हमारे बारे में हमारे बारे में

श्री दम्मू रवि, सचिव (ईआर)

दम्मू रवि श्री दम्मू रवि ने 1989 में भारतीय विदेश सेवा में अपना पदभार ग्रहण किया। उन्होंने वर्ष 1991 से 2001 तक विभिन्न पदों पर रहते हुए मैक्सिको, क्यूबा,​ ब्रुसेल्स स्थित भारतीय मिशनों में कार्य किया। उन्होंने 2001 से 2006 तक विदेश मंत्रालय के मुख्यालय में पश्चिम यूरोप और संयुक्त राष्ट्र प्रभाग में उप सचिव/निदेशक के रूप में कार्य किया। उन्होंने मार्च 2006 से मई 2009 तक पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री के निजी सचिव के रूप में कार्य किया। श्री दम्मू अक्टूबर 2009 से दिसंबर 2013 तक लैटिन अमेरिका और कैरिबियन देशों के साथ भारतीय संबंधों की जिम्मेदारी निभाते हुए विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव रहें।

उन्होंने जनवरी 2014 से फरवरी 2020 तक वाणिज्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव के रूप में कार्य किया, जहां उन्होंने भारत की व्यापार नीति की जिम्मेदारी संभाली, जिसमें व्यापार संबंधी विवाद, एनएएमए, मत्स्य पालन वार्ता, व्यापार नीति समीक्षा आदि जैसे डब्ल्यूटीओ से जुड़े मुद्दे शामिल थे। वह नवंबर 2015 में नैरोबी (एमसी X) और दिसंबर 2017 में ब्यूनस आयर्स (एमसी X) में होने वाले डब्ल्यूटीओ मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा भी थे। उन्होंने जी20, ब्रिक्स, राष्ट्रमंडल, एससीओ, एपेक, आईओआरए, एएसईएम, यूएनसीटीएडी आदि जैसे क्षेत्रीय समूहों के साथ भारत के व्यापार तथा निवेश संबंधों की भी जिम्मेदारी संभाली। वह वृहद क्षेत्रीय मुक्त व्यापार समझौते 'क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी)' में भारत के मुख्य वार्ताकार भी थे।

मार्च 2020 में विदेश मंत्रालय में उन्हें अपर सचिव (कोविड और यूरोप) के पद पर नियुक्त किया गया।

वर्तमान में, वह विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) हैं।

उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की है। उन्होंने व्यापार संबंधी मामलों पर निम्न शोध-पत्र प्रकाशित किए हैं:
(i) भारतीय निर्यात का मानकीकरण,
(ii) भारतीय कृषि बाजारों का उदारीकरण

श्री दम्मू रवि शादीशुदा हैं और उनकी एक बेटी भी है।

***