यात्रायें यात्रायें

भारत-बुल्गारिया व्यापार मंच में राष्ट्रपति का संबोधन (05 सितंबर, 2018)

सितम्बर 05, 2018

बुल्गारिया गणराज्य के राष्ट्रपति
महामहिम, श्री रुमेन रादेव,
बुल्गारिया और भारत के विशिष्ट मंत्रीगण,
बुल्गारिया और भारत के उद्योग जगत के कप्तानों,
देवियों और सज्जनों,

डोबर डेन और शुभ संध्या


  • राष्ट्रपति रादेव के साथ बुल्गारिया-भारत व्यापार मंच को संबोधित करते हुए मुझे अतीव प्रसन्नता हो रही है। इस घटना में दोनों पक्षों की उत्साहपूर्ण भागीदारी देखकर मैं बहुत खुश हूँ। मैं भारतीय-बल्गेरियाई व्ययवसाय मंडल द्वारा समर्थित बल्गेरियाई लघु और मध्यम उद्यम संवर्धन एजेंसी के काम की सराहना करता हूँ, जिन्होंने अपने भारतीय समकक्षों से जुड़ने के लिए एक बड़ा प्रतिनिधिमंडल एकत्र करने में कड़ी मेहनत की है। भारत से, हमारे साथ वाणिज्य और उद्योग के भारतीय मंडल परिसंघ, भारतीय उद्योग परिसंघ, पंजाब हरियाणा और दिल्ली के वाणिज्य और उद्योग मंडल और भारत के व्यापार संवर्धन परिषद के नेतृत्व में 65 कंपनियां आई हैं।
  • भारत और बुल्गारिया समय-परीक्षित मित्र हैं, यह संबंध 8वीं शताब्दी से बना हुआ है। हमारे संबंध लोकतंत्र के साझा मूल्यों और कानून के शासन के आधार पर आधुनिक युग के संबंधों में उन्नत हुए हैं। लेकिन मुझे स्वीकार करना होगा कि हमारे राजनीतिक संबंधों के हमेशा मजबूत और गहरे रहने के बावज़ूद हमारे आर्थिक संबंध अब तक बहुत मामूली रहे हैं। यह हमारे लिए आगे बढ़ने का समय है। आज की बैठक में राष्ट्रपति रादेव और मैंने अपने आर्थिक संबंधों में एक नया अध्याय लिखने का संकल्प किया। इस प्रयास में मैं आपका प्रतिबद्ध समर्थन चाहता हूँ।
  • दोनों अर्थव्यवस्थाओं के बीच स्वाभाविक तालमेल हैं और हमें अपने पारस्परिक लाभ के लिए उनका दोहन करने की आवश्यकता है। बल्गेरियाई कंपनियां भारतीय अर्थव्यवस्था के उच्च विकास का लाभ उठा सकती हैं। और भारतीय कंपनियां बुल्गारिया में घरेलू बाजार और व्यापक यूरोपीय संघ की अर्थव्यवस्था दोनों के लिए साझेदारी कर सकती हैं। दो-तरफा व्यापार और निवेश जुड़ाव के संभावित क्षेत्रों में आईसीटी, जैव प्रौद्योगिकी, फार्मास्यूटिकल्स, कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, ऑटो घटक, चिकित्सा उपकरण, रक्षा उत्पादन, बुनियादी ढांचा और पर्यटन क्षेत्र शामिल हैं। मुझे खुशी है कि इन सभी क्षेत्रों को इस कक्ष में अच्छी तरह से दर्शाया गया है। उनमें से कई में, भारतीय कंपनियों ने यहाँ और बल्गेरियाई उद्यमों ने भारत में पहले ही अपनी उपस्थिति दर्ज करा ली है।
  • हमारा द्विपक्षीय व्यापार 3000 लाख अमेरिकी डॉलर से अधिक है। पर यह संभावनाओं से काफी कम है। मुझे विश्वास है कि अगर हम एक-दूसरे की अर्थव्यवस्थाओं में गहराई से गोता लगाएं और संभावनाओं की तलाश करें तो बहुत कुछ किया जा सकता है। मुझे यकीन है कि आज आपके विचार-विमर्श इस दिशा में अधिक उत्पादक होंगे।

