लोक राजनय लोक राजनय

नए मित्र की खोज, पथप्रवर्तक कूटनीति के दो वर्ष

जून 22, 2016

इन दो वर्षों में भारत की विदेश नीति के अंतर्गत नए मित्रों की तलाश हमारी कूटनीति का निर्धारक विषय था। यह विशेष समयावधि न केवल बड़ी संख्‍या में देशों के साथ हमारे अनुबंध मानदंड और गति के लिए थी बल्कि यह देश के विकास के लिए मूर्त उपलब्धि प्राप्‍त करने की भारतीय कूटनीति के प्रयास के लिए थी । किंतु भारत की पथप्रर्थक कूटनीति केवल कार्यक्रमों, दौरों अथवा परियोजनाओं का समूहन नहीं था- यह एक अनवरत अनुबंध था जिसमें भारत को राष्‍ट्रों के बीच अग्रणी शक्ति के रूप में प्रतिस्‍थापित करने का आग्रह था.......[नए मित्र की खोज, पर्थप्रवर्तक कूटनीति के दो वर्ष के संबंध में ई-बुक हेतु यहां क्लिक करें]


Page Feedback

टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code
केन्द्र बिन्दु में
यह भी देखें