यात्रायें यात्रायें

राष्ट्रपति द्वारा उनकी गाम्बिया की राजकीय यात्रा के दौरान प्रेस वक्तव्य

जुलाई 31, 2019

1. गाम्बिया-भारत संबंधों के लिए आज एक ऐतिहासिक दिन है | मेरे लिए भारत की ओर से गाम्बिया की पहली राजकीय यात्रा करना सम्मान की बात है | मैं राष्ट्रपति बैरो और गाम्बिया के लोगों की असाधारण गर्मजोशी और आतिथ्य के लिए आभारी हूँ | कल मेरे आगमन पर गाम्बिया के लोगों द्वारा मेरा भ्रातृत्व पूर्ण आलिंगन एवं स्नेह से अभिवादन किया गया |

2. भारत और गाम्बिया के बीच लम्बे समय से नजदीकी एवं मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध रहे हैं | दो एन्ग्लोफोंन लोकतन्त्रों के रूप में, आज, हम दोनों राष्ट्रमंडल के सदस्य हैं | मैं आज, बाद में गैम्बियन नेशनल असेंबली के विशेष सत्र को संबोधित करने के लिए उत्सुक हूं। मैं अपने मेजबानों को इस विशेष प्रयोजन के लिए धन्यवाद देता हूँ |

3. मैंने राष्ट्रपति बैरो के साथ उपयोगी चर्चा की | मैंने गाम्बिया में लोकतंत्र और समावेशी विकास को अधिक से अधिक बढ़ावा देने के उनके दृढ़ संकल्प पर और उनके द्वारा देश की स्थिरता और राष्ट्र निर्माण के लिए किए जा रहे उनके प्रयासों के लिए उन्हें बधाई दी | हमने अपने द्विपक्षीय संबंधों के पूरे स्पेक्ट्रम की समीक्षा की और आपसी हित के क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की।

4. मैंने गाम्बिया के साथ अपने पारंपरिक संबंधों को बढ़ाने और इसके विकास में योगदान देने के लिए भारत की गहरी प्रतिबद्धता से अवगत कराया। हम इस बात पर सहमत थे कि हमें अपने लोगों की प्रगति, समृद्धि और विकास के लिए दक्षिण-दक्षिण सहयोग की भावना में अपनी साझेदारी का विस्तार करना चाहिए | मैंने इस अवसर पर भारत-अफ्रीका संबंधों में हालिया परिवर्तन को भी व्यक्त किया | भारत के राष्ट्रपति के रूप में, पश्चिम अफ्रीका की अपनी तीन देशों की यात्रा के बाद, मैं केवल दो वर्षों में 10 अफ्रीकी देशों की राजकीय यात्राओं को पूरा करूंगा।

5. अपने द्विपक्षीय एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए, आज हमने पारंपरिक चिकित्सा और होम्योपैथी प्रणालियों के क्षेत्र में सहयोग पर एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। दो प्राचीन समाजों के रूप में, हमारे दोनों देशों द्वारा आयुर्वेद और पारंपरिक स्वास्थ्य प्रथाओं के अन्य रूपों के क्षेत्रों में दुनिया को देने के लिए बहुत कुछ है। हमें गैम्बिया से अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन फ्रेमवर्क समझौते के अनुसमर्थन का दस्तावेज प्राप्त हुआ। इससे दोनों देशों के बीच सौर ऊर्जा पर सहयोग के नए अवसर खुलेंगे और जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद मिलेगी। इसे आगे बढ़ाने के लिए, हम गाम्बिया के चुनिंदा गांवों में अनुदान आधारित सौर परियोजना को लागू करने के इच्छुक हैं।

6. हम जानते हैं कि गाम्बिया अपने राष्ट्रीय विकास योजना 2018-21 के तहत सुशासन, जवाबदेही, सामाजिक सामंजस्य, राष्ट्रीय सामंजस्य और पुनर्जीवित और परिवर्तित अर्थव्यवस्था को प्राप्त करने का इच्छुक है। मुझे आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि चर्चा के दौरान हमने सहयोग के विशिष्ट क्षेत्रों की पहचान की है। हमने कौशल विकास और कुटीर उद्योग परियोजना के समर्थन में आधा मिलियन अमेरिकी डॉलर की सहायता प्रदान करने का निर्णय लिया है | हम, अनुरोध के अनुसार और गैम्बियन पक्ष की प्राथमिकताओं के अनुसार न्यायपालिका, पुलिस, प्रशासन और तकनीकी विशेषज्ञता के क्षेत्रों में प्रशिक्षण देने के लिए भी सहमत हुए हैं |

7. वैश्विक मुद्दों पर, मैंने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय स्तरों पर भारत की उम्मीदवारी और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की हमारी स्थायी सदस्यता के लिए समर्थन करने के लिए राष्ट्रपति बैरो को धन्यवाद दिया। हम आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई को मजबूत करने के लिए संयुक्त राष्ट्र में घनिष्ठ समन्वय में काम करने के लिए भी सहमत हुए।

8. मैंने गाम्बियन सरकार द्वारा भारतीय समुदाय को देश में दिए गए समर्थन के लिए अपनी गहरी प्रशंसा भी जताई । राष्ट्रपति बैरो ने गाम्बिया की प्रगति और समृद्धि के लिए उनके द्वारा निभाई गई सकारात्मक भूमिका को स्वीकार किया।

9. भारत अपनी प्रगति और समृद्धि में गाम्बिया का भागीदार बनने के लिए प्रतिबद्ध रहेगा | हम आपसी भरोसे और विश्वास के आधार पर अपनी निरंतर मित्रता और निरंतर बढ़ती साझेदारी के लिए तत्पर हैं। मैंने राष्ट्रपति बैरो को भारत का दौरा करने के लिए आमंत्रित किया है। मैं एक बार फिर उनकी गर्मजोशी और अनुग्रहपूर्ण आतिथ्य के लिए उन्हें धन्यवाद देता हूं।

धन्यवाद! जारंगें जेफ!

बांजुल
जुलाई 31, 2019



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code