यात्रायें यात्रायें

जी-20 के नेताओं की शिखर बैठक पर प्रेसवार्ता

नवम्बर 04, 2011

  1. हमारी, जी-20 के नेताओं की, 3-4 नवंबर, 2011 को केन्‍स में बैठक हुई।
  2. 2. हमारी पिछली बैठक के बाद से वैश्‍विक समुत्‍थान, विशेष रूप से उन्‍नत देशों में कमजोर हुआ है जिसकी वजह से बेरोजगारी अस्‍वीकार्य स्‍तर पर पहुंच गई है। इस संदर्भ में, यूरोप में अधिकांशत: संप्रभु जोखिम के कारण वित्‍तीय बाजारों में तनाव बढ़ गया है; उभरते बाजारों में विकास की गति धीमी होने के भी स्‍पष्‍ट संकेत हैं। वस्‍तुओं की कीमतों में उछाल से वृद्धि दर खतरे में पड़ गई है। वैश्‍विक असंतुलन दूर नहीं हो रहे हैं।
  3. आज हम साथ मिलकर काम करने की अपनी प्रतिबद्धता की फिर से पुष्‍टि करते हैं तथा हमने आर्थिक विकास तेज करने, रोजगार सृजित करने, वित्‍तीय स्‍थिरता सुनिश्‍चित करने, सामाजिक समावेशन को बढ़ावा देने और लोगों की आवश्‍यकताएं पूरी करने में भूमंडलीकरण को सहायक बनाने के लिए निर्णय लिया है।

    विकास एवं नौकरियों के लिए वैश्‍विक रणनीति

  4. वैश्‍विक अर्थव्‍यवस्‍था के समक्ष मौजूद चुनौतियों के समाधान के लिए हम अपनी नीतियों एवं कार्रवाइयों में समन्‍वय करने का वचन देते हैं। हममें से प्रत्‍येक अपनी भूमिका निभाएगा।
  5. अल्‍पावधिक अरक्षिताओं के समाधान के लिए तथा विकास के वास्‍ते मध्‍यम अवधि की नींवों को सुदृढ़ करने के लिए हम विकास एवं नौकरी के लिए एक कार्य योजना पर सहमत हुए हैं।

     

    1. उन्‍नत अर्थव्‍यवस्‍थाएं विश्‍वास पैदा करने एवं विकास का समर्थन करने तथा राजकोषीय सुदृढ़ीकरण प्राप्‍त करने के लिए स्‍पष्‍ट, विश्‍वसनीय एवं विशिष्‍ट उपाय लागू करने के लिए नीतियां अपनाने का वचन देती हैं। हम ग्रीक में ऋण की संपोषणीयता बहाल करने, यूरोपीय बैंकों को सुदृढ़ करने, प्रतिकूल प्रभावों से बचने के लिए फायर वाल्‍स का निर्माण करने तथा यूरो क्षेत्र में आर्थिक अभिशासन के मजबूत सुधारों के लिए नींव रखने और तेजी से उनको कार्यान्‍वित करने का आह्वान करने के लिए 26 अक्‍तूबर, 2011 को यूरोपीय नेताओं द्वारा लिए गए निर्णयों का स्‍वागत करते हैं।

      हम यूरो शिखर बैठक में इटली द्वारा प्रस्‍तुत उपायों का समर्थन करते हैं तथा हम यूरोपीय आयोग द्वारा सहमत विस्‍तृत मूल्‍यांकन एवं निगरानी के पक्ष में हैं। इस संदर्भ में हम तिमाही आधार पर अपनी नीतियों के कार्यान्‍वयन का सार्वजनिक रूप से सत्‍यापन करने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष को आमंत्रित करने संबंधी इटली के निर्णय का स्‍वागत करते हैं।
    2. राष्‍ट्रीय परिस्‍थितियों को ध्‍यान में रखते हुए, जिन देशों में लोक वित्‍त जोरदार रूप से मजबूत हैं वे स्‍वाभाविक स्‍थिरक लाने के घरेलू मांग का समर्थन करने के लिए कार्य करने तथा विवेकपूर्ण उपाय अपनाने का वचन देते हैं यदि उनकी आर्थिक स्‍थितियां सारवान रूप से बिगड़ती हैं।

