यात्रायें यात्रायें

उपराष्ट्रपति का पैराग्वे दौरा (5-7 मार्च, 2019)

मार्च 07, 2019

1. उपराष्ट्रपति श्री एम.वेंकैया नायडू पैराग्वे के आधिकारिक दौरे पर हैं। उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने पैराग्वे के राष्ट्रपति महामहिम श्री मारियो एब्दो बेनिटेज़ और उपराष्ट्रपति महामहिम श्री ह्यूगो वेलज़कज़ के साथ बैठक की । उपराष्ट्रपति ने राष्ट्रीय कांग्रेस (सीनेट) के अध्यक्ष, महामहिम श्री सिल्वियो ओवलर से भी मुलाकात की।

2. 1961 में राजनयिक संबंधों की स्थापना के बाद भारत की ओर से पैराग्वे की यह पहली उच्च स्तरीय यात्रा थी।

3. बैठकें सौहार्दपूर्ण और मैत्रीपूर्ण थीं तथा दोनों पक्षों में संबंधों को मजबूत और गहरा करने के लिए प्रतिबद्धता थी।

4. राष्ट्रपति एब्दो ने लगभग 25 साल पहले की छात्र के रूप में अपनी भारत यात्रा को याद किया था, जो उन्हें याद थी ।

5. लोकतंत्र के रूप में, अपनी आबादी के 65% से अधिक युवाओं के साथ समान जनसांख्यिकीय प्रोफ़ाइल रखने वाले, भारत और पैराग्वे की आकांक्षाएं समान होने के साथ-साथ दोनों देशों की अपने युवाओं को आवश्यक कौशल प्रदान करने की आवश्यकता भी समान है। दोनों पक्षों ने इस क्षेत्र में अनुभव साझा करने के लिए सहमति जताई ।

6. उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बारे में जानकारी दी। पैराग्वे के राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने पुलवामा में आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा की और पुलवामा हमले के शहीदों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा कि भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर आतंकवाद के खतरों के मुद्दे को उठाने में पैराग्वे के समर्थन पर भरोसा कर सकता है।

7. राष्ट्रपति श्री एब्दो बेनिटेज़ और उपराष्ट्रपति श्री वेलज़कज़ ने भारत में आर्थिक विकास की सराहना की और कहा कि यह वैश्विक विकास में योगदान देता है। भारत अपनी तकनीकी ताकत और एक प्रमुख खाद्य उत्पादक के रूप में पैराग्वे द्विपक्षीय व्यापार और आर्थिक संबंधों को और मजबूत करने के लिए प्राकृतिक रूप से एक दूसरे के पूरक है। पैराग्वे स्वयं एक विकासशील अर्थव्यवस्था थी और लैटिन अमेरिका के देशों तक पहुंच बनाने के लिए भारत को पैराग्वे को एक रणनीतिक आर्थिक केंद्र के रूप में देखना चाहिए। उन्होंने भारतीय कंपनियों को पैराग्वे में निवेश करने के लिए आमंत्रित किया।

8. दोनों पक्षों ने जल शक्ति और सौर, स्वास्थ्य सहित पारंपरिक चिकित्सा, सूचना और संचार प्रौद्योगिकी, खेती और कृषि मशीनरी, अंतरिक्ष और जैव प्रौद्योगिकी, रेलवे और पर्यटन संबंधी बुनियादी ढांचे सहित सहयोग के नए क्षेत्रों का पता लगाने पर सहमति व्यक्त की। विशिष्ट क्षेत्र जिनपर चर्चा की गई उनमें कृषि प्रसंस्करण, भारत से ट्रैक्टरों की आपूर्ति, हाइडल ऊर्जा क्षेत्र आधुनिकीकरण, चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति और जेनेरिक दवा की आपूर्ति शामिल है जो पराग्वन स्वास्थ्य सेवा प्रणाली के लिए उपयोगी हो सकती हैं ।

9. उन्होंने अपनी टीमों को शिक्षाविदों और विश्वविद्यालयों के बीच तथा पर्यटन में पेशेवरों और हितधारकों के बीच आदान-प्रदान को बढ़ावा देने की सुविधा प्रदान करने का कार्य सौंपा । पैराग्वे ने उच्च शिक्षा और इसके आईटीईसी (भारतीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग) कार्यक्रम के लिए बढ़ी हुई छात्रवृत्ति के माध्यम से क्षमता निर्माण के भारत के प्रस्ताव का स्वागत किया।

10. नागरिकों के आपसी संपर्क के महत्व पर जोर देते हुए, दोनों देशों के बीच पर्यटन को बढ़ाने पर सहमति हुई। पैराग्वे ने कहा कि वे भारतीय व्यापारियों और पर्यटकों के लिए अधिक व्यापार अनुकूल वीजा व्यवस्था की दिशा में काम करेंगे।

11. संसदीय यात्राओं के महत्व पर बल दिया गया और उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने पैराग्वे से भारत आने के लिए संसदीय प्रतिनिधिमंडल को आमंत्रित किया।

12. भारत और पैराग्वे संयुक्त रूप से महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मनाएंगे और, अपने भाषण में, उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने महात्मा गांधी की प्रतिमा को पैराग्वे में स्थानांतरित करने की घोषणा की, जिसके असंशियन के महापौर उपयुक्त स्थान की खोज कर रहे हैं । भारत ने असंशियन में पैराग्वे द्वारा एक स्मारक डाक टिकट जारी करने का स्वागत किया, जिसे उपराष्ट्रपति श्री नायडू और उपराष्ट्रपति श्री वेलज़कज़ ने संयुक्त रूप से जारी किया। राष्ट्रपति श्री एब्दो बेनिटेज़ ने उपराष्ट्रपति श्री नायडू को सूचित किया कि महात्मा गांधी उनके लिए एक महान प्रेरणा थे।

13. दोनों देशों के राजनयिक अकादमियों के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए और दोनों उप राष्ट्रपतियों की उपस्थिति में उनका आदान-प्रदान किया गया।

14. इसके अलावा, पैराग्वे ने आश्वासन दिया कि वे विभिन्न संयुक्त राष्ट्र और बहुपक्षीय निकायों के चुनावों में भारत की उम्मीदवारी का समर्थन करेंगे।

15. पैराग्वे ने 2015 में भारत द्वारा शुरू की गई अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) पहल की सराहना करते हुए कहा कि वह शीघ्र ही आईएसए में शामिल होगा।

16. इस उच्च स्तरीय बैठक में लिए गए निर्णयों का पालन करने के लिए, 2019 में ही विदेश कार्यालय परामर्श का तीसरा दौरा आयोजित किया जाएगा।

17. उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने पैराग्वे के राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति को पारस्परिक रूप से सुविधाजनक दिनों में भारत आने का निमंत्रण दिया।

18. असंशियन से निकलने से पहले, उपराष्ट्रपति श्री नायडू ने भारतीय समुदाय के साथ बातचीत की और वे एक व्यापार फोरम की बैठक को संबोधित करेंगे।

नई दिल्ली
मार्च 07, 2019



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code