 मई, 2013 तक थाईलैंड राज्‍य की सरकारी यात्रा करेंगे।

    आगे पढें
  • प्रधानमंत्री की थाईलैंड की यात्रा (30-31 मई, 2013)

    प्रधानमंत्री की थाईलैंड की यात्रा (30-31 मई, 2013)

    प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, थाईलैंड की प्रधानमंत्री महामहिम सुश्री यिंगलक शिनावात्रा के निमंत्रण पर 30-31 मई, 2013 को थाईलैंड राज्य की आधिकारिक यात्रा करेंगे।

    आगे पढें
  • अफ्रीकी संघ ने अफ्रीकी एकता संगठन के गठन की स्वर्ण जयंती का उत्‍सव मनाया

    अफ्रीकी संघ ने अफ्रीकी एकता संगठन के गठन की स्वर्ण जयंती का उत्‍सव मनाया

    उप राष्ट्रापति श्री एम हामिद अंसारी ने 25 मई को अदिस अबाबा में ओएयू या अब अफ्रीकी संघ के 50वीं वर्षगांठ समारोह में भारत का प्रतिनिधित्व् किया

    आगे पढें
  • चीन के प्रधानमंत्री महामहिम श्री ली केक्यां ग की भारत की राजकीय यात्रा, 19-21 मई, 2013

    चीन के प्रधानमंत्री महामहिम श्री ली केक्यां ग की भारत की राजकीय यात्रा, 19-21 मई, 2013

    चीन जनवादी गणराज्य की राज्य परिषद के प्रधानमंत्री महामहिम श्री ली केक्यांमग ने प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के निमंत्रण पर 19 से 21 मई 2013 तक भारत की राजकीय यात्रा की।

    आगे पढें
  • कैलाश मानसरोवर यात्रा 2013

    कैलाश मानसरोवर यात्रा 2013

    विदेश मंत्रालय द्वारा कैलाश मानसरोवर यात्रा 09 जून से 09 सितम्बर 2013 तक आयोजित की जा रही है। आवेदक अपने चयन की स्थिति www.passport.gov.in/kmy/status.do External websiteआगे पढें

  • दूसरा भारत-जर्मनी अंतर्सरकारी परामर्श, 11 अप्रैल, 2013

    दूसरा भारत-जर्मनी अंतर्सरकारी परामर्श, 11 अप्रैल, 2013

    प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह भारत एवं जर्मनी के बीच भारत-जर्मनी अंतर्सरकारी परामर्श के दूसरे चक्र के लिए 10 से 12 अप्रैल 2013 के दौरान जर्मनी का राजकीय दौरा करेंगे

    आगे पढें
  • ब्रिक्‍स की 5वीं शिखर बैठक

    ब्रिक्‍स की 5वीं शिखर बैठक

    ब्रिक्‍स की 5वीं शिखर बैठक 27 मार्च 2013 को डरबन में होगी। डरबन शिखर बैठक में भारत से दक्षिण अफ्रीका ब्रिक्‍स की अध्‍यक्षता ग्रहण करेगा।

    आगे पढें
  • दिल्ली वार्ता V

    दिल्ली वार्ता V

    “भारत-आसियान: साझेदारी एवं समृद्धि के लिए विजन” विषय पर भारत-आसियान दिल्ली वार्ता V का आयोजन 19-20 फरवरी 2013 को नई दिल्ली में होगा...

    आगे पढें
  • क्षेत्रीय सहयोग के लिए हिंद महासागर रिम संघ (आई ओ आर – ए आर सी)

    क्षेत्रीय सहयोग के लिए हिंद महासागर रिम संघ (आई ओ आर – ए आर सी)

    क्षेत्रीय सहयोग के लिए हिंद महासागर रिम संघ (आई ओ आर – ए आर सी) 16 अक्‍टूबर 2012....

    आगे पढें
  • 67वीं संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा

    67वीं संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा

    विदेश मंत्री 27 सितंबर से 4 अक्टूबर, 2012 तक संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकारी यात्रा पर 67वीं संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए

    आगे पढें
  • 9वां विश्व हिन्दी सम्मेलन

    9वां विश्व हिन्दी सम्मेलन

    9वां विश्व हिन्दी सम्मेलन दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग शहर में आयोजित किया गया। दक्षिण अफ्रीका में सम्मेलन का आयोजन न केवल दक्षिण अफ्रीका के साथ बल्कि इस पूरे क्षेत्र के साथ भारत एवं भारतीयों के ऐतिहासिक, सुदृढ़ एवं बढ़ते हुए संबंधों को परिलक्षित करता है। यह हिंदी प्रेमियों के वैश्विक समुदाय की इस देश के साथ महात्मा गांधी के संबंधों ...