      अधिक मात्रा में चालू खाता के अतिरेक वाले देश घरेलू मांग में वृद्धि करने के लिए सुधारों को लागू करने तथा विनिमय दर में अधिक लोच अपनाने का वचन देते हैं।
    3. हम सभी अपने-अपने देशों में उत्‍पादन बढ़ाने के लिए संरचनात्‍मक सुधारों का भी वचन देते हैं।
    4. मौद्रिक नीतियां मध्‍यम अवधि में मूल्‍यों को स्‍थिर रखेंगी तथा आर्थिक समुत्‍थान का समर्थन जारी रखेंगी।
  6. हम भूमंडलीकरण के सामाजिक आयाम को सुदृढ़ करने के प्रति दृढ़ संकल्‍प हैं। हमारा दृढ़ विश्‍वास है कि विकास एवं विश्‍वास की बहाली के लिए रोजगार एवं सामाजिक समावेशन हमारे कृत्‍यों एवं नीतियों के केंद्र में होना चाहिए।

    इसलिए हम एक जी-20 कार्यबल गठित करने का निर्णय लेते हैं, जो युवा रोजगार पर प्राथमिकता के रूप में काम करेगा। हम राष्‍ट्रीय स्‍थितियों के अनुरूप इनमें से प्रत्‍येक देश में सामाजिक संरक्षण के सोपानों के महत्‍व को स्‍वीकार करते हैं। हम अंतर्राष्‍ट्रीय श्रम संगठन को प्रोत्‍साहित करते हैं कि वह काम पर मौलिक सिद्धांतों एवं अधिकारों का सुनिश्‍चय करने वाले आठ प्रमुख अभिसमयों की पुष्‍टि एवं कार्यान्‍वयन को बढ़ावा देने का कार्य जारी रखे।
  7. सामाजिक वार्ता की अनिवार्य भूमिका का कायल होकर, हम बी-20 एवं एल-20 के परिणामों तथा उनके संयुक्‍त वक्‍तव्‍य का स्‍वागत करते हैं।

    अधिक स्‍थिर एवं लोचपूर्ण अंतर्राष्‍ट्रीय मौद्रिक प्रणाली की दिशा में

  8. हमने अंतर्राष्‍ट्रीय मौद्रिक प्रणाली को अधिक प्रतिनिधिमूलक, स्‍थिर, एवं लोचपूर्ण बनाने के लिए इसमें सुधार करने की दिशा में प्रगति की है। हम ऐसे कार्यों एवं सिद्धांतों पर सहमत हुए हैं, जो वित्‍तीय एकीकरण के लाभों को प्राप्‍त करने में सहायता प्रदान करेंगे और चंचल पूंजी प्रवाहों के विरुद्ध लोच में वृद्धि करेंगे। इसमें पूंजी प्रवाह के प्रबंधन में हमारे मार्गदर्शन के लिए संगत निष्‍कर्ष, अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष एवं क्षेत्रीय वित्‍तीय व्‍यवस्‍थाओं के बीच सहयोग के लिए सामान्‍य सिद्धांत तथा स्‍थानीय मुद्रा बांड बाजारों के लिए कार्य योजना शामिल है।

    हम इस बात पर सहमत हैं कि एसडीआर बास्‍केट की संरचना में वैश्‍विक व्‍यापार एवं वित्‍तीय व्‍यवस्‍था में मुद्राओं की भूमिका प्रतिबिंबित होने का कार्य जारी रहना चाहिए। एसडीआर संरचना का मूल्‍यांकन विद्यमान कसौटियों पर आधारित होना चाहिए तथा हम अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष से उन्‍हें और स्‍पष्‍ट करने का निवेदन करते हैं। समय के साथ मुद्राओं की बदलती भूमिका एवं विशेषताओं में समायोजन के लिए, एसडीआर बास्‍केट की संरचना की 2015 में या इससे पहले समीक्षा की जाएगी कि क्‍या ये मुद्राएं बास्‍केट में आने के लिए विद्यमान कसौटियों को पूरा करती हैं।