    देवियों और सज्जनों,

  • आज भारत की कहानी सकारात्मक है। दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था के रूप में, 8.2% की वर्तमान वृद्धि दर के साथ, 2025 तक इसका 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनना निश्चित है। यह हाल ही में 2.6 अरब अमेरिकी डॉलर के सकल घरेलू उत्पाद के साथ दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई है। आईएमएफ ने 2019 में भारतीय विकास दर के 7.8% पर होने का अनुमान लगाया है। हमारा आर्थिक ग्राफ बल्गेरियाई कंपनियों को भारत में प्रौद्योगिकी टाई-अप निवेश और व्यापार स्थापित करने के लिए दीर्घकालिक संभावनाएं प्रदान करता है।
  • भारत को इक्कीसवीं सदी की समावेशी अर्थव्यवस्था में बदलने के लिए, हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था को उन्नत करने और हमारे नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार लाने के कई उपाय किए हैं। इस समय 100 स्मार्ट शहरों, 10 ग्रीन-फील्ड हवाई अड्डों, 7 हाई-स्पीड ट्रेन गलियारों, 5 प्रमुख बंदरगाहों, राजमार्गों तथा गांवों और शहरी क्षेत्रों को जोड़ने वाली राष्ट्रव्यापी ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी सहित अगली पीढ़ी के बुनियादी ढांचे का निर्माण करने की महत्वाकांक्षी योजना चल रही है। केवल पिछले वर्ष में 10 हजार किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग बनाए गए थे, जिसका औसत 27 किलोमीटर प्रतिदिन है! 111 नदियों की राष्ट्रीय जलमार्ग के रूप में पहचान की गई है और नए मेट्रो के साथ हमारे रेलवे आधुनिकीकरण और समर्पित फ्रेट गलियारे पर काम चल रहा है। हमारा स्वच्छ ऊर्जा लक्ष्य 2022 तक 175 गीगावाट अक्षय ऊर्जा का उत्पादन करना है।
  • विनिर्माण और मेक इन इंडिया कार्यक्रम को बढ़ावा देने के लिए, मौलिक सामान और सेवा कर सहित कई नए सुधार शुरू किए गए हैं। इसने इतिहास में पहली बार 1.3 अरब भारतीयों के एक राष्ट्र, एक कर और एक बाजार के सपनों को पूरा किया है। हमने 1400 से अधिक पुराने कानूनों को रद्द किया है और केंद्रीय और राज्य सरकारों ने साथ मिलकर भारत में व्यवसाय स्थापित करने और बढ़ाने के लिए 10,000 से अधिक उपाय किए हैं। परिणामस्वरूप, भारत ने पिछले चार वर्षों में विश्व बैंक के व्यापार करने में आसानी के सूचकांक में 42 स्थान ऊपर जाने का रिकॉर्ड बनाया है। हमारी व्यापार-अनुकूल नीतियों ने, भारत को विश्व स्तर पर शीर्ष विदेशी प्रत्यक्ष निवेश स्थलों में रखा है, 2016-17 में 60 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक का विदेशी प्रत्यक्ष निवेश हुआ है।

