यात्रायें यात्रायें

मालदीव के एक्यूवेनी स्टेडियम में विदेश मंत्री का संबोधन (20 फरवरी, 2021)

फरवरी 20, 2021

पीपल्स मजलिस के अध्यक्ष मोहम्मद नशीद के माननीय अध्यक्ष
युवा, खेल और सामुदायिक सशक्तिकरण मंत्री अहमद महलौफ
विदेश मंत्री शाहिद अब्दुल्ला
उपसभापति, मंत्री, संसद सदस्य, उच्चायुक्त संजय सुधीर
देवियो और सज्जनों


आज इस अद्भुत स्थल पर आपके बीच आने का अवसर पाकर मुझे वास्तव में प्रसन्नता है। मुझे लगता है कि मैंने अनुकूल कपड़े और जूते नहीं पहने हैं और मैं ट्रैक पर दौड़ रहा हूँ, लेकिन मैं फिर भी आज आपसे बात करने के लिए व्यवस्थित होऊँगा ।

यह आधुनिक दौड़ पट्टी और खेल का मैदान उच्च गुणवत्ता वाले सामाजिक बुनियादी ढाँचे का एक बहुत अच्छा उदाहरण है जो आज मालदीव में भारतीय विकास सहायता के तहत बनाया जा रहा है।

दो साल पहले, फरवरी 2019 में, यहाँ एयर इंडिया इलेवन और मालदीव नेशनल टीम के साथ-साथ प्रेसिडेंट इलेवन के बीच क्रिकेट मैच खेला गया था जिसका नेतृत्व स्वयं राष्ट्रपति सोलीह ने किया था। मैं समझता हूँ कि आप में से कई लोगों ने उस मैच में भाग लिया था।

पिछले साल नवंबर में हमारे विदेश सचिव ने इस सिंथेटिक ट्रैक की नींव रखी थी और यह हमारा सौभाग्य था कि राष्ट्रपति सोलीह ने स्वयं पिछले महीने इस सुविधा का उद्घाटन किया।

मैं खेल मंत्री अहमद महलौफ, जो स्वयं एक उल्लेखनीय खिलाड़ी हैं, की इस परियोजना को रिकॉर्ड समय में पूरा कराने के लिए सराहना करता हूँ ।

दोस्तों ,


मालदीव सिर्फ खूबसूरत फ़िरोज़ा पानी का ही देश नहीं है। मालदीव एक युवा राष्ट्र है और मालदीव के लोगों में जबरदस्त खेल प्रतिभा है। मालदीव के युवाओं की शक्ति इसके सांसदों और मंत्रियों की युवावस्था से भी स्पष्ट है जो यहाँ उपस्थित हैं ।

मालदीवियों ने 2019 में पोर्ट लुइस में आयोजित हिंद महासागर द्वीप खेलों में पदकों की एक रिकॉर्ड संख्या और टेबल टेनिस और बैडमिंटन में अपने पहले स्वर्ण पदकों के साथ अपनी प्रतिभा साबित की है ।

यह उल्लेखनीय है, जैसा कि इससे पहले भी उल्लेख किया गया था, कि दक्षिण एशिया में सबसे तेज आदमी - हसन सईद- भी एक गर्वित मालदीवियन है, जिसे हमें यह कहने में खुशी होती है कि भारत में प्रशिक्षण प्राप्त हुआ है।

एक ऐसे देश के लिए, जहाँ एक मायने में जमीन से अधिक पानी है, यह एक उल्लेखनीय उपलब्धि है और मुझे विश्वास है कि आप मालदीव में 2025 में होने वाले आईओआईजी में नए रिकॉर्ड बनाएँगे।

हम राष्ट्रपति सोलिह द्वारा खेलों को दी गई उच्च प्राथमिकता का मान करते हैं। हमने नोट किया कि इस महीने की 4 तारीख को मजलिस को अपने वार्षिक संबोधन के दौरान उन्होंने कहा, मैं यहाँ उसे उधृत करता हूँ कि "जैसा कि माले और अन्य द्वीपों में खेलों के बुनियादी ढाँचे का विकास जारी है, हम खेल के क्षेत्र को उस हद तक विकसित करने में लगे हैं जो पहले कभी नहीं देखा गया।" और भारत को उस प्रयास में भागीदार बनने का सौभाग्य मिला है।