    हम अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष की अधिक एकीकृत, समान रूप से संचालित एवं प्रभावी निगरानी की दिशा में और प्रगति करने तथा छलकने वाले प्रभावों की पहचान एवं निदान करने के प्रति भी वचनबद्ध हैं। निगरानी सुदृढ़ करने से संबंधित अपने प्रयासों को जारी रखते हुए हम द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय निगरानी के बेहतर एकीकरण की आवश्‍यकता को स्‍वीकार करते हैं तथा हम अगले वर्ष के पूर्वार्ध में निगरानी पर एक नए एकीकृत निर्णय तथा अधिक स्‍वामित्‍व एवं संकर्षण के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के प्रस्‍तावों की प्रतीक्षा कर रहे हैं।
  9. हम अंतर्निहित आर्थिक मौलिकताओं को प्रतिबिंबित करने, विनिमय दर के मौजूद गैर संरेखनों से बचने तथा मुद्राओं के प्रतिस्‍पर्धी अवमूल्‍यन से बचने के लिए अधिक बाजार निर्धारित विनिमय दर प्रणाली की दिशा में तेजी से आगे बढ़ने तथा विनिमय दर की लोच में वृद्धि करने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्‍टि करते हैं। हम अल्‍पावधिक अरक्षिताओं के निदान के लिए तथा वित्‍तीय स्‍थिरता बहाल करने एवं विकास के लिए मध्‍यम अवधि की नींवों को सुदृढ़ करने के लिए विकास के लिए अपनी कार्य योजना में अभिव्‍यक्‍त विनिमय दर के सुधारों के प्रति अपनी वचनबद्धता को साकार करने के लिए दृढ़ संकल्‍प हैं।

    हमारे कार्य वैश्‍विक तरलता एवं पूंजी प्रवाह में अस्‍थिरता से उत्‍पन्‍न चुनौतियों को दूर करने में सहायता करेंगे और इस प्रकार विनिमय दर के सुधारों पर और प्रगति तथा भंडारों के अत्‍यधिक संचय को कम करने में सहायक होंगे।
  10. हम वैश्‍विक वित्‍तीय सुरक्षा जालों को और सुदृढ़ करने संबंधी अपने प्रयासों को जारी रखने के लिए सहमत हुए तथा हम बहिर्जात झटकों का सामना करने वाले देशों के लिए मामला दर मामला आधार पर अधिक एवं ज्‍यादा लोचपूर्ण अल्‍पावधिक तरलता उपलब्‍ध कराने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा प्रस्‍तुत नई एहतियाती एवं तरलता लाइन (पीएलएल) का समर्थन करते हैं।

    हम अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के सदस्‍यों की आपातकालीन सहायता संबंधी आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए एकल सुविधा प्रस्‍तुत करने संबंधी इसके प्रस्‍ताव का भी समर्थन करते हैं। हम दोनों प्रस्‍तावों पर शीघ्रता से चर्चा करने एवं अंतिम रूप देने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष का आह्वान करते हैं।
  11. हम यूरो क्षेत्र की व्‍यापक योजना का स्‍वागत करते हैं तथा देश आधारित सुधारों समेत त्‍वरित कार्यान्‍वयन एवं विस्‍तार का आग्रह करते हैं। हम विश्‍वास एवं वित्‍तीय स्‍थिरता बहाल करने तथा धन एवं वित्‍त बाजारों का समुचित कार्यकरण सुनिश्‍चित करने में अपने पूरे संसाधनों एवं संपूर्ण संस्‍थानिक क्षमता का उपयोग करने संबंधी यूरो क्षेत्र के दृढ़ निश्‍चय का स्‍वागत करते हैं।

    हम सुनिश्‍चित करेंगे कि अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के पास अपनी व्‍यवस्‍थागत भूमिका निभाने के लिए संसाधन बने रहें जिससे इसके सभी सदस्‍य देश लाभान्‍वित हों, उन पर्याप्‍त संसाधनों का और निर्माण हो जिन्‍हें हमने 2009 में लंदन के समय से पहले से ही प्रयुक्‍त किया है। हम यह सुनिश्‍चित करने के लिए तैयार हैं कि अतिरिक्‍त संसाधन समयबद्ध ढंग से जुटाए जा सकते हैं तथा वित्‍त मंत्रियों की अगली बैठक तक हम उनसे विभिन्‍न प्रकार के विकल्‍पों के प्रयोग पर काम करने का निवेदन करेंगे जिसमें अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्राकोष को द्विपक्षीय योगदान, एसडीआर, अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष की विशेष संरचना जैसे कि अभिशासित लेखा में स्‍वैच्‍छिक अंशदान आदि शामिल हैं।

    हम शीघ्रता से 2010 के कोटे को तथा अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के अभिशासन संबंधी सुधारों को पूरी तरह लागू करेंगे।

