मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

सर्बिया में भारतीय समुदाय और फ्रेंड्स ऑफ इंडिया के बीच विदेश मंत्री की टिप्पणियाँ

नवम्बर 11, 2019

गुड इवनिंग

आप सभी के साथ होना बहुत खुशी की बात है और फ्रेंड्स ऑफ इंडिया के साथ जोड़ने के लिए श्रीमान राजदूत का धन्यवाद। आज का दिन काफी थकाने वाला था लेकिन मैं कहना चाहूँगा कि आप सभी को देखकर मैं अभी भी बहुत ऊर्जावान महसूस कर रहा हूँ। और मैं शुरुआत यह कहकर करना चाहता हूं कि वास्तव में मुझे बुरा लगता है कि 30 साल से कोई विदेश मंत्री इस देश में नहीं आया है और कहीं न कहीं हमने एक-दूसरे का ध्यान रखा है, आपको पता है कि हमारे बीच बहुत ही सहज संबंध हैं, भारत और सर्बिया, लेकिन कभी-कभी जब आपके बीच सहजता बहुत अधिक हो जाती है तो आप चीजों को अनुदानित तौर पर लेने लगते हैं। इसलिए मैं बहुत खुश था, मैं चार महीने से विदेश मंत्री हूं, और मेरे पदभार संभालने के शायद कुछ हफ़्तों के बाद ही मेरे सर्बियाई समकक्ष मुझ तक पहुंचे और उन्होंने मुझे आमंत्रित किया और कहा कि मुझे आशा है कि जब आप यात्रा करना शुरू करेंगे तो आप छूटी हुई चीजों के लिए तैयार होंगे और यहाँ शीघ्र ही आयेंगे और मैंने उससे वादा किया कि मैं ऐसा करूंगा, फिर हमने फोन पर बात की और फिर हम कुछ हफ्ते पहले बाकू में गुटनिरपेक्ष शिखर सम्मेलन के मौके पर मिले।

इसलिए मैं यहां हूं और वास्तव में बहुत खुश हूं क्योंकि पहली बात जो मैं आप सभी को बताना चाहता हूं, वो यह है कि शायद, मेरा मतलब है कि न सिर्फ विदेश मंत्री के रूप में, बल्कि विदेश सचिव तथा एक राजनयिक के तौर पर एक लंबे कार्यकाल के दौरान मुझे ऐसी गर्मजोशी, मित्रता, समझ और समझदारी तथा इतना सहज समर्थन कहीं नहीं मिला जैसा मैंने आज और कल अनुभव किया है। इसलिए अक्सर जब हम पेशेवर चर्चा करते हैं, तो हम मुद्दों पर जाते हैं और आप जानते हैं कि ज्यादातर समय में सहमत होना इतना आसान हो जाता था कि हमारा बहुत सारा समय वास्तव में आमोद में और इन चर्चाओं में व्यतीत हो जाता था कि हम एक-दूसरे का समर्थन कैसे कर सकते हैं।

इसलिए आज मैं जो करना चाहता हूं, वह बहुत संक्षेप में है, क्योंकि आप सभी यहां रिश्ते के समर्थक हैं, शुभचिंतक हैं, आप भी कई तरह से इस रिश्ते के पैरोकार हैं। इसलिए मैं आपके साथ साझा करना चाहता हूं कि हम कहाँ हैं ताकि मैं सोचता हूं कि आने वाले दिनों में आप सभी संबंधों को और अधिक सशक्त और उत्साही तरीके से बढ़ा पाएं।

हमारे दृष्टिकोण से, मैं कहूंगा कि इतिहास एक बहुत ही सकारात्मक संपत्ति है, आज मेरे विभिन्न कार्यक्रमों के बीच मैंने मार्शल टीटो की समाधि स्थल पर जाकर उन्हें श्रधांजलि दी और मुझे लगता है कि कई मायनों में वहाँ जाना हमारे साझा अतीत का बहुत ही सकारात्मक उद्बोधन था। मेरा स्वागत बहुत गर्मजोशी से किया गया, यहां आने से पहले मेरी आखिरी मुलाकात राष्ट्रपति व्युसिक के साथ हुई थी, वे अत्यंत उदार थे, बावजूद इसके कि अभी वे विदेश यात्रा से तुरंत वापस लौटे हैं। विदेश मंत्री के साथ मेरी दो बैठकें हुईं। कल हमने रक्षा मंत्री व्यूलिन के साथ रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किए, जो हमें, फिर से, अपने पारंपरिक रक्षा सहयोग संबंध को चुनने की अनुमति देगा। मेरी पहली बैठक निश्चित तौर पर राष्ट्रीय सभा के अध्यक्ष के साथ हुई थी और यह महत्वपूर्ण था क्योंकि वास्तव में हमारे संसदीय संपर्क बहुत मजबूत रहे हैं। आपमें से कुछ लोग जानते होंगे कि जब यहाँ अंतर्राष्ट्रीय संसदीय संघ महासभा हुई थी, तब भारतीय संसद के अध्यक्ष आए थे। पिछले साल भारत के उपराष्ट्रपति जो उच्च सदन के अध्यक्ष हैं, भी यहाँ थे।

