यात्रायें यात्रायें

भारत के उपराष्ट्रपति का पैराग्वे गणराज्य और कोस्टा रिका गणराज्य का दौरा (मार्च 05-09, 2019)

मार्च 03, 2019

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू 5-7 मार्च 2019 से पैराग्वे और 7-9 मार्च 2019 तक कोस्टा रिका गणराज्य का दौरा करेंगे। यह भारत की ओर से दोनों देशों की पहली उच्च स्तरीय यात्रा है।

उपराष्ट्रपति के साथ एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी होगा जिसमें पर्यटन राज्य मंत्री श्री के.जे. अल्फोंस, संसद सदस्य और भारत सरकार के वरिष्ठ अधिकारी होंगे।

पैराग्वे

यद्यपि पराग्वे के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री फर्नांडो लुगो ने मई 2012 में भारत का दौरा किया था, परंतु यह भारत से पराग्वे का पहला वीवीआईपी दौरा है। मंत्री और अन्य स्तर के आदान-प्रदान समय-समय पर हुए हैं। उपराष्ट्रपति पैराग्वे गणराज्य के राष्ट्रपति, श्री मारियो अब्दो बेनीटेज़, उपराष्ट्रपति, श्री ह्यूगो वेलाज़क्वेज़ और राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष (सीनेट) श्री सिल्वियो ओवेलर के साथ मुलाकात करेंगे। उपराष्ट्रपति भारत-पैराग्वे व्यापार मंच को भी संबोधित करेंगे और पैराग्वे में भारतीय प्रवासियों के साथ बातचीत करेंगे।

भारत और पैराग्वे पारंपरिक रूप से स्नेही और मैत्रीपूर्ण संबंधों को साझा करते हैं। व्यापार हमारे संबंधों के मुख्य संचालकों में से एक है। द्विपक्षीय व्यापार में पिछले दस वर्षों में लगभग दस गुना वृद्धि हुई है और 2008-09 में 40 मिलियन अमरीकी डालर से 2017-18 में 334 मिलियन डालर तक पहुंच गया। भारत से पराग्वे के लिए निर्यात वस्तुओं में लोहा और इस्पात, प्लास्टिक, रसायन, वाहन और ऑटो पार्ट्स मुख्य रूप से शामिल हैं; जबकि भारत में पैराग्वे के निर्यात में वनस्पति तेल, तेल और रेजिनॉइड और एल्यूमीनियम मुख्य रूप से शामिल हैं। ऑटोमोबाइल क्षेत्र में ब्रांड इंडिया की पैराग्वे में मजबूत उपस्थिति है।

कोस्टा रिका

कोस्टा रिका गणराज्य के लिए उपराष्ट्रपति नायडू की यात्रा भारत से पहली उच्च स्तरीय यात्रा होगी। कोस्टा रिका की पूर्व दूसरी उपराष्ट्रपति सुश्री एना हेलेना चाकोन एचेवरिया ने अक्टूबर 2015 में भारत का दौरा किया था। समय-समय पर दोनों देशों के बीच अन्य मंत्रिस्तरीय और अन्य स्तरीय आदान-प्रदान हुए हैं।

कोस्टा रिका में उपराष्ट्रपति की व्यस्तताओं में कोस्टा रिका गणराज्य के राष्ट्रपति श्री कार्लोस अल्वाराडो कुसाडा, प्रथम उपराष्ट्रपति, सुश्री एप्सी कैंपबेल बर के साथ-साथ कांग्रेस की अध्यक्ष सुश्री कैरोलिना हिडाल्गो हेरेरे से मुलाकात शामिल हैं। उपराष्ट्रपति शांति के एजेंडे को आगे बढ़ाने के विशिष्ट जनादेश के साथ संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान में स्थापित प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी ऑफ़ पीस को संबोधित करेंगे। वह भारत-कोस्टा रिका व्यापार मंच में मुख्य भाषण देंगे; और कोस्टा रिका में भारतीय समुदाय के साथ मुलाकात करेंगे।

भारत और कोस्टा रिका दोस्ती और सहयोग के लंबे समय से चले आ रहे संबंधों का लाभ उठा रहे हैं, जो दोनों देशों के बीच बढ़ते वाणिज्यिक संबंधों से मजबूत हो रहे हैं। भारत और कोस्टा रिका के बीच द्विपक्षीय व्यापार 200 मिलियन अमरीकी डालर है। भारत कोस्टा रिका को कुल 133 मिलियन अमरीकी डालर का निर्यात करता है जिसमें ऑटो, मोटरसाइकिल और फार्मा मुख्य रूप से शामिल हैं। कोस्टा रिका से मुख्य रूप से टीकवुड का आयात किया जाता है। 2021 तक कार्बन-तटस्थ देश बनने की प्रतिबद्धता के साथ, कोस्टा रिका अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन में शामिल हो गया है।

उपराष्ट्रपति की दोनों देशों की यात्रा इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण देशों तक भारत की पहुंच को आगे बढ़ाने के लिए है। इस यात्रा से व्यापार और निवेश, आईसीटी, नवीकरणीय ऊर्जा सहित हमारे द्विपक्षीय संबंधों को गति प्रदान करने का अवसर मिलेगा, जिसमें हाइडल, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, अंतरिक्ष और लोगों से लोगों के आपसी संबंध शामिल हैं।

नई दिल्ली
मार्च 03, 2019



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code