    वित्‍तीय क्षेत्र में सुधार करना तथा बाजार एकीकरण में वृद्धि करना

  12. वाशिंगटन में 2008 में हमने यह सुनिश्‍चित करने का वचन दिया था कि सभी वित्‍तीय बाजार, उत्‍पाद एवं प्रतिभागी यथाउपयुक्‍त ढंग से विनियमित होंगे या निगरानी के अधीन होंगे। हम अपनी प्रतिबद्धताओं को लागू करेंगे तथा वित्‍तीय प्रणाली के सुधार को आगे बढ़ाएंगे।
  13. हम व्‍यापक उपायों पर सहमत हुए हैं ताकि समाधान की लागत वहन करने से करदाताओं को बचाने के लिए किसी भी वित्‍तीय फर्म को ''विफल होने के लिए बहुत बड़ी'' न समझा जा सके। आज एफएसबी ने वैश्‍विक सुव्‍यवस्‍थित रूप से महत्‍वपूर्ण वित्‍तीय संस्‍थाओं (जी-एसआईएफआई) की आरंभिक सूची प्रकाशित की है। जी-एसआईएफआई से पर्यवेक्षण सुदृढ़ करने, 2016 से समाधान व्‍यवस्‍था के लिए नए अंतर्राष्‍ट्रीय मानक, अतिरिक्‍त पूंजी आवश्‍यकता प्रस्‍तुत करने के लिए कहा जाएगा। हम सुव्‍यवस्‍थित रूप से महत्‍वपूर्ण गैर बैंकिंग वित्‍तीय संस्‍थाओं की पहचान करने के लिए तैयार हैं।
  14. हमने शैडो बैकिंग के लिए विनियम एवं निगरानी विकसित करने का निर्णय लिया है। हम बाजार एकीकरण एवं कारगरता पर अपने विनियमों का और विकास करेंगे जिसमें उच्‍च बारंबारता व्‍यापार एवं अनिश्‍चित तरलता से उत्‍पन्‍न जोखिम का समाधान शामिल है। हमने आईओएससीओ को क्रेडिट डिफाल्‍ट स्‍वैप बाजारों के कामकाज के मूल्‍यांकन का कार्य सौंपा है। हम वित्‍तीय सेवाओं के उपभोक्‍ताओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए सिद्धांतत: सहमत हुए हैं।
  15. हम वित्‍तीय क्षेत्र में संकट पूर्व व्‍यवहारों पर वापस आने की अनुमति नहीं देंगे तथा हम बैंकों, ओटीसी बाजारों एवं क्षतिपूर्ति की प्रथाओं से संबंधित अपनी प्रतिबद्धताओं के कार्यान्‍वयन की कठोरता से निगरानी करेंगे।
  16. इसकी उपलब्‍धियों के आधार पर, हम वित्‍तीय विनियमन के अपने एजेंडा के समन्‍वय एवं निगरानी के लिए इसकी क्षमता में सुधार के लिए एफएसबी में सुधार के लिए सहमत हुए हैं। इस सुधार में इसे कानूनी व्‍यक्‍तित्‍व प्रदान करना तथा अधिक वित्‍तीय स्‍वायत्‍तता देना शामिल है। हम किए गए कार्य के लिए श्री मैरियो ड्राघी का धन्‍यवाद करते हैं तथा हम एफएसबी के अध्‍यक्ष के रूप में सेंट्रल बैंक ऑफ कनाडा के गवर्नर श्री मार्क कार्ने की नियुक्‍ति के साथ-साथ उपाध्‍यक्ष के रूप में स्‍विस नेशनल बैंक के अध्‍यक्ष श्री फिलिप हिल्‍डेब्रांड की नियुक्‍ति का स्‍वागत करते हैं।
  17. हम सभी क्षेत्राधिकारों से आग्रह करते हैं कि वे कर, प्रुडेंशियल एवं एएमएल/सीएफटी के क्षेत्रों में अंतर्राष्‍ट्रीय मानकों का पालन करें। हम जरूरत पड़ने पर अपने विद्यमान प्रतिरोधक उपायों का प्रयोग करने के लिए तैयार हैं। कर के क्षेत्र में हम अब तक की प्रगति का स्‍वागत करते हैं तथा हम सभी क्षेत्राधिकारों से आग्रह करते हैं कि वे विशेष रूप से वैश्‍विक मंच द्वारा अभिचिह्नित 11 क्षेत्राधिकारों, जिसकी रूपरेखा अर्हता प्राप्‍त नहीं कर पाई है, में वैश्‍विक मंच द्वारा समीक्षा के क्रम में अभिचिह्नित खामियों को दूर करने के लिए आवश्‍यक कदम उठाएं।