    आगे पढें
  • विदेश मंत्री की पाकिस्तान यात्रा

    विदेश मंत्री की पाकिस्तान यात्रा

    विदेश मंत्री श्री एस.एम. कृष्णा 7 सितंबर से 9 सितम्बर, 2012 तक की अपनी तीन दिनों की पाकिस्तान यात्रा पर

    आगे पढें
  • प्रधानमंत्री की ईरान यात्रा

    प्रधानमंत्री की ईरान यात्रा

    प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह गुट-निरपेक्ष आंदोलन के राज्याध्यक्षों एवं शासनाध्यक्षों की 16वीं बैठक में भाग लेने के लिए...

    आगे पढें
  • एनएएम शिखर सम्मेलन 2012

    एनएएम शिखर सम्मेलन 2012

    गुटनिरपेक्ष आंदोलन के राज्य और शासन प्रमुखों की XVIवीं शिखर बैठक 30-31 अगस्त, 2012 को आयोजित की जाएगी...

    आगे पढें
  • प्रधान मंत्री की मेक्‍सिको (जी-20) और ब्राजील (रियो+20) की यात्रा

    प्रधान मंत्री की मेक्‍सिको (जी-20) और ब्राजील (रियो+20) की यात्रा

    यूरो ज़ोन में आर्थिक संकट और सुस्त पड़ती विश्व अर्थव्यवस्था के साये में एक बार पुनः जी-20 नेताओं की बैठक होने जा रही है। यूरोप की यह स्थिति विशेष रूप से चिंताजनक है क्योंकि यूरोप विश्व अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देता है और यह भारत का एक महत्वपूर्ण व्यापार और निवेश भागीदार भी है। यदि वहाँ समस्याएँ बनीं रहती हैं तो इससे विश्व बाज़ारों में मंदी ...

    आगे पढें
  • जी-20 मैक्‍सिको शिखर सम्‍मेलन

    जी-20 मैक्‍सिको शिखर सम्‍मेलन

    बीस देशों का समूह अथवा जी-20 अंतर्राष्‍ट्रीय आर्थिक एवं वित्‍तीय कार्यसूची के सबसे महत्‍वपूर्ण पहलुओं पर अंतर्राष्‍ट्रीय सहयोग को बढ़ावा देने का प्रधान मंच है। यह विश्‍व के सबसे उन्‍नत एवं उभरती अर्थव्‍यवस्‍थाओं को एक मंच पर लाता है।

    आगे पढें
  • भारत - यू एस उच्‍च प्रौद्योगिकी सहयोग समूह

    भारत - यू एस उच्‍च प्रौद्योगिकी सहयोग समूह

    भारत – यू एस उच्‍च प्रौद्योगिकी सहयोग समूह (एच टी सी जी) की उत्‍पत्ति भारत के प्रधान मंत्री तथा यू एस ए के राष्‍ट्रपति जार्ज बुश के 9 नवंबर, 2001 के संयुक्‍त वक्‍तव्‍य के द्वारा हुई। एच टी सी जी की घोषणा यू एस उद्योग और सुरक्षा ब्‍यूरो (बी आई एस) के तत्‍कालीन उप मंत्री श्री केनेथ I जस्‍टर की दिल्‍ली की यात्रा के दौरान 13 नवंबर, 2002 को एक संयुक्‍त ...

    आगे पढें
  • कैलाश मानसरोवर यात्रा 2012

    कैलाश मानसरोवर यात्रा 2012

    कैलाश मानसरोवर यात्रा मई अंत/जून से सितम्बर की शुरुआत में विदेश मंत्रालय द्वारा आयोजित किया जा रहा है. यात्रा के सभी भारतीय नागरिक जो 18 वर्ष की आयु प्राप्त कर ली है, लेकिन उम्र के 70 साल पूरा नहीं करने के लिए खुला है.

    आगे पढें
  • ई-पुस्तक : “राजनय की महत्‍वपूर्ण उपलब्धि: नया विजन, नया जोश”

    ई-पुस्तक : “राजनय की महत्‍वपूर्ण उपलब्धि: नया विजन, नया जोश”

    प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में भारत सरकार ने हमारी विदेश नीति एवं राजनयिक पहुंच को एक विशेष महत्‍व दिया है। परंपरागत रिश्‍तों में नए प्राण भरना, सामरिक संबंधों को पुन: तैयार करना तथा विदेश में रहने वाले भारतीयों तक पहुंचना भारत के राजनयिक प्रयासों का प्रमुख हिस्‍सा है।

    आगे पढें