मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

प्रश्न संख्या 3889 भारत-अफगानिस्तान संबंध

अगस्त 11, 2021

लोक सभा
अतारांकित प्रश्न संख्या 3889
दिनांक 11.08.2021 को उत्तर देने के लिए

भारत-अफगानिस्तान संबंध

3889. श्रीमती साजदा अहमदः

क्या विदेश मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे कि :

(क) क्या अफगानिस्तान से यू.एस. के वापसी का भारत-अफगानिस्तान संबंध पर प्रभाव पड़ेगा और यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है;

(ख) क्या भारत अपने हितों को सुरक्षित कर रहा है और खुले तौर पर तालिबान से बातचीत कर रहा है;

(ग) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है; और

(घ) क्या भारत ने भारतीय नागरिकों और अधिकारियों को वहां से निकाला है और अफगानिस्तान ने अपने भारतीय कंसुलेट को बंद कर दिया है यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है?

उत्तर
विदेश राज्य मंत्री
(श्री वी. मुरलीधरन)

(क) से (घ) सरकार ने अमेरिकी सरकार की घोषणा का संज्ञान लिया है कि अमेरिकी सेना और नाटो सदस्य देशों द्वारा तैनात सैन्य बल 11 सितंबर, 2021 से पहले अफगानिस्तान छोड़ देंगे।

एक निकटवर्ती पड़ोसी और रणनीतिक भागीदार होने के नाते भारत की एक संप्रभु, लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण अफगानिस्तान को समर्थन देने की एक स्थायी नीति है, जहाँ अफगान समाज के हर वर्ग, जिनमें महिलाएं, बच्चे और अल्पसंख्यक शामिल हैं, हितों की रक्षा की जाती है। भारत उन सभी शांति प्रयासों का समर्थन करता है जो दीर्घकालिक राजनीतिक समझौते की ओर अग्रसर हैं, एक समावेशी अफगान नेतृत्व वाली, अफगान स्वामित्व वाली और अफगान नियंत्रित प्रक्रिया जो इस क्षेत्र को शांति और स्थिरता की ओर ले जाएगी।

स्थायी शांति लाने के प्रयास में, सरकार क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय साझीदारों सहित अफगानी और बाहरी विभिन्न हितधारिकों के संपर्क में है। विदेश मंत्री ने सितंबर, 2020 में दोहा में आयोजित अफगानिस्तान के अंदरुनी मामलों पर हुई वार्ता के उद्घाटन सत्र में भाग लिया।

सरकार सतर्क है और भारतीय नागरिकों की सुरक्षा और उनकी हिफाजत सुनिश्चित करने के लिए अफगान प्राधिकारियों के संपर्क में है। जुलाई, 2021 में सुरक्षा उपाय के रूप में कंधार स्थित भारतीय कोंसुलावास से भारतीय कर्मियों को अस्थायी तौर पर वापस बुला लिया गया। हमारे मिशन और केंद्र अफगानिस्तान में भारतीय नागरिकों को आवश्यक सहायता दे रहे हैं। भारतीय नागरिकों के लिए नियमित तौर पर सुरक्षा परामर्श जारी किए गए हैं।

***

Comments
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code


संसदीय प्रश्न एवं उत्तर
यह भी देखें