    हम व्‍यापक कर सूचना विनिमय के महत्‍व को रेखांकित करते हैं तथा इसमें सुधार के उपायों को परिभाषित करने के लिए वैश्‍विक मंच में कार्य को प्रोत्‍साहित करते हैं। हम कर मामलों में पारस्‍परिक प्रशासनिक सहायता पर बहुपक्षीय अभिसमय पर हस्‍ताक्षर करने के लिए हम सब द्वारा की गई प्रतिबद्धता का स्‍वागत करते हैं तथा इस अभिसमय में शामिल होने के लिए अन्‍य क्षेत्राधिकारों को दृढ़तापूर्वक प्रोत्‍साहित करते हैं।

    वस्‍तुओं के मूल्‍य में अस्‍थिरता को दूर करना तथा कृषि को बढ़ावा देना
  18. वित्‍तीय विनियमन के अपने एजेंडा के अंग के रूप में, हम कमोडिटी डेरिवेटिव्‍स बाजार के विनियमन एवं पर्यवेक्षण में सुधार के लिए आईओएससीओ की सिफारिशों का समर्थन करते हैं। हम इस बात से सहमत हैं कि बाजार के विनियामकों को बाजार के दुरुपयोगों को रोकने के लिए प्रभावी ढंग से हस्‍तक्षेप करने की शक्‍ति प्रदान की जानी चाहिए। विशेष रूप से बाजार के विनियामकों को हस्‍तक्षेप की अन्‍य शक्‍तियों के अलावा औपचारिक स्‍थिति प्रबंधन संबंधी अधिकार का प्रयोग करना चाहिए जिसमें यथाउपयुक्‍त प्रत्‍याशित स्‍थिति संबंधी सीमाओं के लिए अधिकार शामिल हैं।
  19. कृषि उत्‍पादन को बढ़ावा देना विश्‍व आबादी को भोजन उपलब्‍ध कराने की कुंजी है। इस प्रयोजनार्थ हमने जून, 2011 में हमारे कृषि मंत्रियों द्वारा सहमत खाद्य मूल्‍य चंचलता एवं कृषि पर कार्य योजना की रूपरेखा में कार्य करने का निर्णय लिया है। विशेष रूप से हमने कृषि उत्‍पादकता के विकास एवं अनुसंधान में निवेश करने एवं सहायता प्रदान करने का निर्णय लिया है। हमने कृषि उत्‍पादों के बाजारों पर पारदर्शिता लागू करने के लिए ''कृषि बाजार सूचना प्रणाली'' (एएमआईएस) शुरू की है।

    खाद्य सुरक्षा में सुधार के लिए, हम उपयुक्‍त जोखिम प्रबंधन लिखत एवं मानवीय आपातकालीन उपकरण विकसित करने का वचन देते हैं। हम निर्णय लेते हैं कि विश्‍व खाद्य कार्यक्रम द्वारा गैर वाणिज्‍यिक मानवीय प्रयोगों के लिए खरीदे गए खाद्य को निर्यात प्रतिबंधों या असाधारण करों के अधीन नहीं लाया जाएगा। हम बाजार संकट के समय में नीतियों में समन्‍वय स्‍थापित करने एवं सामान्‍य प्रत्‍युत्‍तर विकसित करने के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय समुदाय की क्षमता में सुधार के लिए ''त्‍वरित प्रत्‍युत्‍तर मंच'' के सृजन का स्‍वागत करते हैं।