अध्यक्ष नशीद, आप कई मायनों में एक प्रेरणा हैं, लेकिन आप खेल जगत के लोगों के लिए भी एक प्रेरणा हैं। मुझे क्रिकेट, टेनिस और हॉकी में आपकी रुचि का पता है, और मुझे लगता है कि विदेश मंत्री शाहिद अब्दुल्ला को विशेष रूप से बैडमिंटन में दिलचस्पी है और मैं जानता हूँ कि एक खेल देश के रूप में आप में से हर एक की कम से कम एक और शायद कई खेलों में रुचि होगी।

मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि मालदीव के लोगों की रुचि और आकाँक्षाओं को पूरा करने के लिए, खेलों के बुनियादी ढाँचे के विकास का समर्थन करने के लिए, भारत ने मालदीव में खेलों के बुनियादी ढाँचे के लिए 40 मिलियन डॉलर की स्टैंडअलोन लाइन ऑफ़ क्रेडिट की पेशकश की है। हमें उम्मीद है कि औपचारिकता पूरी होने के बाद इस नई एलओसी पर जल्द ही हस्ताक्षर किए जाएँगे।

यह फंडिंग न तो किसी विशिष्ट खेल के लिए है और न ही किसी विशिष्ट द्वीप के लिए। यह सभी द्वीपों में कई खेल सुविधाओं के लिए है ताकि मालदीव में जितनी बड़ी संख्या में संभव हो सके, हमारे मित्र लाभ उठा सकें।

खेलों में हमारा सहयोग निश्चित रूप से नया नहीं है। भारत अलग-अलग खेलों में मालदीव के खिलाड़ियों को कोचिंग देने में शामिल रहा है, जिनमें से कई ने पिछले हिंद महासागर द्वीप खेलों और दक्षिण एशियाई खेलों में पदक जीते थे।

जैसा कि आप सभी जानते हैं, भारत ने आपकी क्रिकेट प्रतिभा के लिए एक व्यापक क्रिकेट कोचिंग कार्यक्रम भी शुरू किया है। मुझे सूचित किया गया है कि कोच और अंपायरों का कोचिंग कार्यक्रम पहले ही शुरू हो चुका है और आपके 30 सदस्यीय पुरुष टीम और 30 सदस्यीय महिला टीम की कोचिंग जल्द ही चेन्नई में शुरू होगी। भारत द्वारा हुलूमाले में बनाया जा रहा, क्रिकेट-कोचिंग सेंटर के साथ अत्याधुनिक क्रिकेट स्टेडियम, निश्चित रूप से मालदीव में क्रिकेट की प्रतिभा को बढ़ावा देगा।

मैं उस दिन का इंतजार कर रहा हूँ जब मैं एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट में मालदीव की टीम को खेलते देख सकूँगा।

दोस्तों,

मुझे इस बात पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है कि कैसे मालदीव में कठिन परिस्थितियों में भारत पहला उत्तरदाता रहा है, क्योंकि मित्र इसीलिए ही होते हैं। आपने पिछले साल मार्च से अब तक सभी कोविड महामारी से संबंधित सहायता देखी है जब हम सभी ने मिलकर महामारी का सामना किया था।

मालदीव ने भारत में ही वैक्सीन रोल-आउट के 96 घंटे के भीतर भारत निर्मित टीके प्राप्त किए। आज फिर, मैं अपने साथ भारत की सरकार और लोगों की ओर से कोविड वैक्सीन की और 100,000 खुराक लाया हूँ । मुझे विश्वास है कि जब हम महामारी से उभरेंगे, तो हम अपनी साझेदारी के साथ पहले से कहीं अधिक मजबूत होकर उभरेंगे।