इसलिए राजनीतिक पक्ष से मुझे लगता है कि आप बहुत सारे आदान-प्रदान देख रहे हैं। मेरे लिए निर्णायक मोड़ तब था जब राष्ट्रपति व्युसिक वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन के लिए प्रधानमंत्री के रूप में भारत गए थे और मुझे लगता है कि उस समय के बाद से ही, जिस अवधि के बारे में राजदूत ने बात की थी, हमने छूटी हुई चीजों के लिए काम करना शुरू कर दिया है और मैं बहुत खुश हूँ और मुझे उम्मीद है कि हम आने वाले वर्षों में इस गति को बनाए रख सकते हैं।

खैर, यात्राओं का आदान-प्रदान उपयोगी है, लेकिन कई बार अनावश्यक भी, कहीं न कहीं मुझे लगता है कि हितों का जुड़ाव होना बहुत महत्वपूर्ण है और भारत और सर्बिया ने वास्तव में हमेशा दुनिया को बहुत स्वतंत्र तरीके से देखा है। गुट-निरपेक्ष दिनों से यह हमारी विरासत का हिस्सा था और हम प्रत्येक देश के मुख्य हितों के मुद्दों पर एक-दूसरे का समर्थन करते हैं। सर्बिया की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के समर्थन को लेकर हम हमेशा बहुत स्पष्ट और मजबूत रहे हैं। कोसोवो से संबंधित किसी भी मुद्दे की बात आती है तो हमने हमेशा बहुत स्पष्ट स्थिति ली है। और सर्बिया ने भी हमेशा हमारे हितों और चिंताओं को समझा है जिसका सरोकार जम्मू और कश्मीर से है और वास्तव में आज सर्बियाई विदेश मंत्री ने सार्वजनिक रूप से कहा भी कि वे यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि वे इस मुद्दे को भारत का आंतरिक मामला मानते हैं।

इसलिए आपके पास एक बहुत अच्छी राजनीतिक नींव है, लेकिन जैसा कि कहा जाता है राजनीतिक नींव हमेशा किसी रिश्ते को बनाए रखने के लिए पर्याप्त नहीं होती और मैंने अपने अनुभव से भी जाना है कि संबंधों में व्यापार का घटक होना बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए मुझे बहुत खुशी है कि आपमें से कई व्यापार पक्ष की तरफ अपना योगदान दे रहे हैं। अब जब व्यावसायिक पक्ष की बात आती है, तो मुझे लगता है कि जो मैं समझता हूं, सर्बिया ने पिछले कुछ वर्षों में वास्तव में बहुत अच्छा काम किया है। वे ऊपर की ओर बढे हैं, आज वास्तव में मैं राष्ट्रपति व्यूसिक के साथ तुलना कर रहा था, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग में, मैंने कहा कि हम 142 से उठकर 63 तक चले गए हैं और उन्होंने कहा कि वे 98 से 44 या 45 से चले गए हैं। और आप जानते हैं, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस कुछ ऐसा है जिसे सभी व्यवसायी लोग मान्यता देते हैं। वे इसे देख सकते हैं और सूंघ सकते हैं, इसलिए जहां तक व्यापार का संबंध है, यह अच्छा है कि दोनों देश बहुत सकारात्मक मार्ग पर आगे बढ़ रहे हैं।

हालाँकि मैं यहाँ कभी नहीं रहा, लेकिन मैं करीब ही रहा हूँ, जब मैं बुडापेस्ट में तैनात था तो मैंने 25 साल पहले समय बिताया था, इसलिए मैंने कुछ दिलचस्पी ली और मैंने वास्तव में इस क्षेत्र के साथ विदेश मंत्रालय में काम किया है। इसलिए मैंने अतीत में कुछ दिलचस्पी ली है और मैंने पाया कि आज सर्बियाई अर्थव्यवस्था में भारतीय कंपनियां बहुत अधिक दिखाई दे रही हैं, बहुत अधिक मौजूद हैं और मैं उन सभी की सराहना करना चाहूंगा जिन्होंने यह निर्णय लिया है क्योंकि विदेश में निवेश करना उस समाज के प्रति भरोसा दिखाने का एक बड़ा कार्य है, और यह एक तथ्य है कि चाहे वह आज कृषि उपकरण हो या आईटी पार्क या चाहे विभिन्न प्रकार के उत्पाद हों, यह एक बहुत ही सकारात्मक विकास है और हम भारत में भी सर्बियाई व्यापार निवेश तथा गतिविधियों के कुछ संकेत देखने लगे हैं और मेरा एक संदेश वास्तव में उसे प्रोत्साहित करने के लिए था।