    ऊर्जा बाजारों में सुधार लाना तथा जलवायु परिवर्तन के विरुद्ध संघर्ष को आगे बढ़ाना
  20. हम ऊर्जा बाजारों के कार्यकरण एवं पारदर्शिता में वृद्धि करने के लिए दृढ़ संकल्‍प हैं। हम जेओडीआई-तेल डाटाबेस की समयबद्धता, पूर्णता एवं विश्‍वसनीयता में सुधार करने तथा इन्‍हीं सिद्धांतों पर जेओडीआई-गैस डाटाबेस पर काम करने के लिए वचन देते हैं। हम तेल, गैस एवं कोयला के लिए अल्‍प, मध्‍यम एवं दीर्घ अवधि के दृष्‍टिकोण एवं भविष्‍यवाणी पर उत्‍पादकों एवं उपभोक्‍ताओं के बीच वार्षिक आधार पर निरंतर वार्ता का आह्वान करते हैं। हम संगत संगठनों से निवेदन करते हैं कि वे कीमत रिपोर्टिंग एजेंसियों के कार्यकरण एवं निगरानी पर सिफारिश करें।

    सबसे गरीब लोगों को केंद्रित सहायता उपलब्‍ध कराते हुए हम मध्‍यम अवधि की अदक्ष जीवाश्‍म ईंधन सब्‍सिडी को तर्कसंगत बनाने एवं चरणबद्ध ढंग से समाप्‍त करने संबंधी अपनी प्रतिबद्धता की फिर से पुष्‍टि करते हैं, जिससे अपव्‍ययी उपभोग को प्रोत्‍साहन मिलता है।
  21. हम जलवायु परिवर्तन पर आगामी डरबन सम्‍मेलन की सफलता के प्रति वचनबद्ध हैं तथा सम्‍मेलन के आगामी अध्‍यक्ष के रूप में दक्षिण अफ्रीका का समर्थन करते हैं। हम कानकुन करारों को लागू करने तथा वार्ता के सभी क्षेत्रों में और प्रगति का आह्वान करते हैं जिसमें डरबन में संतुलित परिणाम के अंग के रूप में हरित जलवायु निधि को साकार करना शामिल है।

    हमने जलवायु वित्‍त पर अंतर्राष्‍ट्रीय वित्‍तीय संस्‍थाओं की रिपोर्ट पर चर्चा की तथा अपने वित्‍त मंत्रियों से कहा कि यूएनएफसीसीसी के उद्देश्‍यों, प्रावधानों एवं सिद्धांतों को ध्‍यान में रखते हुए वे इस क्षेत्र में कार्य जारी रखें।

    संरक्षणवाद से बचना तथा बहुपक्षीय व्‍यापार प्रणाली को सुदृढ़ करना
  22. वैश्‍विक अर्थव्‍यवस्‍था के लिए इस नाजुक समय में संरक्षणवाद से बचने तथा अंतरवर्ती रास्‍ता न अपनाने के तरीके के रूप में बहुपक्षीय व्‍यापार प्रणाली की विशेषताओं को रेखांकित करना महत्‍वपूर्ण है।

    हम टोरंटो में यथासहमत 2013 के अंत तक अपनी स्‍थाई प्रतिबद्धताओं की फिर से पुष्‍टि करते हैं तथा किसी नए संरक्षणवादी उपाय को वापस लेने का वचन देते हैं, जो उत्‍पन्‍न हो सकता है जिसमें निर्यात को बढ़ावा देने के लिए नए निर्यात प्रतिबंध एवं विश्‍व व्‍यापार संगठन से असंगत उपाय शामिल हैं। हम विश्‍व व्‍यापार संगठन, ओईसीडी तथा अंकटाड से निवेदन करते हैं कि वे स्‍थिति की निगरानी करते रहें और अर्धवार्षिक आधार पर सार्वजनिक रूप से सूचना प्रस्‍तुत करते रहें।
  23. हम दोहा विकास एजेंडा (डीडीए) के अधिदेश का समर्थन करते हैं।

    तथापि, यह स्‍पष्‍ट है कि हम डीडीए को पूरा नहीं करेंगे यदि वार्ताओं का संचालन जारी रखते हैं जैसा कि हमने अतीत में किया है। हम अब तक की प्रगति को स्‍वीकार करते हैं। विश्‍वास बहाली में योगदान करने के लिए, हमें 2012 में वार्ता को आगे बढ़ाने के लिए नया एवं विश्‍वसनीय दृष्‍टिकोण अपनाने की जरूरत है जिसमें सबसे कम विकसित देशों के लिए सरोकार के मुद्दे शामिल हैं और जहां ये उपयोगी हो सकते हैं, डीडीए के अधिदेश के शेष घटकों को लागू किया जाए।