जबकि हमारे द्विपक्षीय संबंध बहुपक्षीय हैं, एक महत्वपूर्ण आयाम यह है कि भारत एक विश्वसनीय और भरोसेमंद विकास भागीदार है। भारत की विकास सहायता का उद्देश्य मालदीव में युवाओं की आकाँक्षाओं का समर्थन करना है। यह बुनियादी ढाँचे के निर्माण, आर्थिक आधार को व्यापक बनाने और अर्थव्यवस्था को अधिक मजबूत और लचीला बनाने में मालदीव सरकार की मदद कर रहा है।

जबकि हमारे बड़े ऋण और अनुदान परियोजनाएँ मालदीव में सामाजिक-आर्थिक अवसंरचना के दीर्घकालिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान देंगी, वहीँ, छोटी और तीव्रगामी सामुदायिक परियोजनाएँ, जो हम अब मालदीव की लंबाई और चौड़ाई में शुरू कर रहे हैं उनका उद्देश्य द्वीप समुदायों के जीवन पर तत्काल और सकारात्मक प्रभाव डालना है ।

चूँकि इन परियोजनाओं का चयन, टेंडर और कार्यान्वयन, स्थानीय परिषदों द्वारा किया जाता है और द्वीपों में समुदायों की जरूरतों से संचालित होता है, वे स्थानीय अर्थव्यवस्था को आगे और बढ़ावा देंगी और द्वीपों में रोजगार के अवसर पैदा करने में योगदान देंगी ।

दोस्तों ,


मालदीव में राजनीतिक दलों के एक बहुत व्यापक स्पेक्ट्रम के इतने सारे सांसदों से बात करना मेरे लिए सम्मान की बात है। लोकतंत्र में आस्था रखना वह एक सामान्य धागा है जो हमारे दोनों देशों को बाँधता है। और, मालदीव में लोकतंत्र आपके द्वारा, मजलिस में आपके कार्य और आपके राष्ट्र के प्रति आपकी प्रतिबद्धता के लिए अनुकरणीय है। लोकतंत्र की इस चुनी हुई राह पर भारत, आपकी विकास प्राथमिकताओं की सहायता करने और आपके लोकतांत्रिक संस्थानों को मजबूत करने के लिए आपके साथ खड़ा है। भारतीय, बड़ी और छोटी परियोजनाओं के लाभार्थी मालदीव के लोग हैं। लोगों के चुने हुए प्रतिनिधियों के रूप में, हम इन परियोजनाओं के सफल कार्यान्वयन के लिए आपका समर्थन चाहते हैं, जो मालदीव और उसके लोगों के लिए विकास और समृद्धि लाएँगे।

मैं, जून 2019 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की ऐतिहासिक यात्रा से कुछ साझा करने के साथ अपनी बात समाप्त करता हूँ जब उन्होंने मजलिस को संबोधित किया और आप में से कई से मुलाकात की। उन्होंने हमारे देशों की अद्वितीय प्राकृतिक निकटता के बारे में बताया और टिप्पणी की कि ‘नेबरहुड फर्स्ट हमारी प्राथमिकता है; और पड़ोसियों में मालदीव प्राथमिकता है’ '।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत और मालदीव एक ही बगीचे में दो फूलों की तरह हैं। भारत और मालदीव के बीच संबंधों के बारे में जो कहा जा सकता है, शायद अन्य देशों के बारे में नहीं कहा जा सकता है क्योंकि केवल हमारे दोनों देश ऐतिहासिक, भौगोलिक, भू-गर्भ, और सांस्कृतिक रूप से पड़ोसी हैं। चूँकि आप सभी, जमीनी स्तर पर लोगों से सीधे जुड़े हुए हैं, इसलिए मैं आपसे आग्रह करता हूँ कि हमारे देशों, हमारी सरकारों और हमारे लोगों के बीच मित्रता के इस संदेश को यथासंभव व्यापक रूप से पहुँचाएँ।

मुझे इस आयोजन का हिस्सा बनाने के लिए एक बार फिर धन्यवाद।



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code