इस क्रम से जुड़ा एक हिस्सा लोगों से लोगों का सामाजिक संपर्क है जो हमारे पास है और मैं इस तथ्य की गहराई से सराहना करता हूं कि सर्बिया वास्तव में भारतीयों को बिना वीजा के आने की अनुमति देता है। इससे पर्यटकों की संख्या में बढ़ोतरी पहले से ही दिखने लगी है इसलिए मुझे लगता है कि यहां एक होटल खोलना अच्छा विचार होगा। तो मैं इसे बहुत ही स्पष्ट रूप से अपने सामने देख रहा हूं। और आप जानते हैं कि हवाई संपर्क विकसित करने में भी हमारी दिलचस्पी थी और मैं भारत के कई अन्य हिस्सों में देख सकता हूँ, क्योंकि जैसे-जैसे भारत में आय बढ़ रही है, पर्यटन में रूचि भी बहुत बढ़ रही है और मुझे यकीन है कि सर्बिया में भी यह प्रतिबिंबित होगा।

और निश्चित रूप से फिल्म उद्योग पर्यटन से जुड़ा हुआ है, विदेशों के बारे में जितनी अधिक फिल्में आप देखते हैं, उतना ही आप वहां जाना चाहते हैं और मैं अपने सर्बियाई दोस्तों को बता रहा था कि मेरी पीढ़ी के लोग स्विट्जरलैंड के दृश्य वाली हिंदी फिल्मों को देखते हुए ही बड़े हुए हैं और जिसके परिणामस्वरूप हमने हमेशा यही माना कि स्विटजरलैंड धरती पर स्वर्ग था। इसलिए मुझे यकीन है कि अगर यहां पर्याप्त फिल्में शूट की जाती हैं, तो पर्यटन संख्या में इसका असर दिखाई देगा और मुझे यकीन है कि अगर पर्यटन संख्या पर्याप्त है तो इससे आतिथ्य उद्योग में भी प्रगति होगी।

मैं उन लोगों के बारे में भी कुछ शब्द कहना चाहता हूं जिन्होंने अपने जीवन का निवेश किया है और सांस्कृतिक मामलों को अपना समय दिया है क्योंकि जब भी मैं विदेश जाता हूं, मैं वास्तव में विद्वता के स्तर से बहुत प्रभावित होता हूं जो मुझे भारत में मिलता है, वो अद्भुत दिलचस्पी जो लोग भारतीय संस्कृति के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानने के लिए दिखाते हैं। और मुझे लगता है कि आज यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम उन गतिविधियों का समर्थन करें, इसलिए मैं आपको विदेश मंत्री के रूप में आश्वस्त करना चाहता हूं कि ये हमारी प्राथमिकताओं में बहुत ऊपर है और हम भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद नामक एक संगठन से जुड़े हैं और हम उनके साथ काम करते हैं और वास्तव में सांस्कृतिक गतिविधियों पर अतीत से कहीं ज्यादा काम करने की अपेक्षा रखते हैं, चाहे वह कला का प्रदर्शन हो, चाहे वह योग का हो, या फिर भारत की अकादमिक छात्रवृत्ति हो, क्योंकि मेरा मानना है कि भारत और अन्य समाजों को समझने की गहरी ताकत का निर्माण किसी संबंध का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है।

तो कुल मिलाकर जैसा कि मैंने कहा कि हम सुबह से बाहर हैं, लेकिन यह वास्तव में बहुत ही उत्पादक दिन रहा और मैं कल किसी और देश के लिए रवाना हो जाऊंगा, लेकिन जानते हैं, मैं यहाँ मिली सकारात्मक भावनाओं से वास्तव में बहुत प्रभावित हूं। आज वास्तव में राष्ट्रपति ने मुझे बताया, उन्होंने कहा कि आप बेलग्रेड में घूम लें, सर्बिया के किसी भी हिस्से में चले जाएं, भारत के बारे में आप केवल अच्छी बातें सुनेंगे। और मुझे पता है कि मेरे दिल में वास्तव में, अगर कुछ है, तो वो है एक ख़ामोशी।

इसलिए मैं इस रिश्ते की ताकत के बारे में बहुत आश्वस्त हूं और मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि अगले 30 साल पिछले 30 वर्षों की तरह नहीं होंगे। आप पहले से अधिक गतिविधियां देखेंगे, आप अधिक मजबूत संबंध देखेंगे लेकिन मैं यह कहूंगा कि यह तभी संभव है जब लोग इस पर काम करेंगे। अच्छी भावनाएं अपने आप परिणामों में तब्दील नहीं होती हैं और जब मैं कहता हूं कि इस पर काम करते हैं, तो हां, हम जैसे लोगों को इस पर काम करना होगा, लेकिन इससे भी अधिक हमें आपके जैसे लोगों के समर्थन की आवश्यकता है और यही कारण है कि मैं इतना खुश हूं कि आज आप सभी यहां एकत्रित हुए हैं। इसलिए आज यहाँ आने के लिए एक बार फिर मैं आपको दिल से धन्यवाद देता हूं।

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code