यात्रायें यात्रायें

क्रोएशिया की राजकीय यात्रा के दौरान राष्ट्रपति का प्रेस वक्तव्य

मार्च 26, 2019

महामहिम श्रीमती कोलिंदा ग्रैबर-केट्रोविच, क्रोएशिया की राष्ट्रपति,
क्रोएशियाई और भारतीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्य,
मीडिया के सदस्य,
देवियो और सज्जनों,
दोबार दान, शुभ दिन!


मुझे भारत की ओर से क्रोएशिया का पहला राजकीय दौरा करने पर प्रसन्नता है।मैं राष्ट्रपति महोदया और क्रोएशिया के लोगों को उनके हार्दिक स्वागत और अनुग्रहपूर्ण आतिथ्य के लिए धन्यवाद देता हूं।क्रोएशिया गणराज्य के सर्वोच्च पुरस्कार, टोमिस्लाव के राजा के ग्रैंड ऑर्डर से सम्मानित किए जाने पर मैं नितांत सम्मानित हूँ।अपने देश और अपने लोगों की ओर से, मैं इस सम्मान को बड़ी विनम्रता के साथ स्वीकार करता हूं।मैं यह पुरस्कार भारत-क्रोएशिया मैत्री को समर्पित करता हूँ। यह विशेष सम्मान हमारी दोस्ती को हमेशा के लिए मजबूत करेगा।

हमारे रिश्तों के सभी पहलुओं पर आज मेरी राष्ट्रपति महोदया के साथ बहुत ही उपयोगी विचार विमर्श हुआ।हमने अपने दोनों देशों के बीच मौजूद घनिष्ठ सांस्कृतिक संबंधों की सराहना की और आर्थिक संबंधों के विस्तार की हमारी प्रतिबद्धता की फिर से पुष्टि की।

मैं विभिन्न क्षेत्रों के एक बड़े व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल के साथ आया हूं, जो कल एक व्यापार मंच में भाग लेंगे।राष्ट्रपति महोदया और मैं संयुक्त रूप से मंच को संबोधित करेंगे।भारतीय अर्थव्यवस्था विशेष रूप से हमारे मेक इन इंडिया, स्मार्ट सिटीज और डिजिटल इंडिया कार्यक्रमों के तहत क्रोएशियाई कंपनियों के लिए प्रचुर अवसर प्रदान करती है।और मैं उन्हें भारत में प्रौद्योगिकी और निवेश संबंध बनाने के लिए आमंत्रित करता हूं।कई भारतीय कंपनियों ने पहले ही क्रोएशिया में फार्मास्यूटिकल्स, सूचना प्रौद्योगिकी और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्रों में निवेश कर चुकी हैं। अन्य भी इच्छुक हैं।

राष्ट्रपति महोदया और मैंने एक दूसरे की भाषाओं और संस्कृतियों को बढ़ावा देने के लिए ज़ाग्रेब विश्वविद्यालय के इंडोलॉजी विभाग और दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्यों पर जानकारी प्राप्त की। इंडोलॉजी विभाग में एक हिंदी चेयर की स्थापना हुई।लोगों की हिंदी सीखने में अत्यधिक रुचि होने के कारण, हमने इस चेयर को अगले तीन वर्षों तक जारी रखने के लिए आज एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।क्रोएशियाई लोगों की संस्कृत भाषा में भी विशेष रुचि है।संस्कृत के अध्ययन को बढ़ावा देने के लिए, हमने ज़गरेब विश्वविद्यालय के इंडोलॉजी विभाग के साथ अपना सहयोग तीव्र किया है।मैं कल विश्वविद्यालय में छात्रों को संबोधित करने के लिए उत्सुक हूं।

हम यह जानकर प्रभावित हैं कि क्रोएशिया ने पिछले साल लगभग 19 मिलियन पर्यटकों को आकर्षित किया।मुझे यह भी ज्ञात है कि भारत से क्रोएशिया जाने वाले पर्यटकों का प्रवाह हर साल तेजी से बढ़ रहा है।आज हमने जो पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता किया है, वह इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में हमारे संबंधों को गहरा करने में मदद करेगा।यह समान रूप से प्रभावशाली है कि क्रोएशिया ने वैश्विक स्तर पर विभिन्न खेलों में अपनी साख स्थापित की है, चाहे वह टेनिस, फुटबॉल, बास्केटबॉल या वाटर पोलो हो।पिछले साल फीफा विश्व कप में आपकी टीम की सफलता को पूरे भारत के लोगों ने सराहा था।मुझे उम्मीद है कि भारतीय खेल प्राधिकरण और ज़गरेब विश्वविद्यालय के काइन्सियोलॉजी विभाग के बीच आज हस्ताक्षरित समझौते से खेलों में क्षमता निर्माण के लिए संयुक्त पहल होगी।

इस वर्ष हमारे राष्ट्रपिता और शांति और अहिंसा के वैश्विक प्रतीक महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती है।क्रोएशिया में इस विशेष अवसर को चिह्नित करने के लिए, हमने सार्वजनिक प्रदर्शन के लिए क्रोएशिया की सरकार को महात्मा गांधी की प्रतिमा भेंट की।

क्रोएशिया ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में प्रभावशाली प्रगति की है और राष्ट्रपति महोदया और मैंने अनुसंधान और विकास परियोजनाओं में हमारे सहयोग को गहरा करने की संभावनाओं पर चर्चा की।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सुधार, बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण नियम और आतंकवाद का मुकाबला करने सहित चिंताओं के वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर राष्ट्रपति महोदया और मैंने अपने विचार साझा किए।मैंने पिछले महीने भारत में पुलवामा में हुए क्रूर और बर्बर आतंकी हमले की कड़ी निंदा के लिए राष्ट्रपति महोदया को धन्यवाद दिया।अपने सभी रूपों और अभिव्यक्तियों में इस बुरी ताकत को हराने और नष्ट करने के लिए एक मजबूत वैश्विक प्रतिक्रिया विकसित करने के लिए एक साथ काम करने के लिए सहमत हुए, और इस तरह के बर्बर कार्यों के लिए जिम्मेदार लोगों से जवाबदेही और कार्रवाई की मांग की।

हमने अगले साल क्रोएशिया की यूरोपीय संघ की आगामी अध्यक्षता पर चर्चा की। मैंने मैडम राष्ट्रपति को इस बात से अवगत कराया कि हम यूरोपीय संघ के साथ अपनी सामरिक भागीदारी के महत्व को समझते हैं।मैंने यह भी कहा कि वैश्विक स्थिरता को बनाए रखने के लिए और बहु-ध्रुवीय दुनिया को बनाए रखने के लिए यूरोप के लिए यह कितना महत्वपूर्ण है। मैं क्रोएशिया को उसकी आगामी अध्यक्षता के लिए सफलता की कामना करता हूं।

मैं एक बार फिर राष्ट्रपति ग्रैबर-कित्रोविक को उनके आतिथ्य के लिए धन्यवाद देता हूं और हमारे द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के लिए तत्पर हूं।

ह्वाला!
धन्यवाद!

ज़ागरेब
मार्च 26,2019



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code