यात्रायें यात्रायें

ताजिकिस्तान दौरे के समय राष्ट्रपति का प्रेस सम्बोधन

अक्तूबर 08, 2018

माननीय श्री एमोमाली रहमान जी,
राष्ट्रपति ताजिकिस्तान
महानुभावों, प्रतिष्ठित प्रतिनिधिमण्डल,
मीडिया के सदस्यगण,
भाइयो और बहनो,

  • सलोम, सर्वप्रथम मैं इस गर्मजोशी तथा स्वागत के लिए राष्ट्रपति श्री रहमान का तहेदिल से आभार प्रकट करता हूँ। राष्ट्रपति महोदय, आपके आतिथ्य में हमारी रणनीतिक भागीदारी तथा मित्रता की ज्वलन्त गहराई झलकती है
  • मध्य एशिया का यह मेरा पहला दौरा है। मध्य एशिया में ताजिकिस्तान हमारा निकटतम पड़ोसी है। अत: मैंने दुशांबे का अपना पहला दौरा करने का निश्चय किया।
  • भारत का ताजिकिस्तान के साथ ऐतिहासिक सम्बन्ध है। प्राचीन काल से हमारी साझी सभ्यता हमें एक-दूसरे से जोड़ती है। हमारी सांस्कृतिक और भाषाई समरूपता सदैव पुष्ट रही है। रुदाकी, अमीर खुसरो तथा बेदिल जैसे कवि और दार्शनिकों को भारत तथा ताजिकिस्तान में विख्यात नाम हैं। उनके कृतित्व मानवीयता तथा सहिष्णुता के हमारे साझा मूल्यों की विरासत हैं।
  • राष्ट्रपति महोदय, गत 27 वर्षों के अपने राजनयिक सम्बन्धों पर दृष्टिपात करें तो हमें सन्तुष्टि की गहरी अनुभूति होती है जिसे हमने एक साथ हासिल किया है। इन वर्षों में भारत और ताजिकिस्तान ने साथ मिलकर मजबूत द्विपक्षीय और बहुआयामी सहयोग का निर्माण किया है। 2012 में, हमने अपने सम्बन्धों को रणनीतिक साझेदारी तक पहुँचाया है। राष्ट्रपति श्री रहमान महोदय, हम भारतवासी इस सम्बन्ध को पोषित करने में आप द्वारा ली गयी व्यक्तिगत रुचि की प्रशंसा करते हैं। हम कट्टरवाद तथा आतंकवाद के विरुद्ध संघर्ष करने तथा ताजिकिस्तान में प्रगतिशील जीवन शैली, शान्ति तथा स्थिरता को प्रोत्साहित करने के आपके प्रयासों की सराहना करते हैं।
  • ताजिकिस्तान द्वारा सशक्त ढंग से शंघाई सहयोग संगठन में भारत की सदस्यता के समर्थन ने हमारी रणनीतिक साझेदारी को एक नया आयाम दिया है।
  • भाइयो और बहनो, आज राष्ट्रपति श्री रहमान के साथ अपनी बैठक में हमने अत्यन्त उपयोगी विचारों का आदान-प्रदान किया। मुझे विश्वास है कि जिस रूपरेखा पर हम सहमत हुए हैं उससे हमारी रणनीतिक सहयोग को और अधिक मजबूती मिलेगी। रक्षा, व्यापार तथा निवेश, पर्यटन, स्वास्थ्य तथा विकास के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग तथा साझेदारी के लिए असीमित सम्भावनाएँ हैं। अपने सम्बन्धों को प्रगाढ़ करने की दिशा में आज हमने राजनीतिक सम्बन्धों, रणनीतिक अनुसन्धान, कृषि, नवीकरणीय ऊर्जा, परम्परागत औषधियों, अन्तरिक्ष तकनीक, युवा मामले, संस्कृति तथा आपदा प्रबन्धन के क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर किये हैं।
  • भारत ताजिकिस्तान को क्षमता निर्माण तथा विकासपरक सहयोग प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। हमें ताजिकिस्तान सरकार द्वारा चिह्नित विकासपरक परियोजनाओं के वित्त पोषण हेतु 20 मिलियन अमेरिकी डॉलर का अनुदान प्रस्तावित करते हुए प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है। हम अपने अतिथि के निवेदन के अनुसार इस देश के सात गाँवों में सौर परियोजनाओं का सम्भाव्य अध्ययन संचालित करेंगे। हमें ताजिक सेना के लिए अंग्रेजी भाषा की दो प्रयोगशालाएँ उपलब्ध कराने में भी प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है।
  • अपनी रणनीतिक साझेदारी तथा आर्थिक सम्बन्धों की पूर्ण सम्भाव्यता के क्रियान्वयन के लिए सम्पर्क स्थापित होना अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। भारत तथा ताजिकिस्तान साथ मिलकर अन्तर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन कॉरीडोर को प्रोत्साहित कर सकते हैं तथा माल के सुचारु परिवहन के लिए चाबहार बन्दरगाह एवं एशगाबत समझौते के विकास जैसे अन्य सम्पर्क पहलों को प्रोत्साहित कर सकते हैं।
  • हम ऐसे क्षेत्र में निवास करते हैं जो दुर्भाग्यवश कट्टरपन्थियों और आतंकवादियों द्वारा आरोपित चुनौतियाँ प्रस्तुत करते हैं। भारत तथा ताजिकिस्तान दोनों ही देश सभी प्रकार के आतंकवाद तथा हिंसक उग्रवादियों का सामना करने के लिए प्रतिबद्ध हैं जो कि अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति तथा स्थिरता के लिए घातक हैं। मैं संयुक्त राष्ट्र में अन्तर्राष्ट्रीय आतंकवाद पर व्यापक सम्मेलन के शीघ्र स्वीकरण के लिए राष्ट्रपति रहमान का धन्यवाद करता हूँ।
  • भारत पड़ोसी देश अफगानिस्तान में अफगानी नेतृत्व तथा स्वामित्व वाले और अफगान नियन्त्रित शान्ति प्रक्रिया के माध्यम से शान्ति तथा विकास के लिए प्रतिबद्ध है। ताजिकिस्तान की भाँति हम भी एक शान्त अफगानिस्तान की कामना करते हैं जो राष्ट्रीय समन्वय स्थापित करने में सक्षम है।
  • मुझे प्रसन्नता है कि भारत तथा ताजिकिस्तान प्रमुख क्षेत्रीय तथा वैश्विक पर समान दृष्टिकोण रखते हैं। मुझे विश्वास है कि राष्ट्रपति रहमान के नेतृत्व में ताजकिस्तान का भविष्य विगत की भाँति उज्ज्वल होगा और भारत-ताजिकिस्तान सम्बन्ध नई ऊँचाइयों तक पहुँचेंगे।
  • मैंने राष्ट्रपति रहमान से शीघ्र ही भारत का दौरा करने का निमन्त्रण दिया है। मैं भारत में उनकी प्रतीक्षा करूँगा।

धन्यवाद।
तशक्कुर व सलोमत बोशीद.

दुशांबे,
08 अक्टूबर, 2018


टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code