यात्रायें यात्रायें

ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर की टिप्पणी

फरवरी 12, 2022

धन्यवाद मारिस!

मंत्री पायने और मीडिया के मित्रों,


सबसे पहले मैं आपका और मेरे प्रतिनिधिमंडल का ऑस्ट्रेलिया और मेलबर्न में ,जहां मैं पहली बार आया हूं, का स्वागत करने, आतिथ्य सत्कार करने तथा बेहतरीन व्यवस्था करने के लिए मारिस को धन्यवाद देना चाहूंगा।

मेरे विचार से यह कोविड के बाद पिछले दो वर्षों में हमारी पहली मंत्रिस्तरीय यात्रा है और हमारी चर्चा बहुत उपयोगी और व्यापक रही है जिसमें कोविड के अत्यन्त कठिन दौर में हमारे संबंधों में आयी प्रगाढ़ता प्रतिबिंबित होती है।

हमारी 12वीं विदेश मंत्रियों की फ्रेमवर्क वार्ता (एफएमएफडी) और समान रूप से महत्वपूर्ण विदेश मंत्रियों की साइबर फ्रेमवर्क वार्ता अभी समाप्त हुई है। साइबर फ्रेमवर्क वार्ता हमारे प्रधानमंत्रियों के बीच वर्चुअल शिखर सम्मेलन का प्रत्यक्ष परिणाम है जो जून में आयोजित किया गया था, जब हमने वास्तविक रूप में अपने संबंधों को एक व्यापक रणनीतिक साझेदारी के रूप में विस्तार दिया था।

मैं आज हुई हमारी चर्चाओं के बारे में बात करना चाहूंगा। मुझे लगता है कि हमने बहुत सार्थक, उपयोगी और व्यापक चर्चा की। इसमें हमने अपनी द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्‍विक भागीदारी के विस्‍तृत दायरे को देखा। मैं आस्ट्रेलिया सरकार की ओर से उन अतिरिक्त संसाधनों की घोषणाओं का स्वागत करता हूं जो हमारी साझेदारी को और गहरा करने के लिए प्रतिबद्ध होगी।

हमने कोविड की चुनौती से निपटने और मित्र देशों की, विशेष रूप से कोविड टीकों की मदद करने के बारे में भी अनुभव साझा किए। हमने इसके साथ ही अधिक विश्वसनीय और लचीली आपूर्ति श्रृंखला बनाने तथा हिंद-प्रशांत क्षेत्र में व्यापक और समावेशी विकास सुनिश्चित के लिए खुद को प्रतिबद्ध किया है।

मैं आस्ट्रेलिया सरकार द्वारा अपनी सीमाएं खोले जाने का स्वागत करता हूं। यह कदम भारत में फंसे उन लोगों, विशेषकर छात्रों,अस्थायी वीजा धारकों और अपने परिवार से अलग हो गए लोगों के लिए काफी मददगार साबित होगा। यह वाकई एक सराहनीय कदम है। मुझे कल कुछ छात्र प्रतिनिधियों से मिलने का मौका मिला था। वह आस्ट्रेलिया सरकार के इस फैसले के बारे में जानकर काफी उत्साहित थे।

एक बार फिर, मैं सीईसीए वार्ता पर मंत्री तेहान की अपने समकक्ष श्री गोयल के साथ हुई चर्चा के बारे में आपके सकारात्मक मूल्यांकन को दोहराना चाहता हूं। हम आशा करते हैं कि इन चर्चाओं में इस वर्ष तेजी से प्रगति होगी।

मंत्री पायने और मैंने आज संक्षेप में हमारे रक्षा और सुरक्षा सहयोग में हुई प्रगति पर चर्चा की जो हमारे बढ़ते रणनीतिक अभिसरण को दर्शाता है। मुझे कल सुबह मंत्री डटन के साथ इनमें से कुछ मुद्दों पर बात करने का अवसर मिला था।

साइबर फ्रेमवर्क वार्ता हमारे फ्रेमवर्क समझौते के तहत हमारी संयुक्त गतिविधियों की समीक्षा करने में विशेष रूप से उपयोगी रही। हमने अपनी कुछ साझा चुनौतियों और इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में घनिष्ठ सहयोग के अवसरों पर चर्चा की।

मंत्री पायने और मैंने आतंकवाद और उग्रवाद के बारे में भी चिंताओं को साझा किया। सीमापार आतंकवाद के बारे में हमारी गंभीर चिंताएं हैं और बहुपक्षीय मंचों सहित सभी स्तर पर आतंकवाद विरोधी सहयोग को गहरा करना हमारा साझा प्रयास है।

हमने क्षेत्रीय, बहुपक्षीय और वैश्विक मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की। दक्षिण एशिया, दक्षिणपूर्व एशिया और सामरिक रूप से महत्वपूर्ण हिंद-प्रशांत क्षेत्र पर भी चर्चा की गई और जैसा कि मैंने कल क्वाड बैठक के बाद किया था आज फिर से इस बात पर जोर दिया कि सभी देशों की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता का सम्मान करते हुए हम एक उदार लोकतंत्र के रूप में, एक नियम-आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था, अंतर्राष्ट्रीय जल क्षेत्र में आवागमन की स्वतंत्रता, कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने तथा सभी के विकास और सुरक्षा के लिए मिल कर काम करना करना जारी रखेंगे।

मैं एक बार फिर से मारिस, ऑस्ट्रेलिया सरकार और विक्टोरिया राज्य को गर्मजोशी से हमारा स्वागत करने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। हमारे बीच जो प्रगति हुई है उसके लिए मैं हमारे उच्चायुक्तों और उनकी टीम के सराहनीय कार्यों की आपके साथ मिलकर प्रशंसा करता हूं। इसके साथ ही आपकी सुविधानुसार मैं आपको भारत आने का निमंत्रण देता हूं।

एक बार फिर से आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!



टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code