विकास साझेदार के रूप में मानवीय सहायता

अक्टूबर 2018 में, महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने तथा मानवता के प्रति उनकी सेवा का सम्मान करने के लिए ‘इंडिया फॉर ह्यूमैनिटी’ पहल की शुरूआत की गई थी। स्वयंसेवी संगठन भगवान् महावीर विकलांग सेवा समिति (BMVSS), जिसे "जयपुर फुट" के रूप में जाना जाता है, के सहयोग से, इस कार्यक्रम में कई देशों में कृत्रिम अंग फिटमेंट कैंपों की साल भर तक चलने वाली श्रृंखला चलाई गई। एशिया और अफ्रीका के कई देशों में पहले ही कई कृत्रिम अंग फिटमेंट कैंप आयोजित किए जा चुके हैं।

वर्तमान कोरोना संकट में, भारत ने दुनिया भर के लगभग 90 से अधिक देशों में कोविड से संबंधित चिकित्सा सहायता का विस्तार किया है जिनमें परीक्षण किट, सुरक्षात्मक गियर और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन एवं अन्य दवाएं शामिल हैं, साथ ही फर्मास्यूटिकल एवं दवाओं के एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में इसकी भूमिका को विश्व स्तर पर मान्यता और सराहना मिल चुकी है।

चिकित्सा राहत की आपूर्ति के अलावा, भारत ने कुवैत और मालदीव के लिए प्रतिक्रिया टीमों को शीघ्रता से भेजकर तकनीकी सहायता का भी विस्तार किया।

कोरोना महामारी से निपटने के लिए अन्य देशों के विशेषज्ञों के साथ अनुभव और सर्वोत्तम उपायों को साझा करने के लिए कई ई-आईटीईसी वेबिनार को भी होस्ट किया गया है।


यह भी देखें