    हम अपने मंत्रियों को जिनेवा में आगामी मंत्रि स्‍तरीय बैठक में ऐसे दृष्‍टिकोणों पर काम करने तथा वैश्‍विक अर्थव्‍यवस्‍था में बहुपक्षीय व्‍यापार प्रणाली के समक्ष चुनौतियों एवं अवसरों पर चर्चा में शामिल होने तथा मैक्‍सिको शिखर बैठक तक रिपोर्ट प्रस्‍तुत करने का निदेश देते हैं।
  24. इसके अलावा, अधिक प्रभावी, नियम आधारित व्‍यापार प्रणाली में योगदान के रूप में, हम विश्‍व व्‍यापार संगठन के सुदृढ़ीकरण का समर्थन करते हैं, जिसे व्‍यापार संबंधों एवं नीतियों पर पारदर्शिता में सुधार लाने तथा विवाद समाधान तंत्र के कामकाज में वृद्धि करने में अधिक सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए।

    विकास की चुनौतियों से निपटना
  25. यह स्‍वीकार करते हुए कि आर्थिक झटके सबसे अधिक अरक्षित को गैर अनुपातिक रूप से प्रभावित करते हैं, हम अधिक समावेशी एवं लोचपूर्ण विकास के सुनिश्‍चय का वचन देते हैं।
  26. हार्न आफ अफ्रीका में मानवीय संकट खाद्य असुरक्षा के प्रति आपातकालीन एवं दीर्घावधिक प्रत्‍युत्‍तरों को सुदृढ़ करने की तत्‍काल आवश्‍यकता को रेखांकित करता है। हम कृषि में निवेश को बढ़ावा देने तथा मूल्‍यों में अस्‍थिरता के प्रभावों के उपशमन के विचार से, विशेष रूप से कम आय वाले देशों में तथा छोटी जोत वाले किसानों के लाभ के लिए केन्‍स की अंतिम घोषणा में उल्‍लिखित ठोस पहलों का समर्थन करते हैं।

    हम एक मार्गदर्शी परियोजना के रूप में लक्षित क्षेत्रीय आपातकालीन मानवीय खाद्य भंडार प्रणाली तथा ''आसियान+3’’ आपातकालीन मूल्‍य रिजर्व पहल'' गठित करने के लिए पश्‍चिमी अफ्रीकी राज्‍यों के आर्थिक समुदाय (इकोवास) की पहल का स्‍वागत करते हैं।
  27. यह स्‍वीकार करते हुए कि अवसंरचना का अभाव होने से अनेक विकासशील देशों में विशेष रूप से अफ्रीका में विकास की संभावना पर नाटकीय रूप से प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है, हम उच्‍च स्‍तरीय पैनल तथा एमडीबी की सिफारिशों का समर्थन करते हैं तथा 11 अनुकरणीय अवसंरचना परियोजनाओं को हाईलाइट करते हैं तथा एमडीबी एवं इसमें काम करने वाले देशों से ऐसी परियोजनाएं कार्यान्‍वित करने का आह्वान करते हैं, जो एचएलपी की कसौटी पूरा करती हैं।
  28. सहस्‍त्राब्‍दि विकास लक्ष्‍यों को पूरा करने के निमित्‍त, हम ओडीए की केंद्रीय भूमिका पर बल देते हैं। विकसित देशों द्वारा सहायता संबंधी प्रतिबद्धताएं पूरी की जाएं। उभरते देश अन्‍य विकासशील देशों को सहायता प्रदान करने के अपने स्‍तर का विस्‍तार करेंगे तथा उनके साथ भागीदारी करेंगे। हम इस बात पर भी सहमत हैं कि समय के साथ विकास संबंधी आवश्‍यकताओं एवं जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए निधीयन के नए स्रोतों का पता लगाने की आवश्‍यकता है। हमने श्री बिल गेट्स द्वारा उल्‍लिखित नवाचारी वित्‍त पोषण के लिए विकल्‍पों के सेट पर चर्चा की। हममें से कुछ लोगों ने इन विकल्‍पों को लागू किया है या इनमें से कुछ को आजमाने के लिए तैयार हैं।

    अन्‍य बातों के साथ विकास में सहायता प्रदान करने के लिए, हम विभिन्‍न प्रयोजनों के लिए वित्‍तीय क्षेत्र पर कर लगाने के लिए हमारे कुछ देशों में की जा रही पहलों को स्‍वीकार करते हैं जिसमें वित्‍तीय संव्‍यवहार कर शामिल है।

