मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

वाणिज्यिदूतीय दस्तावेजों के एपोस्टिल / अभिप्रमाणन के संदर्भ में सूचना

जुलाई 29, 2021

हेग एपोस्टिल कन्वेंशन, 1961 के माध्यम से दस्तावेज के मूल देश के सक्षम प्राधिकारी द्वारा एपोस्टिल (ई-एपोस्टिल सहित) किए जाने के पश्चात् किसी भी सदस्य देश में विदेशी दस्तावेजों के इस्तेमाल के लिए अभिप्रमाणन कराने संबंधी आवश्यकता खत्म हो जाती है। इसलिए, भारत में इस्तेमाल हेतु किसी एपोस्टिल दस्तावेज का भारतीय मिशन/पोस्ट द्वारा सत्यापन या अभिप्रमाणन की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि भारत हेग एपोस्टिल कन्वेंशन का सदस्य है। हेग एपोस्टिल कन्वेंशन की विस्तृत जानकारी और इसके सदस्य देशों की सूची: https://www.hcch.net/en/instruments/conventions/specialised-sections/apostille पर उपलब्ध है।

विदेश मंत्रालय ने भारत में इस्तेमाल के लिए एपोस्टिल दस्तावेज के अभिप्रमाणन की किसी भी आवश्यकता को खत्म करने हेतु भारत के सभी राज्य/संघ राज्य क्षेत्रों की सरकारों, शैक्षणिक संस्थानों आदि को दिशा-निर्देश जारी किए हैं। ये दिशानिर्देश विदेश मंत्रालय की वेबसाइट (https://www.mea.gov.in/Images/amb/apostille_circular_new.pdf) पर भी अपलोड किए गए हैं।

इस संदर्भ में किसी भी तरह की जानकारी/स्पष्टीकरण के लिए, सीपीवी प्रभाग, विदेश मंत्रालय, नई दिल्ली से uscpv@mea.gov.in / dircpv@mea.gov.in पर संपर्क किया जा सकता है।

नई दिल्ली
जुलाई 29, 2021

Comments
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code