यात्रायें यात्रायें

बुल्गारिया की राजकीय यात्रा के दौरान राष्ट्रपति का प्रेस वक्तव्य (05 सितंबर, 2018)

सितम्बर 05, 2018

बुल्गारिया गणराज्य के राष्ट्रपति, महामहिम श्री रुमेन रादेव,
बुल्गेरियाई और भारतीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्यगण,
मीडिया के सदस्यों,
देवियों और सज्जनों,


डोबुर डेन, बुल्गारिया आना मेरे लिए बहुत खुशी का विषय है। यह एक ऐसा देश है जिसके साथ हमारी समय-परीक्षित और विशेष मित्रता है। मैं असाधारण उदारता और आतिथ्य के लिए राष्ट्रपति रादेव और बुल्गारिया के लोगों को धन्यवाद देता हूँ।

  • भारत-बुल्गारिया संबंधों की जड़ें इतिहास में गहराई गहरी पैठ है। और इनकी मजबूत नींव पर, हमने साझा लोकतांत्रिक मूल्यों एवं वैश्विक शांति और सुरक्षा के प्रति प्रतिबद्धता के आधार पर एक समकालीन भागीदारी बनाई है।
  • आज सुबह राष्ट्रपति रादेव के साथ हमारे संबंधों के सभी पक्षों पर विस्तृत वार्ता हुई। हमने अपने दीर्घकालिक और उत्कृष्ट द्विपक्षीय संबंधों को स्वीकार किया और राजनीतिक, आर्थिक, रक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, शिक्षा, संस्कृति तथा लोगों के आपसी संबंधों के क्षेत्र में अपनी साझेदारी को और मजबूत करने के लिए पारस्परिक प्रतिबद्धता की पुष्टि की।
  • हम दोनों अपनी आर्थिक साझेदारी को काफी हद तक उन्नत करने पर सहमत हुए, जो हमारे मजबूत राजनीतिक संबंधों की गहराई को प्रतिबिंबित करेगी। भारत की विकास की गाथा और बुल्गारिया की विशेषज्ञता दोनों देशों के व्यापार और निवेश संबंधों को गहरा बनाने के नए अवसर प्रदान करती है। भारत पिछली तिमाही में 8.2% की वृद्धि दर के साथ दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था है। हमारे मेक इन इंडिया कार्यक्रम और हमारे डिजिटल इंडिया, आईटी, लॉजिस्टिक्स तथा स्मार्ट सिटीज कार्यक्रम के अंतर्गत आधारभूत संरचना जैसे प्रौद्योगिकी गहन क्षेत्रों तथा रक्षा क्षेत्र में बुल्गारिया भारत का एक प्रमुख भागीदार बन सकता है। भारतीय कंपनियां बल्गेरियाई बाजार में अपने पदचिह्नों गहरा करने की इच्छुक हैं।
  • मैं भारत के 65 सदस्यीय व्यापार प्रतिनिधिमंडल के साथ आया हूँ। राष्ट्रपति रादेव और मैं बुल्गारिया-भारत व्यापार मंच को संयुक्त रूप से संबोधित करने जा कर रहे हैं। मुझे आशा है कि मंच में आईसीटी, औषध, आधारभूत संरचना, कृषि, रक्षा और पर्यटन जैसे क्षेत्रों में सफल व्यावसायिक सहयोग प्राप्त होंगे। मुझे खुशी है कि हमने अपनी आर्थिक साझेदारी को बढ़ावा देने के लिए दो प्रमुख समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए हैं, जिनमें एक निवेश भारत और निवेश बुल्गारिया एजेंसी के बीच और दूसरा पर्यटन सहयोग पर हैं।
  • हमने वैज्ञानिक सहयोग बढ़ाने के लिए दो समझौतों पर हस्ताक्षर करने का भी स्वागत किया। नागरिक परमाणु सहयोग पर समझौता ज्ञापन परमाणु ऊर्जा और शांति सहित परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोगों पर सहयोग की सुविधा प्रदान करेगा। विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए सहयोग कार्यक्रम नैनो-प्रौद्योगिकी, पारंपरिक चिकित्सा और महासागर विज्ञान जैसे क्षेत्रों में सहमत सहयोग को बढ़ाएगा। हमने सोफिया विश्वविद्यालय में हिंदी चेयर की स्थापना के समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए।
  • आज, 5 सितंबर का दिन, हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एस. राधाकृष्णन के सम्मान में भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने अपना जीवन शिक्षा को समर्पित किया। इस अवसर पर मैं सोफिया विश्वविद्यालय में छात्रों और शिक्षकों को संबोधित कर रहा हूँ।
  • राष्ट्रपति रादेव और मैंने दोनों देशों के बीच मौजूद मजबूत सांस्कृतिक बंधनों की सराहना की और सोफिया विश्वविद्यालय में इंडोलॉजी विभाग द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्यों और एक दूसरे की भाषा और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए भारतीय संस्थानों द्वारा किए गए कार्यों का उल्लेख किया।
  • अब से एक महीने से भी कम समय में, 2 अक्टूबर को, हम महात्मा गांधी के जन्मदिन का विश्वव्यापी समारोह आरंभ करेंगे। इस संदर्भ में, मैं हमारे राष्ट्रपिता को अपने शहर में जगह देने की बुल्गारिया की सामयिक पहल के लिए आपको धन्यवाद देता हूँ। मैं कल सोफिया के दक्षिण पार्क में राष्ट्रपति रादेव के साथ उनकी मूर्ति का अनावरण करने की आशा कर रहा हूँ।
  • आज के हमारे विचार-विमर्श में, हमने क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी चर्चा की। हम जलवायु परिवर्तन, टिकाऊ विकास और आतंकवाद को संबोधित करने के लिए अपने बहु-पार्श्विक सहयोग को तेज करने पर सहमत हुए। मैंने संयुक्त राष्ट्र में अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद पर व्यापक सम्मेलन को शीघ्र अपनाने का समर्थन करने के लिए राष्ट्रपति रादेव को धन्यवाद दिया। हम इस बात पर सहमत हुए कि आतंकवाद मानवता के लिए गंभीर खतरा बन गया है और इस खतरे से निपटने के लिए तत्काल वैश्विक प्रतिक्रिया की आवश्यकता है। मैंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता और परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह की सदस्यता के भारत के दावे का समर्थन करने के लिए भी उन्हें धन्यवाद किया।
  • इस वर्ष के आरंभ में यूरोपीय संघ की सफल अध्यक्षता के बाद, बुल्गारिया के राष्ट्रपति रादेव इस क्षेत्र में एक सम्मानित नेता के रूप में उभरे हैं। मैं इस उपलब्धि पर आपको बधाई देता हूँ। बहुपक्षवाद और नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बढ़ावा देने के प्रयास में भारत यूरोपीय संघ के साथ अपनी रणनीतिक साझेदारी को बहुत महत्व देता है।
  • भारत बुल्गारिया के साथ अपने उदार और मैत्रीपूर्ण संबंधों को गहरा बनाने की आशा कर रहा है।
ब्लादोडेयरा वी, धन्यवाद !


टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code