    भ्रष्‍टाचार के विरुद्ध हमारी लड़ाई को गहन करना
  29. हमने भ्रष्‍टाचार से लड़ने, बाजार एकीकरण को बढ़ावा देने तथा एक स्‍वच्‍छ व्‍यावसायिक परिवेश का समर्थन करने पर कार्य योजना के कार्यान्‍वयन में महत्‍वपूर्ण प्रगति की है।

    हम एक मजबूत अंतर्राष्‍ट्रीय विधायी रूपरेखा के त्‍वरित कार्यान्‍वयन, भ्रष्‍टाचार एवं विदेशी घूसखोरी रोकने एवं इससे लड़ने के लिए राष्‍ट्रीय उपाय अपनाने, भ्रष्‍टाचार से लड़ने में अंतर्राष्‍ट्रीय सहयोग के सुदृढ़ीकरण तथा सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के बीच संयुक्‍त पहल के विकास की आवश्‍यकता को रेखांकित करते हैं।

    21वीं शताब्‍दी के लिए वैश्‍विक अभिशासन में सुधार लाना
  30. हम वैश्‍विक अभिशासन पर यूके के प्रधान मंत्री डेविड कैमरून की रिपोर्ट का स्‍वागत करते हैं। हम इस बात से सहमत हैं कि जी-20 को अनौपचारिक समूह में बने रहना चाहिए। हमने त्रोइका को औपचारिक रूप देने का निर्णय लिया है। हम संयुक्‍त राष्‍ट्र समेत गैर सदस्‍य देशों के साथ संगत एवं प्रभावी भागीदारी का अनुसरण करेंगे तथा हम अपने कार्य में उनके योगदान का स्‍वागत करते हैं।
  31. हम इस बात की फिर से पुष्‍टि करते हैं कि कार्रवाई उत्‍प्रेरित करने के लिए समान आधार पर प्रमुख अर्थव्‍यवस्‍थाओं को एक साथ लाने संबंधी जी-20 की स्‍थापना से संबंधित भावना मौलिक है और इसलिए हम अपनी आर्थिक एवं वित्‍तीय कार्य सूची के पीछे अपनी सामूहिक राजनीतिक इच्‍छाशक्‍ति का प्रयोग करने तथा संगत अंतर्राष्‍ट्रीय संस्‍थाओं के सुधार एवं अधिक प्रभावी कार्यकरण के लिए सहमत हैं। हम इस बात का समर्थन करते हैं कि एफएओ एवं एफएसबी के अंदर सुधार लागू किए जाएं। हमने अपनी बहुपक्षीय व्‍यापार रूपरेखा को सुदृढ़ करने का वचन दिया है।

    हम अंतर्राष्‍ट्रीय संगठनों, विशेष रूप से संयुक्‍त राष्‍ट्र, विश्‍व व्‍यापार संगठन, अंतर्राष्‍ट्रीय श्रम संगठन, विश्‍व बैंक, अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष तथा ओईसीडी से आह्वान करते हैं कि वे आर्थिक नीतियों के सामाजिक प्रभावों पर अपनी वार्ता एवं सहयोग में वृद्धि करें तथा अपने समन्‍वय को भी गहन करें।
    1. 1 दिसंबर, 2011 को मैक्‍सिको जी-20 की अध्‍यक्षता करना शुरू कर देगा। मैक्‍सिको की अध्‍यक्षता में जून, 2012 में लास कैबोस, बाजा कैलिफोर्निया में हमारी बैठक होगी। 2013 में रूस जी-20 का अध्‍यक्ष होगा, 2014 में आस्‍ट्रेलिया और 2015 में तुर्की इसके अध्‍यक्ष होंगे।

      हम इस बात पर भी सहमत हुए हैं कि जी-20 में अपने सुधारों के अंग के रूप में, 2015 के बाद जी-20 के वार्षिक अध्‍यक्ष क्रमिक आधार पर क्षेत्रीय समूहों से चुने जाएंगे जिसकी शुरुआत चीन, इंडोनेशिया, जापान और कोरिया से बने एशियाई समूह से होगी।
  32. जी-20 की अध्‍यक्षता करने के लिए तथा सफल केन्‍स शिखर बैठक की मेजबानी के लिए हम फ्रांस को धन्‍यवाद देते हैं।

केन्‍स
4 नवंबर, 2011



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code