    देवियों और सज्जनों,

  • भारत आगे बढ़कर डिजिटल क्रांति का नेतृत्व कर रहा है। हम अपने युवाओं को विकल्प प्रदान करने के लिए नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा दे रहे हैं। भारत में आज दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र है। अगले कुछ वर्षों में, भारत में एक अरब बैंक खातों, एक अरब आधार और एक अरब मोबाइल फोन की एक ट्रिनिटी होगी। आधार एक बायो-मेट्रिक पहचान पत्र है। यह दुनिया में अद्वितीय डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र बनाएगा।
  • आईटी क्षेत्र में परंपरागत रूप से मजबूत, भारत, दुनिया में डिजिटल प्रतिभा का सबसे बड़ा भंडार है और यह सबसे बड़ा आईसीटी सोर्सिंग गंतव्य है। बुल्गारिया भी अपनी आईसीटी क्षमता के लिए प्रसिद्ध है। हमारी कंपनियों के कृत्रिम बुद्धि, डेटा विश्लेषिकी, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, रोबोटिक्स और नैनो-प्रौद्योगिकी में सहयोग करने के लिए साथ काम करने की संभावना है।
  • भारत-बुल्गारिया रक्षा सहयोग लंबे समय से चल रहा है। बुल्गारिया भारत की विशाल रक्षा आवश्यकताओं को पूरा करने में इसकी मदद कर सकता है। मैं बल्गेरियाई कंपनियों को भारतीय की प्रमुख कंपनियों के साथ हाथ मिलाकर स्थानीय बाजार और बाकी दुनिया के लिए भारत में निर्माण करने के लिए आमंत्रित करता हूँ।
  • भारत और बुल्गारिया विज्ञान और प्रौद्योगिकी में सिद्ध शक्तियां हैं। भारत मितव्ययी नवाचार का घर है। हमने 74 मिलियन अमेरिकी डॉलर की लागत से मंगल ग्रह पर मंगलयान भेजा था जो हॉलीवुड में एक फिल्म बनाने के खर्च से भी कम है। पिछले वर्ष हमने एक ही लॉन्च वाहन से 104 उपग्रहों को उनकी कक्षा में सफलतापूर्वक लॉन्च किया, जो दुनिया में अपनी तरह का पहला प्रयोग था। अब हम अपना पहला मानव अंतरिक्ष मिशन - गगन-यान लॉन्च करने की तैयारी कर रहे हैं। उच्च तकनीक, ऊर्जा और अंतरिक्ष क्षेत्रों में बिजनेस टू बिजनेस सहयोग में दोनों पक्षों के लिए काफी संभावनाएं है।
  • बुल्गारिया के खूबसूरत पहाड़ और काला समुद्र के तट भारतीय फिल्म उद्योग और बॉलीवुड को आकर्षित कर रहे हैं। इसने एक पर्यटक गंतव्य के रूप में बुल्गारिया का आकर्षण बढ़ा है। आतिथ्य, बुनियादी ढांचे और विमानन क्षेत्रों में दोहन के नए अवसर हैं। आज पर्यटन में सहयोग पर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए, जो इस दिशा में एक स्वागत योग्य कदम है।
  • शिक्षा और कौशल विकास भी ऐसे क्षेत्र हैं जहां एक दूसरे के छात्रों और पेशेवरों को मामूली लागत पर विशेष रूप से आईसीटी और दवा क्षेत्र के उच्च मानकों में प्रशिक्षित करने की संभावना है। इससे हमारे लोगों के लिए नए रोजगार और अवसर पैदा होंगे। इसके अलावा, औषध और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्रों में संयुक्त उद्यमों और व्यापारिक समझौतों के लिए महत्वपूर्ण संभावनाएं हैं। भारतीय कंपनियों ने हाल ही में बल्गेरियाई बाजार में फार्मा अधिग्रहण किया है। और अधिक परस्पर लाभकारी व्यवसायों का इंतजार है। कृषि और खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में भी सहयोग की बहुत संभावना है।

    देवियों और सज्जनों,

  • भारत विकास और व्यापार गतिशीलता से भरा है। मैं इन अवसरों का उपयोग करने के लिए अनुभव, विशेषज्ञता और उत्साह का आह्वान करता हूँ। मैं आपको भारत में संलग्न होने और निवेश करने के लिए आमंत्रित करता हूँ। मैं आपको शुभकामनाएं देता हूँ और भारत-बुल्गारिया आर्थिक साझेदारी को अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए आपका समर्थन चाहता हूँ।
ब्लॉगोडरया वी
धन्यवाद।


टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code